डेंगू की महामारी पर गरमाएगा सदन, सत्तापक्ष को घेरने विपक्ष ने पूछे सफाई पर नौ सवाल

डेंगू की महामारी पर गरमाएगा सदन, सत्तापक्ष को घेरने विपक्ष ने पूछे सफाई पर नौ सवाल

Bhuwan Sahu | Publish: Sep, 09 2018 12:20:27 AM (IST) Bhilai, Chhattisgarh, India

नगर पालिक निगम की सामान्य सभा की बैठक 14 सितंबर को होगी। सफाई और डेंगू के संक्रमण के मुद्दे पर सदन गरमा सकती है। विपक्षी दल भाजपा के पार्षदों ने सत्तापक्ष को घेरने के लिए सवाल पूछे हैं।

भिलाई. नगर पालिक निगम की सामान्य सभा की बैठक १४ सितंबर को होगी। शहर की सफाई और डेंगू के संक्रमण के मुद्दे पर सदन गरमा सकती है। विपक्षी दल भाजपा के पार्षदों ने सत्तापक्ष को घेरने के लिए सवाल पूछे हैं। शहर की सफाई व्यवस्था ठेके में देने के लिए बुलाए गए टेंडर पर महापौर परिषद के निर्णय की जानकारी मांगी है।

पार्षदों की मानें तो विपक्ष जोनवार सफाई ठेका देने के पक्ष में नहीं है। उनका कहना है कि सड़क, नाली की सफाई, कचरे का परिवहन और घरों से कचरा संग्रहण एक समान प्रकृति का कार्य है। महापौर परिषद ने इससे जोनवार कुल १७ प्रस्ताव तैयार किया है। जो शर्तें तय की है उसमें ठेकेदार काम करने के लिए तैयार नहीं है। इस वजह से तीन बार की निविदा में कोई शामिल नहीं हुआ। इस वजह से शहर की सफाई का ठेका नहीं हुआ।

दोपहर 2 बजे से सभा

सदन की कार्यवाही दोपहर २ बजे से शुरू होगी। प्रश्नकाल में पार्षदों का सवाल-जवाब होगा। इस संबंध में ९ पार्षदों ने सवाल पूछे हैं। गौरवपथ का नवीनीकरण, सरोवर धरोहर योजना के प्रस्तावित तालाब का सौंदर्यीकरण, मुख्यमंत्री नवीन पेंशन योजना, सड़क नाली निर्माण के प्रस्तावों पर चर्चा होगी।

सत्तापक्ष का प्रस्ताव

जोन-१,२,३ में सड़क, नाली की सफाई, घरों से कचरा संग्रहण और कचरे का परिवहन के लिए बैकहो लोडर, चैन माउटेंन, डंपर किराए पर लेने, जोन-१,२,३,४ और ६ में घरों से कचरा संग्रहण और सड़क, नाली की सफाई के लिए चौथी टेंडर बुलाने, शहीद शंकर राव के नाम शासकीय केम्प-२ स्कूल का नामकरण और अमृत मिशन द्वितीय फेज जल आवर्धन योजना के तहत नए कनेक्शन, वाटर मीटर का चार्ज और खपत के अनुसार जलकर का निर्धारण का प्रस्ताव शामिल है।

बिलो रेट पर गौरवपथ का ठेका

२९ फीसदी बिलो रेट पर गौरवपथ का ठेका प्रस्ताव का महापौर परिषद ने स्वीकृति दी है। इस प्रस्ताव पर भी सदन में चर्चा होगी। इससे पहले ४ करोड़ के रोड नवीनीकरण का प्रस्ताव को ठेकेदार ने २७ फीसदी बिलो रेट ऑफर किया था। जिसे सदन ने प्रस्ताव में त्रुटि होने की वजह से खारिज कर दिया था। री टेंडर बुलाने का निर्णय लिया था। सदन के निर्णय के अनुसार रीटेंडर किया गया। जिसमें २९ फीसदी बिलो रेट ऑफर किया है।

सफाई ठेका विवाद

सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच पिछले डेढ़ साल से सफाई ठेका विवाद चल रहा है। पिछले साल महापौर परिषद ने ३१ मार्च तक सफाई व्यवस्था को ठेका का निर्णय नहीं ले पाया था। इस वजह से आयुक्त ने शासन से सहायक श्रमायुक्त द्वारा निर्धारित दर पर मजदूरों से कार्य कराने की अनुमति मांगी थी। शासन ने ९० दिन की अनुमति दी थी। सालभर तक कलक्टर दर पर सफाई गई। इससे लाखों रुपए की बचत हुई। इस साल जब महापौर परिषद ने फिर से सफाई ठेका का प्रस्ताव लाया। ठेका में देने के लिए ठेकेदारों के ऑफर रेट कोमहापौर परिषद ने स्वीकृति दी जिसे आयुक्त ने अमान्य कर दिया।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned