scriptFarmers' pain: Annadata in the shelter of private companies for seeds, | किसानों का दर्द : बीज के लिए निजी कंपनियों की शरण में अन्नदाता, मांग के अनुरूप नहीं है सरकारी सप्लाई | Patrika News

किसानों का दर्द : बीज के लिए निजी कंपनियों की शरण में अन्नदाता, मांग के अनुरूप नहीं है सरकारी सप्लाई

राज्य में बीज आपूर्ति करने का काम छत्तीसगढ़ राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम करता है और ग्रामों में सेवा सहकारी समितियों के माध्यम से किसानों को निश्चित दर पर उपलब्ध कराया जाता है। गांव-गांव तक संचालित हो रही यही समितियां खाद की बिक्री भी करती हैं लेकिन खेती-किसानी के समय इन समितियों में बीज की उपलब्धता मांग के अनुरूप नहीं रहती है।

भिलाई

Updated: May 11, 2022 12:13:24 am

शिव सिंह
खास खबर
भिलाई. किसानों की नजरें खेत की मिट्टी के नरम होने पर लगी हैं कि जुताई करके खरीफ फसल के लिए खाद-बीज का इंतजाम करें। लेकिन यहां के अन्नदाताओं के नाम पर सियासत तो चल रही है लेकिन एक सच है कि सरकारी सिस्टम किसानों को बीज तक नहीं दे पा रहा है। वे निजी बीज कंपनियों के झांसे में फंस रहे हैं।
किसानों का दर्द : बीज के लिए निजी कंपनियों की शरण में अन्नदाता, मांग के अनुरूप नहीं है सरकारी सप्लाई
भिलाई की कृषक सेवा सहकारी समिति में बीज लेन पहुंचे किसान
देश भर में धान उत्पादन के लिए चर्चित छत्तीसगढ़ में अन्नदाता की मांगों को लेकर आए दिन सत्तारूढ़ कांग्रेस और भाजपा के नेता तरह-तरह के बयान देते रहते हैं। इनके दावे यही हैं कि उनके राज्य में अन्नदाता खुशहाल हैं लेकिन केवल सियासी बयान भर हैं क्योंकि जमीनी सच यह है कि न केवल कांग्रेस बल्कि भाजपा की सरकार में भी कि सानों को जरूरत भर के बीज नहीं मिलते हैं।
छत्तीसगढ़ में बीज की मांग व आपूर्ति
वर्ष बीज की मांग आपूर्ति (क्विंटल)
2022-2023 ९ लाख आपूर्ति जारी
2021-2022 10 लाख 6 लाख
2019-2020 8, 50, 550 603182
2018-2019 623342 581028
2017-2018 744965 642872
निजी बीज कंपनियों की शरण में अन्नदाता
राज्य बीज निगम जब बीजों की उपलब्धता सुनिश्चित नहीं कर पाता है तो फिर मायूस किसान निजी बीज कंपनियों की शरण में जाता है। इनमें से कई कंपनियों के बीज प्रमाणिक नहीं होते है और यही कारण है कि किसानों को पूरा उत्पादन नहीं मिल पाता है। कई बार तो पूरी फसल की खराब हो जाती है और किसान कर्ज के जाल में फंस जाता है।
राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम के अध्यक्ष अग्नि चंद्राकर से सीधी बात
सवाल : किसानों को मांग के अनुरूप बीज क्यों नहीं मिल रहे
जवाब : मांग के अनुरूप उठाव नहीं होता है, इसलिए आपूर्ति कम करते हैं
सवाल : राज्य में कई सालों से बीज का संकट क्यों बना हुआ है ?
जवाब : संकट नहीं है बल्कि किसान निजी कंपनियों की ओर जाते हैं
सवाल : निजी कंपनियों की शरण में जाने के लिए किसान क्यों जबूर हैं ?
जवाब : निजी कंपनियां मार्केटिंग करती है। लुभावने वादे करके किसानों को आकर्षित करती हैं।
सवाल : कंपनियों के बीजों की गुणवत्ता पर किस तरह नियंत्रण करते हैं
जवाब : यह काम बीज निगम के जिम्मे नहीं है।
सवाल : इस खरीफ फसल में बीज की कीमत बढ़ गई है?
जवाब : हम सरकारी होने के कारण सस्ता देते हैं। दाम तो निजी कंपनियों के बढ़े हैं।
क्या कहते हैं किसान
कृषक सेवा सहकारी समिति में बीज खरीदने आए किसान हीरा सिंह ठाकुर ने कहा कि उन्हें सिर्फ धान के बीज खरीदने यहां आते हैं। गांव के कई किसान निजी कंपनियों के बीज खरीदते हैं। इसी सोसाइटी में खेदामार गांव के किसान भीखमराम बताया कि फिलहाल उन्हें बीज मिल रहे हैंै। इसी सोसाइटी के प्रबंधक वीरेंद्र कुमार वर्मा का कहना है कि सोसाइटी में जरूरत के हिसाब से ही बीज आते हैं लेकिन पहले के मुकाबले किसान कम खरीद रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

अनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'Haj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानालगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'Asia Cup Hockey 2022: अब्दुल राणा के आखिरी मिनट में गोल की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ ड्रा पर खत्म किया मुकाबलाज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.