CG के इस धुर नक्सल प्रभावित थाने में मंत्री, नेता, अधिकारी नहीं, इस महिला ने फहराया तिरंगा, पुलिस ने भी दी सलामी

CG के इस धुर नक्सल प्रभावित थाने में मंत्री, नेता, अधिकारी नहीं, इस महिला ने फहराया तिरंगा, पुलिस ने भी दी सलामी

Dakshi Sahu | Updated: 17 Aug 2019, 03:55:55 PM (IST) Bhilai, Durg, Chhattisgarh, India

सुकमा जिले (Sukma District) में भारत की आजादी का 73 वां जश्न इतिहास बन गया। जिले के धुर नक्सल(Maoist) प्रभावित चिंतागुफा थाने में पहली बार एक महिला ने स्वतंत्रता दिवस (Independence day 2019 in CG) पर तिरंगा फहराया।

भिलाई. छत्तीसगढ़ में माओवादियों का गढ़ कहे जाने वाले सुकमा जिले में भारत की आजादी का 73 वां जश्न इतिहास बन गया। जिले के धुर नक्सल प्रभावित चिंतागुफा थाने में पहली बार एक महिला ने स्वतंत्रता दिवस (Independence day) पर तिरंगा फहराया। आम आयोजनों की तरह यहां किसी मंत्री, नेता या बड़े अधिकारी के बजाय पुलिस (Sukma police) ने ऐसी महिला को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया था जो पहले माओवादी (Maoist in CG) थी। बाद में नक्सलियों की विचारधारा से स्वयं से अलग कर समाज की मुख्यधारा में जुडऩे का फैसला किया। थाना प्रभारी लखेश केवट ने बताया कि यह फैसला सोशल और कम्युनिटी पुलिसिंग के अंतर्गत लिया गया। स्वतंत्रता दिवस के दिन पुलिस और सुरक्षाबल के जवानों के बीच पूर्व महिला नक्सली ने तिरंगा फहराया। जवानों की सलामी ली।

Chintagufa Police station

14 साल बाद ताड़मेटला में लहराया तिरंगा
चिंतागुफा (Chintagufa Police station)थाने अंतगर्त आने वाले इस दुर्गम नक्सल प्रभावित क्षेत्र में अब तक 76 से ज्यादा जवान नक्सलियों के साथ लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हो चुके हैं। भारत के 73 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर ग्राम ताडमेटला में भी स्कूली बच्चों और ग्रामीणों ने मिलकर तिरंगा फहराया। ताड़मेटला में 2005 के बाद इस साल तिरंगा खुले आसमान में लहराया। पिछले 14 साल से माओवादी स्वतंत्रता दिवस के दिन यहां ग्रामीणों को डरा धमका कर आजादी के उत्सव का विरोध करते थे। इस साल 73 वें स्वतंत्रता दिवस के दिन ताड़मेटला के लोगों ने न सिर्फ राष्ट्रीय ध्वज का मान रखा बल्कि खुशियां मनाकर एक दूसरे का मुंह भी मीठा कराया।

Chintagufa Police station

मुख्यधारा में जुडऩा चाहते हैं ग्रामीण
चिंतागुफा थाना प्रभारी ने बताया कि नक्सलियों की दमनकारी नीति अब ग्रामीणों के भी गले नहीं उतर रही है। इसलिए वे मुख्यधारा में जुडऩा चाहते हैं। राष्ट्र ध्वज फहराकर ग्रामीणों ने नक्सली विचारधारा से दूर होने के संकेत दिए हैं। पहली बार पुलिस और सुरक्षा बल के जवानों ने नक्सलियों के सबसे बड़े कोर जोन कसलपाड़ में भी तिरंगा फहराया है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned