... ब्रेकिंग न्यूज : बीएसपी में क्रेन गिरी, केबिन काटकर निकाले कर्मी को, हॉस्पिटल में दाखिल

आरएसएम के शिपिंग एरिया में हुआ हादसा.

By: Abdul Salam

Updated: 10 May 2020, 04:07 AM IST

भिलाई. भिलाई इस्पात संयंत्र के रेल स्ट्रक्चर मिल (आरएसएम) स्थित शिपिंग एरिया में नाइट शिफ्ट के दौरान शनिवार व रविवार के दरमियानी रात करीब ११ बजे एक क्रेन क्रमांक-१६ ऊपर से नीचे गिर गई। क्रेन धड़ाम की आवाज के साथ गिरी, यह सुनकर आसपास के कर्मचारी भी भागते हुए मौके पर पहुंचे। केबिन में क्रेन ऑपरेटर मंसाराम ठाकुर मौजूद थे। बीएसपी कर्मचारी मंसाराम केबिन में फंस गए थे। कर्मियों ने आनन-फानन में बीएसपी के दमकल विभाग को खबर दी। तब उस टीम ने केबिन को काटकर कर्मी को बाहर निकाला।

शिपिंग क्रेन में हुआ हादसा
भिलाई इस्पात संयंत्र के रेल स्ट्रक्चर मिल मेें रेल को जिस स्थान पर जांच के लिए रखा जाता है। वहां से जांच के बाद शिपिंग क्रेन उठाकर रेलवे के रेक पर रखती है। इस तरह से शिपिंग एरिया में यह क्रेन काम करती है। क्रेन ऑपरेटर जब इस क्रेन को ऑपरेट कर रहा था, तब यह क्रेन ऊपर से नीजे आकर गिरी।

रेल हिप पर गिरी क्रेन
यह क्रेन ऊपर से सीधे रेल हिप पर आकर गिरी। जिसके भीतर मंसाराम थे। क्रेन के केबिन का जिस स्थान से दरवाजा होता है, वह जगह जाम हो गया। जिसके कारण वहां से निकल पाना संभव नहीं था। अब सारे कर्मचारी ऑपरेटर को देख रहे थे, लेकिन कोई मदद करने की स्थिति में नहीं था। यहां मौजूद किसी कर्मचारी को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि किस तरह जल्द ही क्रेन ऑपरेटर को भीतर से बाहर निकाल लिया जाए। एक ने दमकल विभाग को इसकी सूचना दी।

दमकल विभाग की टीम ने काटा केबिन
बीएसपी के दमकल विभाग की टीम मौके पर पहुंची। तब तक मौजूद कर्मचारी क्रेन ऑपरेटर को दिलासा दे रहे थे कि जल्द निकाल लिया जाएगा। वह बेहद घबराया हुआ था। दमकल विभाग की टीम मौके पर पहुंची और हालात को देखने के बाद तुरंत केबिन काटने का फैसला लिया। इसके बाद केबिन काटकर कर्मचारी को बाहर निकाला गया।

रिटायर्ड होने वाले कर्मचारी से चलवा रहे क्रेन
भिलाई इस्पात संयंत्र से मंसाराम इस साल के जून या जुलाई में रिटायर्ड होने वाले हैं। इस उम्र में क्रेन ऑपरेट करवाया जा रहा है। संयंत्र में और भी कर्मचारी हैं, जो आने वाले साल में रिटायर्ड होने वाले हैं। इसके बावजूद उनको जगह-जगह बदल-बदल कर क्रेन चलाने कहा जा रहा है। बीपी के शिकार लोग ड्यूटी जाने से भी डरने लगे हैं। परिवार पालने की मजबूरी में वे प्लांट जा रहे हैं। हादसे से घबराए मंसाराम को पहले संयंत्र के मेन मेडिकल पोस्ट फिर सेक्टर-9 हॉस्पिटल रेफर किया गया।

टेक्निकल फॉल्ट होने की आशंका
आशंका है कि यह हादसा टेक्निकल फॉल्ट की वजह से हुआ है। मेंटनेंस को लेकर कई बार यूनियन नेता सवाल खड़े करते रहे हैं। लॉकडाउन में भी रेल उत्पादन का काम जारी रखना बहुत बेहतर है, लेकिन इस तरह के काम के लिए युवा कर्मियों का उपयोग किया जाना चाहिए। इसके साथ-साथ मेंटनेंस के लिए तय समय का पालन करना भी जरूरी है।

Show More
Abdul Salam Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned