Durg अनुग्रह राशि देने के रास्ते से कुछ और बाधाओं को किया गया दूर

अब अस्पतालों को भी दस्तावेज उपलब्ध कराने निर्देश.

By: Abdul Salam

Updated: 08 Oct 2021, 10:26 PM IST

भिलाई. कोविड-19 के कारण मृत व्यक्ति के परिजन को 50,000 रुपए अनुग्रह राशि का भुगतान किया जाएगा। इसको लेकर प्रचार-प्रसार करने कहा गया है। जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, जिला प्रशासन से कोविड-19 के कारण मृत्यु व तत्संबंध में प्रमाण पत्र के साथ आवेदन मिलने पर 30 दिनों के भीतर अनुग्रह सहायता राशि का भुगतान किया जाना है। भारत सरकार गृह मंत्रालय, नई दिल्ली ने उच्चतम न्यायालय से पारित आदेश में कोविड-19 से मृत व्यक्तियों के परिजनों को आर्थिक अनुदान सहायता किस आधार पर दिया जाना है। इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किया गया है।

तब भी अनुग्रह राशि की पात्रता
कोविड-19 से हुई मौत के संबंध में मृत्यु प्रमाण पत्र में उल्लेखित मृत्यु का कारण निर्णायक नहीं होगा। इस संबंध में ऐसे अन्य जांच व उपचार संबंधी दस्तावेज जिससे यह साफ होता है कि मृतक की मृत्यु कोविड-19 के कारण हुई है। ऐसी स्थिति में भी उसके परिजनों को अनुग्रह राशि की पात्रता होगी। अनुग्रह सहायता से इस आधार पर इंकार नहीं किया जाएगा कि सक्षम प्राधिकारी से जारी मृत्यु प्रमाण पत्र में मृत्यु का कारण (कोविड-19 के कारण मृत्यु) के रूप में नहीं किया गया है।

पॉजिटिव व्यक्ति की चाहे अस्पताल या घर में हो मौत देना होगा अनुग्रह राशि
परीक्षण की तारीख से कोविड-19 निर्धारित होने के 30 दिन के भीतर होने वाली मौत को कोविड-19 के कारण मृत्यु माना जाएगा। भले ही मौत अस्पताल, रोगी सुविधा केंद्र के बाहर हुई हो। वहीं अस्पताल या रोगी सुविधा केंद्र में कोविड-19 के ऐसे मामले जिनमें मरीज 30 दिनों से अधिक समय तक भर्ती रहा और बाद में उसकी मौत हो गई उन्हें भी कोविड-19 से मृत्यु माना जाएगा। मृत्यु प्रमाण पत्र में उल्लेखित मौत के कारण पर ध्यान दिए बिना

तब भी देना होगा अनुग्रह राशि
अगर मृतक के परिवार का सदस्य फॉर्म-4 व 4 (ए) में मौत के कारण का मेडिकल प्रमाण पत्र पंजीकरण प्राधिकारी को जारी किया गया हो, उसे भी कोविड-19 से मृत्यु के रूप में माना जाएगा। इस तरह से तब भी परिवार के सदस्य को अनुग्रह राशि देना है।

संबंधित अस्पताल को उपलब्ध करवाना है दस्तावेज
आदेश में कहा गया है कि सभी संबंधित अस्पताल जहां रोगी को दाखिल किए और इलाज किया गया। मृतक के परिवार के सदस्य को उसके मांगे जाने पर उपचार संबंधी सभी आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध कराए जाएंगे। अस्पताल से दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए जाने की स्थिति में शिकायत निवारण समिति संबंधित अस्पताल से मरीज के उपचार से संबंधित ऐसे दस्तावेज प्राप्त किए जाएंगे। जिससे निर्धारित किया जा सके कि मृतक के मौत का कारण कोविड-19 है।

आत्महत्या प्रकरण में भी मिलेगी अनुग्रह राशि
कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने के 30 दिनों के भीतर अगर कोई व्यक्ति आत्महत्या कर लेता है। उस स्थिति में भी परिवार के सदस्य को 50,000 रुपए अनुग्रह सहायता राशि की पात्रता होगी।

समिति के समक्ष करना है शिकायत
कोविड-19 से मृत व्यक्ति के परिवार के सदस्य को अनुग्रह राशि प्राप्त नहीं होने के संबंध में अगर कोई शिकायत हो तो वह अपनी शिकायत, शिकायत निवारण समिति के समक्ष दर्ज करा सकेगा। शिकायत निवारण समिति मृत व्यक्ति के चिकित्सा उपचार संबंधी दस्तावेजों की जांच कर शिकायत मिलने के 30 दिनों के भीतर समुचित निर्णय लेगी।

Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned