सीजी में वजूद नहीं उनके स्टार प्रचारक भी आ रहे, यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश की वैशाली नगर में सभा

छत्तीसगढ़ में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के साथ प्रदेश में तीसरी शक्ति बनने का सपना देखने वाली अन्य राजनीतिक पार्टियां भी चुनाव प्रचार में कोई कसर नहीं छोड़ रही।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 15 Nov 2018, 10:52 PM IST

दुर्ग. छत्तीसगढ़ में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के साथ प्रदेश में तीसरी शक्ति बनने का सपना देखने वाली अन्य राजनीतिक पार्टियां भी चुनाव प्रचार में कोई कसर नहीं छोड़ रही। इस क्रम में गुरुवार को यूपी के दो पूर्वमंत्री समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार के लिए यहां पहुंचे। इसके अलावा यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी 17 नवंबर को पहुंचने वाले हैं। अखिलेश वैशाली नगर के बैकुंठ धाम से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में सभा करेंगे।

सपा के विस्तार के लिए उतारे 17 प्रत्याशी
सपा के प्रचार के लिए पहुंचे यूपी के पूर्व मंत्री और वर्तमान विधान परिषद सदस्य डां. राजपाल कश्यप ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि सपा के विस्तार की रणनीति के तहत गोंडवाना पार्टी से गठबंधन कर 17 प्रत्याशी उतारे गए हैं। उन्होंने कहा कि देश की समस्याओं का समाधान समाजवादी विचारधारा से ही संभव है। इसी विचारधारा को लेकर पार्टी प्रत्याशियों का प्रचार कर रहे हैं। उनके साथ यूपी के पूर्व मंत्री जयकिशन साहू, प्रदेश महासचिव मंगलचरण पांडेय, दुर्ग के सपा प्रत्याशी बृजेश यादव व दुर्ग जिला यादव समाज के अध्यक्ष संतूलाल यादव भी थे।

 

#cgelection2018

पंजाब के खैरा, गुना के सिद्धू ने ली सिख समाज की बैठक
कांग्रेस के प्रचार मुहिम के तहत गुरुवार को पंजाब के नेता गुरूदेव सिंह खैरा और गुना के गुरूदीप सिंह सिद्धू यहां पहुंचे। खैरा पंजाब के विधायक हैं और सिद्धू वरिष्ठ कांग्रेसी नेता नवजोत सिंह सिद्धू के रिश्तेदार हैं। दोनों नेताओं ने सांसद मोतीलाल वोरा और कांग्रेस प्रत्याशी अरुण वोरा के साथ सिख समाज के प्रतिनिधियों की बैठक ली। नेताओं ने कांग्रेस द्वारा सिख समाज के 3 लोगों को प्रदेश में टिकट देने का हवाला देकर समर्थन की मांग की।

यूपी-ओडिशा के पदाधिकारी साध रहे समाजों को
भाजपा के चुनाव अभियान में यूपी और ओडिशा के संगठन से जुड़े नेता सहयोग कर रहे हैं। इनमें लखनऊ के विधायक व प्रदेश कार्यसमिति के आधा दर्जन पदाधिकारी पहुंचे हैं। इसके अलावा ओडिशा का बलांगीर और कालाहांडी जिले के भी 10-10 संगठन से जुड़े हुए नेता पहले ही कमान संभाल चुके हैं। बद्रीनारायण पटनायक, मनोज कुमार मेहेर, दोनों ही राज्यों के कार्यकर्ता अपने राज्यों से जुड़े समाजों की बैठकें लेकर पक्ष में मतदान करने की अपील कर रहे हैं।

Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned