दिल्ली से कम शुल्क में आरटीपीसीआर जांच कराना चाहती है छत्तीसगढ़ सरकार

निजी लैब में देना पड़ रहा है 1600 रुपए .

By: Abdul Salam

Published: 01 Dec 2020, 11:43 PM IST

भिलाई. दिल्ली में आरटीपीसीआर जांच की दर को 24 सौ से घटाकर सीधे 8 सौ रुपए करने के बाद छत्तीसगढ़ सरकार ने भी इस दिशा में मंथन शुरू कर दिया है। छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने संकेत दिए हैं कि आरटीपीसीआर जांच दिल्ली से भी कम शुल्क में छत्तीसगढ़ में हो, यह प्रयास किया जा रहा है। अगर यह फैसला लिया जाता है तो जांच करवाने वालों की संख्या में इजाफा होगा। वहीं कम से कम दर पर लोग निजी लैब में भी जाकर जांच करवा सकेंगे।

एक ही तरह की जांच फिर यहां रेट अधिक क्यों
छत्तीसगढ़ के निजी लैब में कोविड-19 की आरटीपीसीआर जांच का शुल्क 1,600 रुपए प्रति व्यक्ति लिया जा रहा है। दिल्ली में इसे घटाकर अब 800 रुपए कर दिया गया है। जांच वही है तब दिल्ली और छत्तीसगढ़ के रेट में यह बड़ा अंतर क्यों है। आम लोग अधिक से अधिक कोविड-19 का जांच करवाए, इसके लिए शुल्क को जितना संभव हो सके कम से कम किया जाना चाहिए। यह मांग विपक्ष भी सरकार से कर रही है।

जिला में हर दिन निजी लैब में करवा रहे 100 से अधिक लोग जांच
जिला में इस वक्त सरकारी फीवर क्लीनिंक को छोड़ दें तो निजी लैब में कम से कम 100 लोग जांच करवाने पहुंच रहे हैं। अगर शासन से तय शुल्क कुछ कम कर दिया जाता तो जांच कराने के लिए आने वालों की संख्या और बढ़ सकती है। सरकारी फीवर क्लीनिंक में आरटीपीसीआर जांच कम से कम हो रही है।

मरीजों की संख्या पर नजर
छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य विभाग की नजर पॉजिटिव मरीजों की संख्या पर है। मरीज जब तक निकल कर फीवर क्लीनिंक तक नहीं आते तब तक कोविड-19 की संख्या कम या ज्यादा नहीं होती। जिला में कोरोना जांच की संख्या बढ़ाने में जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेने की बात भी कही जा रही थी, अब तक इस दिशा में ठोस पहल नहीं हुआ है। जिसकी वजह से जांच की संख्या दुर्ग में कम होती जा रही है।

छुपा रहे जांच की संख्या
जिला में नवंबर 2020 के दूसरे सप्ताह से आरटीपीसीआर जांच, ट्रू-नॉट जांच, रेपिड एंटीजेन से कितने लोगों की जांच की जा रही है, उसकी संख्या को बताया जा रहा था। जो इसके बाद बंद कर दिया गया। असल में जिला में जांच की संख्या एक समय में 1500 तक पहुंच गई थी। इसके बाद वह घटकर 400 के आसपास आ गई। कोविड-19 से संघर्ष के लिए सबसे जरूरी अधिक से अधिक जांच करना है। इसको लेकर केंद्र सरकार की ओर से समय-समय पर गाइड लाइन भी जारी की जा रही है। बावजूद इसके जिला में जांच की संख्या कम होती जा रही है।

राज्य सरकार भी करे मंथन
वैशाली नगर क्षेत्र के विधायक विद्यारतन भसीन ने कहा है कि दिल्ली में जिस तरह से कोविड-19 जांच के लिए आरटीपीसीआर जांच के शुल्क को 2400 रुपए से घटाकर अब 800 रुपए कर दिया गया है। वैसे ही छत्तीसगढ़ में भी इसकी जांच कम से कम दर पर हो, इसके लिए राज्य सरकार मंथन करे।

हमारे यहां भी जांच का दर कम करने स्वास्थ्य मंत्री से करुंगा आग्रह
छत्तीसगढ़ वेयरहाउस निगम मंडल के अध्यक्ष व दुर्ग के विधायक अरुण वोरा ने कहा कि दिल्ली सरकार ने बेहतर कदम उठाया है, अब वहां आरटीपीसीआर जांच 800 रुपए में हो रही है। हमारे छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से भी आग्रह करुंगा कि प्रदेश में भी इसकी दर को कम किया जाए। जिससे अधिक से अधिक लोग जांच कराएं।

हमारे यहां भी जांच शुल्क कम करने किया जा रहा विचार
छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा कि दिल्ली में आरटीपीसीआर जांच के शुल्क को 800 रुपए कर दिया गया है, अच्छी पहल है। छत्तीसगढ़ में भी आरटीपीसीआर जांच के शुल्क को कम करने को लेकर विचार किया जा रहा है। दिल्ली से भी कम दर पर यहां के लोगों को यह सुविधा दिलाने पर चर्चा की जा रही है।

COVID-19
Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned