काले तेल के खेल का फूटा भंडा, ट्रांसपोर्टर के साथ लगा था पूरा रैकेट

आइल की बीच रास्ते चोरी और काला तेल मिलाकर सप्लाई के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। यह पूरा खेल ट्रांसपोर्टर द्वारा मिलीभगत कर अंजाम दिया जा रहा था।

By: Dakshi Sahu

Published: 25 Apr 2018, 10:58 AM IST

दुर्ग . बिजली कंपनी के लिए निकले आइल की बीच रास्ते चोरी और काला तेल मिलाकर सप्लाई के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। यह पूरा खेल ट्रांसपोर्टर द्वारा मिलीभगत कर अंजाम दिया जा रहा था। ट्रांसपोर्टर जांजगीर चांपा के लिए निकले टैंकरों को घुमाकर सोमनी टेड़ेसरा ले आता था।

यहां हर टैंकर से 100 से 200 लीटर आइल निकालकर काला तेल मिलाकर वापस जांजगीर-चांपा के लिए रवाना कर देता था। बाद में चोरी कर जमा किया हुआ आइल अपनी खुद की कंपनी के नाम से अलग-अलग इलाके के उद्योगों में खपा देता था।

दो दिन पहले खुला था मामला
पुलिस ने आइल चोरों के सोमनी इलाके के औद्योगिक क्षेत्र टेड़ेसरा में छापेमारी कर दो दिन पहले मामले का भंडाफोड़ किया था। इस दौरान यहां दो टैंकर के साथ आइल निकालने उपयोग किए जाने वाले मोटर व दूसरे सामान जब्त किए थे। इस दौरान ड्राइवर शशि यादव को भी पकड़ा गया था। प्रारंभिक पूछताछ में आरोपी ड्राइवर ने टैंकर किसी चुन्नू साहू का बताया। पुलिस चुन्नू की तलाश कर रही है। वहीं अब इसमें बड़े गिरोह के शामिल होने के संकेत मिल रहे हैं।

ट्रांसपोर्ट के साथ खुद की कंपनी
पुलिस की अब तक जांच में पूरा खेल ट्रांसपोर्टर द्वारा अंजाम देना सामने आया है। पुलिस के मुताबिक नरेश साव रायपुर से छत्तीसगढ़ पावर कंपनी लिमिटेड तेंदूभाठा जांजगीर चापा आइल सप्लाई का काम करता है। इसके अलावा हथखोज में उसकी सुपर पेट्रो के नाम से कंपनी भी है। ट्रांसपोर्ट के दौरान निकाला गया आइल वह इसी कंपनी के नाम से खपाता था।

3000 लीटर आइल जब्त
पुलिस ने टेड़ेसरा में आइल चोरी वाली जगह की भी जांच की। यहां सात प्लास्टिक के ड्र्म में 3000 लीटर आइल बरामद किया गया है। इसके अलावा टैंकर से आइल निकालने वाला मोटर व अन्य सामानों को भी जब्त किया है। जब्त ऑइल की कीमत 2 लाख बताई गई है।

रायपुर से जांजगीर तक तार
तेल के इस काले कारोबार में पुलिस को बड़े रैकेट के जुड़े होने की आशंका है। इसी के तहत रायपुर से लेकर जांजगीर चांपा तक जांच की जाएगी। पुलिस के मुताबिक इस कार्य में ट्रांसपोर्टर के अलावा सप्लाई व बिजली कंपनी के लोग भी जुड़े हो सकते हैं। फिलहाल ट्रांसपोर्टर पर जांच केंद्रित की जा रही है। सोमवार को पुलिस ने ट्रांसपोर्टर के हथखोज दिफ्तर में दबिश देकर जांच की।

ट्रांसपोर्टर का दफ्तर सील
सीएसपी भोजराम पटेल का कहना है कि स्पॉट पर जिस तरह के सामान पाए गए हैं और जिस तरह आइल चोरी व काला तेल मिलाकर सप्लाई को अंजाम दिया जा रहा था, इससे मामले में किसी बड़े गिरोह के शामिल होने से इंकार नहीं किया जा सकता। फिलहाल ट्रांसपोर्टर के दफ्तर में जांच कर दस्तावेज जब्त किए गए हैं।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned