Coronavirus: छत्तीसगढ़ के सभी निगमों में धारा 144 लागू, स्वास्थ्यकर्मियों और डॉक्टरों को मिलेगा विशेष भत्ता, Video

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस का पहला मरीज मिलने के बाद राज्य सरकार ने गुरुवार को प्रदेश के सभी निगमों में धारा 144 लागू कर दिया है। (Coronavirus in Chhattisgarh)

By: Dakshi Sahu

Updated: 19 Mar 2020, 04:02 PM IST

भिलाई. छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस का पहला मरीज मिलने के बाद राज्य सरकार ने गुरुवार को प्रदेश के सभी निगमों में धारा 144 लागू कर दिया है। राजधानी रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर सहित सभी निगमों में अब भीड़ को किसी भी सार्वजनिक स्थान पर एकत्रित होने की इजाजत नहीं दी जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के जनता के नाम संदेश जारी करते हुए लोगों से धैर्यपूर्वक इस मुश्किल घड़ी से निपटने की अपील की है। साथ डर की जगह जागरूकता को प्राथमिकता देने की बात कही है। वहीं सीएम ने कोरोना वायरस पीडि़तों के उपचार में लगे स्वास्थ्य अमला के डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को विशेष भत्ता देने की भी घोषणा की है। लोगों से कहा है कि यदि विदेश यात्रा करके कोई लौटा है तो उसकी जानकारी तत्काल टोल फ्री नंबर या फिर स्वास्थ्य केंद्र में उपलब्ध कराएं। धारा 144 लागू करने के पीछे तर्क देते हुए कहा कि यह भीड़ में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लिया गया फैसला है। जिसका सम्मान सभी नागरिक करें।

एम्स में चल रहा कोरोना पीडि़त युवती का उपचार
छत्तीसगढ़ में कोरोना के पहले मामले की पुष्टि राजधानी रायपुर में की गई है। रायपुर निवासी युवती हाल ही में लंदन से लौटी थी। संक्रमण की शिकायत के बाद बुधवार उसे एम्स में भर्ती कराया गया। जहां एम्स प्रबंधन ने युवती के कोरोना पॉजीटिव होने की पुष्टि करते हुए उसे आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया है। विशेषज्ञ डॉक्टरों की निगरानी में युवती का उपचार चल रहा है। इधर छत्तीसगढ़ में पहला कोरोना पॉजीटिव केस मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने एम्स प्रबंधन से युवती और उसके परिजनों के बारे में जानकारी लेते हुए लोगों को अलर्ट रहने की सलाह दी है।

दुर्ग में विदेश प्रवास से लौटे व्यक्ति का सैंपल जांच के लिए भेजा एम्स
इधर विदेश प्रवास के बाद दुर्ग जिला लौटने वाले लोगों को जांच के लिए भटकना पड़ रहा है। विदेश प्रवास से लौटे कोरोना को लेकर आंशकित एक परिवार बुधवार को दुर्ग जिला अस्पताल पहुंचा और कोरोना सैंपल देने के लिए घंटे भर से अधिक फार्म की तलाश करता रहा। डॉक्टर की अनुपस्थिति के बाद वह 16 नंबर कमरा वापस पहुंचा। इसके बाद ब्लड बैंक, लेकिन उसे फार्म नहीं मिला। बाद में जिला अस्पताल के अधिकारियों ने उसका सैंपल लेकर रायपुर एम्स भेज दिया।

108 लोगों की कराई गई जांच
दुर्ग जिले में विदेश यात्रा करके लौटने वाले अब तक 108 लोगों की जांच कराई जा चुकी है। प्रदेश में सबसे ज्यादा दुर्ग जिले में विदेशों में रहने वाले भारतीय लौटे हैं। जिसमें कुछ संक्रमित देशों की यात्रा करने वाले लोग भी शामिल हैं। सीएमएचओ डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर ने बताया कि लंदन से आई युवती के घर पहुंचकर स्वास्थ्य विभाग ने टीम ने आईसोलेशन और जांच की प्रक्रिया पूरी की है। वहीं लोगों की ट्रैवलिंग हिस्ट्री पर भी निगरानी रखी जा रही है। अभी तक दुर्ग जिले में 147 लोगों को ट्रैवलिंग हिस्ट्री के आधार पर ट्रेस किया जा चुका है।

आइसोलेशन वार्ड हुआ सेंट्रालाइज
कोरोना वायरस के संभावित मरीजों को एक साथ विशेष निगरानी में रखने के लिए शहर से बाहर एस के अस्पताल चिखिली में 40 बिस्तर का विशेष आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। जहां पर सभी संभावितों को 14 दिनों तक के लिए रखा जाएगा। विशेष प्रशिक्षित डॉक्टर मरीजों की नियमित जांच करेंगे। वहीं कर्मचारी मिनट टू मिनट रजिस्टर मेंटेन करेंगे। एसके अस्पताल चिखली में बनाए गए स्पेशल वार्ड का निरीक्षण करने कलेक्टर अंकित आंनद व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बुधवार को पहुंचे थे।

china Coronavirus Coronavirus causes
Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned