नवजात ने तोड़ा दम, पीड़ित पिता जिला अस्पताल की चौंथी मंजिल से गिरा

ईश्वर ने दिया दूसरा जीवन.

By: Abdul Salam

Published: 10 Jun 2021, 11:53 PM IST

भिलाई. जिला अस्पताल, दुर्ग के नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई कक्ष में चार दिन पहले जन्मे नवजात को इलाज के लिए रखा गया था। शिशु रोग विभाग के विशेषज्ञों ने पहले दिन से ही परिवार के सदस्यों से कहा कि उसकी कंडीशन ठीक नहीं है, बेहतर होगा मेकाहारा, रायपुर में ले जाकर दाखिल किया जाए। इस पर वे तैयार नहीं हुए। उन्होंने अस्पताल प्रबंधन को लिखकर दे दिया कि वे बच्चे का इलाज जिला अस्पताल में ही करवाना चाहते हैं।

चौंथी मंजिल से गिरा पिता
अस्पताल कर्मियों ने बताया कि चौंथी मंजिल में जहां कांच लगा हुआ है, वहां से वह व्यक्ति गिरा, नीचे प्लास्टिक की गैलरी पर आकर रुकते हुए पहली मंजिल के फर्श तक पहुंचा। प्लास्टिक की गैलरी की वजह से उसकी जान बच गई। उसके हाथ और चेहरे में कुछ थोड़ी सी चोट लगी। जिसका उपचार कर दिया गया।

नवजात की हो गई मौत
चाइल्ड हॉस्पिटल, दुर्ग की चौंथी मंजिल से जो व्यक्ति ऊपर से गिरा उसके नवजात ने गहन चिकित्सा कक्ष में दम तोड़ दिया। गुरुवार की सुबह वह अपने बच्चे के शव को लेकर अंतिम संस्कार के लिए रवाना हो गया।

मेकाहारा लेकर जाने दिए थे सलाह
नोडल अधिकारी, आईसीयू, जिला अस्पताल, दुर्ग, डॉक्टर आरके मल्होत्रा नवजात की स्थिति बहुत खराब थी, जिसकी वजह से परिवार को पिछले चार दिनों से मेकाहारा, रायपुर लेकर जाने सलाह दिया गया था, वे माने नहीं। नवजात का पिता चौंथी मंजिल के टावर से जहां कांच लगा है, वहां से वह गिरा। नीचे प्लास्टिक की शीट थी, जिसमें गिरने की वजह से अधिक चोट नहीं लगी। टावर के खिड़की का कांच टूट चुका है। उनके परिवार को बुलाकर घटना की जानकारी दी गई। वहीं नवजात ने भी दम तोड़ दिया। सुबह पिता आपने बच्चे के शव को लेकर अंतिम संस्कार के लिए रवाना हुआ।

Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned