NSUI नेताओं की दबंगई, शहर अध्यक्ष ने दुर्ग जिला अस्पताल के डॉक्टर को लोहे की छड़ से पीटा, कहा सरकार हमारी है, कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता

दुर्ग जिला अस्पताल में एक डॉक्टर की पार्किंग विवाद को लेकर NSUI के शहर अध्यक्ष सोनू साहू ने सार्थियों के साथ मिलकर लोहे की छड़, पत्थर, ईंट से बेदम पिटाई कर दी। इसके बाद डॉक्टर को अधमरा हालत में छोड़कर सभी फरार हो गए।

By: Dakshi Sahu

Published: 21 Nov 2020, 11:07 AM IST

भिलाई. दुर्ग जिला अस्पताल में एक डॉक्टर की पार्किंग विवाद को लेकर एनएसयूआई के शहर अध्यक्ष सोनू साहू ने सार्थियों के साथ मिलकर लोहे की छड़, पत्थर, ईंट से बेदम पिटाई कर दी। इसके बाद डॉक्टर को अधमरा हालत में छोड़कर सभी फरार हो गए। घायल डॉक्टर जयंत चंद्राकर को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। उन्हें अंदरूनी चोटें लगी हैं। पुलिस ने सोनू साहू और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। मामले में आरोपी एनएसयूआई नेता सोनू और उसका एक साथी फरार हैं। वहीं पुलिस ने पांच अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

बाइक पार्किंग को लेकर हुआ विवाद
दुर्ग कोतवाली टीआई राजेश बागड़े ने बताया कि घटना शुक्रवार की रात 9.45 बजे जिला अस्पताल के साइकिल स्टैंड एमसीएच बिल्ंिडग के समाने की है। डॉ. जयंत चंद्राकर (28 वर्ष) अस्पताल के मेडिकल ऑफिसर के पद पर पदस्थ हैं। शिशु रोग विशेषज्ञ की पढ़ाई भी कर रहे हैं। रात 9 से सुबह 9 बजे तक अस्पताल के शिशु वार्ड में में इमरजेंसी ड्यूटी लगी थी। वह घर से खाना खाने के बाद बाइक से ड्यूटी करने जिला अस्पताल पहुंचे। बाइक को स्टाफ पार्किंग के पास एमसीएच बिल्डिंग के अंदर खड़ी कर रहा था। तभी सभी आरोपी पहुंचे और उन्हें घेर लिया। इसके बाद जमकर धुनाई कर दी। घायल डॉ. जयंत को अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने कहा कि मारपीट से अंदरुनी चोट आई है। उपचार किया जा रहा है। पुलिस ने आरोपी सोनू, अमन, राहूल यादव, जलाउद्दीन उर्फ गटटू पठान, योगेश साहू उर्फ लक्की, ओम प्रकाश साहू उर्फ आकाश, रूस्तम नेताम समेत अन्य के खिलाफ धारा 147, 186, 294, 323, 353, 506, 34 के तहत जुर्म दर्ज किया है।

NSUI नेताओं की दबंगई, शहर अध्यक्ष ने दुर्ग जिला अस्पताल के डॉक्टर को लोहे की छड़ से पीटा, कहा सरकार हमारी है, कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता

स्टाफ स्टैंड पर गाड़ी खड़ी करने को लेकर हुआ विवाद
पुलिस ने बताया कि सोनू और अमन दुबे एक राय होकर स्टाफ स्टैंड पर खड़े डॉ. जयंत के पास पहुंचे। रंगदारी दिखाते हुए कहा कि गाड़ी यहां कैसे खड़ी कर रहा है। जयंत ने कहा कि मैं डॉ. जयंत चंद्राकर हूं। अभी रात में ड्यूटी है। इतने में सोनू और अमन ने कहा कि तू डॉक्टर है। बहुत अकड़ दिखा रहा है। जयंत कुछ बोलते इतने में गालियां देते हुए सभी मिलकर उनकी धुनाई करने लगे। सोनू मुक्के में पहने हुए लोहे की चेन से वार करने लगा। अमन और अन्य ने ईंट, पत्थर और लोहे की छड़ से बेदम पिटाई की। इसके बाद जयंत का बाल पकड़कर खींचते हुए कंपाउंड से बाहर स्टैंड में ले गए। इसके बाद सभी मिलकर फिर ताबड़तोड़ धुनाई करने लगे। जयंत को गंभीर चोट आई। उसके कपड़े फाड़ दिए। यह भी बोला कि पुलिस में जाकर शिकायत कर दे, उसने जान से मारने की धमकी दी है।

सोनू ने कहा-मैं बहुत बड़ा नेता हूं
पुलिस ने बताया कि जयंत ने शिकायत में यह भी बताया है कि उसे सोनू साहू ने कहा कि सरकार उसकी है। अपने आपको बहुत बड़ा नेता भी बताया। कहा कि जान से भी मरवा सकता हूं। जयंत के सिर, पीठ, पैर और जांघ में चोटें आई है। जिला अस्पताल में स्टैंड संचालक दादागिरी के साथ गैंग का भी संचालन करते है। इसमें उनका पूरा गैंग कार्य में मौजूद रहता है। जो भी डॉक्टर विरोध करते हैं उसके साथ मारपीट, गाली गलौज और यहां तक जान से मारने की धमकी तक दी जाती है।

तीन प्राइवेट अस्पताल की एंबुलेंस स्टैंड पर खड़ी रहती है
स्टैंड संचालन करने वाले की इतनी दादागिरी है कि अस्पताल प्रबंधन भी उससे डरता है। जिला अस्पताल के स्टैंड में सिर्फ उसी अस्पताल की एंबुलेस खड़ी होगी, जिसमें उसका कमीशन बंधा हुआ है। वर्तमान में सिर्फ तीन प्राइवेट अस्पतालों की एंबुलेंस को रुकने देता है। ठेकेदार की दादागीरी इतनी है कि इन तीनों अस्पतालों के अलावा कहीं और रेफर किया तो उनसे विवाद कर बैठते हैं।

जानिए किसने क्या कहा
डॉ, बालकिशोर, सीएस जिला अस्पताल दुर्ग ने बताया कि स्टैंड संचालक अपने साथियों के साथ मिलकर हमारे एक डॉक्टर का बाल पकड़कर कंपाउंड से बाहर खींच ले गया। उसके साथ जमकर मारपीट की है। डॉक्टर ने आरोपियों के खिलाफ पुलिस में शिकायत की है। मामले को गंभीरता से लेते हुए स्टैंड का ठेका निरस्त करेंगे। साथ ही उस ठेकेदार के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई भी की जाएगी। राजेश बागड़े, टीआई कोतवाली दुर्ग ने बताया कि अस्पताल में घुसकर डॉक्टर के साथ मारपीट करने वालों के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है। सभी आरोपी गिरफ्तार हो गए हैं। सिर्फ सोनू साहू और अमन सिंह फरार है। बहुत जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इस तरह के कृत्य करने वालों से कोर्ई मुरव्वत नहीं की जाएगी। आदित्य सिंह, अध्यक्ष एनएसयूआई जिला दुर्ग ने बताया कि सोनू साहू एनएसयूआई का शहर अध्यक्ष है। उसके द्वारा डॉक्टर के साथ मारपीट की जानकारी फोन के माध्यम से मिली है। मामला सही पाया गया तो छात्र संगठन की छवि विगाडऩे वालों के खिलाफ संगठन में शिकायत करुंगा। उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाएगी।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned