महापौर चुनाव को लेकर दुर्ग में कांग्रेस पार्षद दल में फूट, चार दावेदार बिना बताए दिल्ली रवाना

मेयर के चुनाव में दावेदारों की होड़ के चलते कांग्रेस में क्रॉस वोटिंग के खतरे के बीच अब पार्षद दल में फूट के भी आसार बढ़ गए हैं। मेयर पद के छह में से चार दावेदार शुक्रवार को अचानक एकराय होकर दिल्ली रवाना हो गए। इन दावेदारों ने विधायक अरुण वोरा व संगठन के किसी बड़े नेता को दिल्ली रवानगी की सूचना दी है न कारण बताया है।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 03 Jan 2020, 11:15 PM IST

दुर्ग@Patrika. मेयर के चुनाव में दावेदारों की होड़ के चलते कांग्रेस में क्रॉस वोटिंग के खतरे के बीच अब पार्षद दल में फूट के भी आसार बढ़ गए हैं। मेयर पद के छह में से चार दावेदार शुक्रवार को अचानक एकराय होकर दिल्ली रवाना हो गए। इन दावेदारों ने विधायक अरुण वोरा व संगठन के किसी बड़े नेता को दिल्ली रवानगी की सूचना दी है न कारण बताया है। जानकारी मिली है कि चारों दावेदारों ने दिल्ली में अखिल भारतीय कांग्रेस के प्रशासनिक महामंत्री मोतीलाल वोरा व प्रभारी पीएल पुनिया के अलावा कई बड़े नेताओं से मिलकर लामबंदी की है।

दिनभर लेते रहे टोह
शुक्रवार की सुबह इनमें से विधायक अरुण वोरा के करीबी धीरज बाकलीवाल और राजेश यादव को छोड़कर अन्य प्रमुख दावेदार मदन जैन, राजकुमार नारायणी, अब्दुल गनी और शहर कांग्रेस अध्यक्ष आरएन वर्मा एकराय होकर दिल्ली रवाना हो गए। उनके साथ बोरसी की पार्षद प्रेमलता साहू के पति पोषण साहू के भी दिल्ली रवाना हुए हैं। उनकी दिल्ली रवानगी की जानकारी सामने आने के बाद कांग्रेस में हड़कंप मच गया। पूरे दिन कांग्रेस नेता व अन्य पार्षद उनके दिल्ली जाने के बार में टोल लेते रहे।

पर्यवेक्षक के सामने कर चुके हैं दावेदारी
नगर निगम में कांग्रेस के 30 पार्षदों ने जीत दर्ज की है। इनमें से मदन जैन, धीरज बाकलीवाल, मौजूदा निगम सभापति राजकुमार नारायणी, पार्षद अब्दुल गनी, शहर कांग्रेस अध्यक्ष व पार्षद आरएन वर्मा की पत्नी सत्यवती वर्मा और राजेश यादव मेयर पद के प्रमुख दावेदार हैं। दो दिन पहले पर्यवेक्षक धनेंद्र साहू के सामने लगभग सभी अपनी दावेदारी पर अडिग रहे और पार्षदों का समर्थन जुटाने में लगे रहे।

कई पार्षदों को भी कहा हमारे साथ चलो
पार्टी सूत्रों के अनुसार दिल्ली रवानगी से पहले गुरुवार की रात दिल्ली जाने वाले इन दावेदारों ने कांग्रेस के अन्य पार्षदों से भी संपर्क किया था। पार्षदों को दिल्ली चलने के लिए कहा गया था। हालांकि इस दौरान दिल्ली में किसके नाम पर लामबंदी की जाएगी इसकी जानकारी नहीं दी गई। इसके कारण कई पार्षदों ने दिल्ली जाने से मना कर दिया।

देर रात लौटने वाले हैं दावेदार
जानकारी के मुताबिक सभी दावेदार सुबह नियमित उड़ान से दिल्ली रवाना हुए। जानकारी के मुताबिक दिल्ली में पूरे दिन बड़े नेताओं से मिलने के बाद देर रात चारों दावेदार वापस लौटने वाले हैं। इससे पहले दावेदार मदन जैन सामाजिक प्रतिनिधियों के साथ दिल्ली होकर लौट चुके हैं। तब वे वोरा के सामने अपनी दावेदारी कर चुके हैं।

पूरे दिन दावेदारों के बंद रखा मोबाइल
दिल्ली गए चारों दावेदारों के मोबाइल पूरे दिन बंद रहे। दावेदारों के लामबंद होकर दिल्ली रवानगी की सूचना के बाद चारों से मोबाइल पर संपर्क का लगातार प्रयास किया गया, लेकिन हर बार सभी का मोबाइल बंद मिला। तस्दीक पर विधायक सहित नजदीकी पार्षदों ने चारों के दिल्ली जाने की पुष्टि की।

वोरा को झटका: चारों में सहमति बनी तो बदल जाएगा समीकरण
पार्टी सूत्रों के मुताबिक विधायक अरुण वोरा मेयर पद के लिए अपने करीबी धीरज बाकलीवाल के पक्ष में हैं। ऐसे में शेष चारों दावेदारों के लामबंदी को धीरज और परोक्ष रूप से विधायक अरुण वोरा के खिलाफ माना जा रहा है। यदि चारों में किसी एक नाम पर सहमति हो जाती है कि विधायक के करीबी बाकलीवाल का दावा कमजोर पड़ जाएगा।

महापौर चुनाव को लेकर दुर्ग में कांग्रेस पार्षद दल में फूट, चार दावेदार बिना बताए दिल्ली रवाना

वोरा की मदन और वर्मा से पहले ही तल्खी
विधायक अरुण वोरा के साथ मदन जैन के गाहेबगाहे तल्खीपूर्ण व्यवहार की चर्चा होती रहती है। पार्षद पद के लिए टिकट वितरण के दौरान कुछ नामों को लेकर उनकी शहर कांग्रेस अध्यक्ष आरएन वर्मा से भी उनकी अनबन की बात भी सामने आई थी। इसके चलते नामों की घोषणा कई दिन तक टलत रहा था। इसे भी लामबंदी से जोड़कर देखा जा रहा है।

दावेदारों के एक साथ होने के यह मायने
0 5 में से 4 सीधे तौर पर महापौर के दावेदारी करते रहे हैं। चारों के एक साथ अचानक दिल्ली रवानगी से किसी एक के पक्ष में लामबंदी का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि चारों में से किसके नाम को आगे बढ़ाया जा रहा है, यह स्पष्ट नहीं हुआ है।

0 चारों के अलावा विधायक अरुण वोरा के करीबी धीरज बाकलीवाल प्रमुख दावेदार हैं। यदि चारों किसी एक नाम को लेकर एकराय हो गए हैं तो इसे विधायक के पसंद के खिलाफ लामबंदी माना जा सकता है।
0 विधायक वोरा के मुताबिक उन्हें दिल्ली जाने व कारणों की जानकारी नहीं दी गई है। इसके अलावा किन नेताओं से मिले हैं यह भी नहीं बताया गया है। ऐसे में इसे शहर विधायक से अलग गुटबाजी के रूप में भी देखा जा रहा है।

0 अब तक सभी केवल महापौर के पद के लिए दावेदारी कर रहे थे, अचानक चारों की लामबंदी को मेयर पद की शर्तपर सभापति व एमआईसी के पदों के आधार पर समझौते से भी जोड़ा जा रहा है। इससे दूसरे पार्षदों को पदों से वंचित होना पड़ सकता है।

0 एक दिन पहले ही प्रदेश आलाकमान ने मेयर का नाम दिल्ली से तय होने की घोषणा की है। जानकारी मिली है कि दावेदारों ने वोरा के साथ पीएल पुनिया व अन्य आला नेताओं से भी मुलाकात की है। ऐसे में नेताओं के उपक्रम को प्रदेश आलाकमान की मंशा से अलग राष्ट्रीय स्तर पर जुगाड़ की रणनीति से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

विधायक के माथे पर शिकन
अरुण वोरा, विधायक दुर्ग ने कहा कि पार्षद दिल्ली क्यों और किस मकसद से गए हैं, किनसे मुलाकात हुई है इसकी जानकारी मुझे नहीं है। किसी ने मुझे इसकी अधिकृत रूप से जानकारी नहीं दी है। यदि ऐसा है तो यह अनुचित है। इस संबंध में अभी ज्यादा कुछ नहीं कह पाउंगा, लेकिन यह तय है कि मेयर व सभापति का चुनाव पार्षदों व वरिष्ठ नेताओं की पसंद व सर्वानुमति से किया जाएगा।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned