टिकट कटने पर महिला पार्षद ने सोशल मीडिया पर दिखाया ऐसा गुस्सा, तेज तर्रार नेत्री सरोज पांडेय हो गई ग्रुप से लेफ्ट

रायुपर नाका वार्ड की भाजपा पार्षद कविता तांडी ने अपनी नाराजगी कुछ अलग तरह से व्यक्त की। उनका यह तरीका भी तहलका मचाने वाला रहा। कविता अपनी पार्टी भाजपा की एक वाट्सऐप ग्रुप जुड़ी हैं। इस ग्रुप के एडमिन भाजपा के संभागीय प्रवक्ता सतीश समर्थ हैं।

दुर्ग@Patrika. नगर निगम चुनाव में जिन्हें पार्टी का टिकट नहीं मिला वे अपना गुस्सा अलग-अलग तरह से उतार रहे हैं। कोई बगावत का ऐलान कर रहा है तो कोई सोशल मीडिया में नेताओं को कोस रहा है। कोई वार्ड में बैठक आयोजित कर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है। कोई किसी अन्य तरह से अपनी भड़ास निकाल रहा है। रायुपर नाका वार्ड की भाजपा पार्षद कविता तांडी ने अपनी नाराजगी कुछ अलग तरह से व्यक्त की। उनका यह तरीका भी तहलका मचाने वाला रहा। कविता अपनी पार्टी भाजपा की एक वाट्सऐप ग्रुप जुड़ी हैं।

डीपी में गुस्से से तमतमाता हुआ अपना फोटो लगाया

इस ग्रुप के एडमिन भाजपा के संभागीय प्रवक्ता सतीश समर्थ हैं। कविता ने गुस्सा के मारे इस ग्रुप का आइकान ही बदल दिया। इस गु्रप का नाम पहले भाजुयुमो प्रदेश उपाध्यक्ष था, जिसे बदलकर डॉ.देवनारायण तांडी कर दिया गया। डॉ. तांडी उनके पति हैं और नगर निगम में सभापति रह चुके है। कविता ने डीपी में गुस्से से तमतमाता हुआ अपना फोटो लगाया। इसका यह असर हुआ भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री व राज्यसभा सांसद सरोज पांडेय ग्रुप से तत्काल लेफ्ट हो गईं।

Read More : आंख नोचने जैसे बयान देने वाली बीजेपी की तेज तर्रार नेत्री सरोज पांडेय सांसद के बयान पर चुप क्यों?

एडमिन की भी बोलती बंद

इस ग्रुप का आइकान बदलते ही सबसे पहले सरोज पांडेय का एक सुरक्षा गार्ड चेतन शर्मा लेफ्ट हुआ। उसके फौरन बाद दूसरा सुरक्षा गार्ड तारा सोनी ने भी ग्रुप छोड़ दिया। इसके तत्काल बाद सांसद सरोज भी लेफ्ट हो गईं। कविता ने बिना कुछ कहे अपना गुस्सा इस तरह उतारा कि ग्रुप में किसी की कुछ कहने की हिम्मत ही नहीं हुई। कविता ने इस बार भी टिकट मांगा था। उन्हें टिकट मिलने की उम्मीद भी थी।

Read More : राज्यसभा चुनाव: बीजेपी उम्मीदवार सरोज पाण्डेय बोली- स्थितियां स्पष्ट है जीत हमारी तय है..

सोशल मीडिया में चर्चा

वह चुनाव लडऩे की तैयारी कर रही थी। भाजपा के नेताओं ने उनका नाम सूची में होने का भरोसा भी दिलाया था। जब सूची जारी हुई तो उसका नाम नहीं था। टिकट कटने पर उसने किसी को कुछ नहीं कहा। कोई टिप्पणी नहीं की। सारा गुस्सा उसने पार्टी के वाट्सऐप ग्रुप पर उतार दिया। ग्रुप एडमिन भी चुपचाप रहने में अपनी भलाई समझी। कविता के इस गुस्से का इजहार करने का तरीके सोशल मीडिया में चर्चा में है।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
Satya Narayan Shukla
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned