आखिर क्यों, डाहरे-आयुक्त की मुलाकात से भाजपा में बढ़ी गुटीय खींचतान

आखिर क्यों, डाहरे-आयुक्त की मुलाकात से भाजपा में बढ़ी गुटीय खींचतान

Dakshi Sahu | Updated: 02 Dec 2017, 12:44:18 PM (IST) Bhilai, Chhattisgarh, India

डाहरे की नगर निगम में दखलंदाजी को राजनीतिक जानकार जिले के दो दिग्गज नेताओं की गुटीय राजनीति से जोड़कर देख रहे हैं।

भिलाई. भाजपा के जिलाध्यक्ष व अहिवारा विधायक सांवला राम डाहरे की नगर निगम आयुक्त केएल चौहान से मुलाकात से पार्टी में गुटीय खींचतान एक बार फिर बढ़ गई है। डाहरे शुक्रवार को पार्टी संगठन और कुछ एल्डरमैन को साथ लेकर आयुक्त से मिले। दर्जनभर शिकायतें गिनाते हुए आयुक्त को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया। कहा कि हमारे लोगों की नहीं सुनीं तो निगम में उग्र प्रदर्शन किया जाएगा।

डाहरे की नगर निगम में दखलंदाजी को राजनीतिक जानकार जिले के दो दिग्गज नेताओं की गुटीय राजनीति से जोड़कर देख रहे हैं। भाजपा पार्षद संगठन के जिम्मेदारों द्वारा अपनी उपेक्षा से बेहद नाराज हैं। उनका कहना है कि जिलाध्यक्ष एल्डरमैनों को साथ लेकर पहुंचे, उन्हें पूछा तक नहीं। बता दें कि नगर निगम में निर्दलीय समर्थित सहित भाजपा के 37 पार्षद हैं, जिनमें अधिकांश कैबिनेट मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय के समर्थक हैं।

वहीं डाहरे भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय के करीबी हैं। शासन की ओर से नियुक्त सभी 11 एल्डरमैन भी सरोज समर्थक माने जाते हैं। नेता प्रतिपक्ष रिकेश सेन तो खुलकर अपने अध्यक्ष के खिलाफ और आयुक्त के बचाव में सामने आ गए हैं।

आयुक्त की कार्यशैली की सराहना करते हुए कहा है कि उन्होंने भ्रष्टाचार पर रोक लगाई है। हमारी लड़ाई शहर सरकार से है। जिस दिन आयुक्त ठीक से काम नहीं करेंगे तत्काल उनके खिलाफ विभागीय मंत्री से शिकायत कर हटवाने की मांग करेंगे, लेकिन जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसमें अड़ंगा डालना उचित नहीं है।

मुलाकात करने वालों में शामिल थे
डाहरे जिला महामंत्री खिलावन सिंह साहू, जिला उपाध्यक्ष व पार्षद संजय खन्ना, महामंत्री व पार्षद रामानंद मौर्या, जिला कोषाध्यक्ष अर्जुन सचदेव, एल्डरमैन गोपाल बिष्ट, भूषण अग्रवाल, उत्पल घोप, मनोज तिवारी, मार्कंडेय तिवारी, एएन पाढ़ी, पुरूषोत्तम देवांगन, राजीव पांडेय,मंडल अध्यक्ष विनीत बाजपेयी, पवन केसवानी के साथ आयुक्त से मिले।

बंद कमरे में आधे घंटा चर्चा
जिलाध्यक्ष डाहरे ने आयुक्त से बंद कमरे में लगभग आधा घंटे चर्चा की। उन्होंने ७७ एमएलडी फिल्टर प्लांट के संचालन में गड़बड़ी, वैशाली नगर गौरव पथ और डॉ राजेन्द्र प्रसाद चौक से सुपेला घड़ी चौक तक गड्ढे, शहर की सफाई व्यवस्था, गरीबों को पट्टा वितरण, अतिक्रमण सहित दर्जनभर मुद्दों पर बात की।

पार्षद वर्सेस एल्डरमैन
1. २८ मार्च को निगम की सामान्य सभा में हंगामे के बाद कांगे्रसी पार्षदों ने सदन का बहिष्कार कर दिया। कुछ देर बाद एल्डरमैन भी बाहर निकल गए। जबकि भाजपा पार्षद बैठे रहे।
2. निगर निगम में विभिन्न गड़बडिय़ों को लेकर जांच कमेटी गठित करने के मामले में भी एल्डरमैन और पार्षदों के बीच मत भिन्नता की स्थिति रही।
3. रायपुर में प्रदर्शन के मामले में महापौर देवेंद्र यादव को नगर निगम एक्ट की धारा 19 ख के तहत बर्खास्त करने शासन से मांग पर भी साथ नहीं रहे।
4. एल्डरमैनों ने 77 एमएलडी फिल्टर प्लांट का निरीक्षण किया। संचालन में गड़बड़ी की शिकायत करने निगम आयुक्तसे मिले तब भी पार्षदों को नहीं पूछा।

जिलाध्यक्ष ने मुझे सूचना नहीं दी
नेता प्रतिपक्ष ननि रिकेश सेन ने बताया कि भाजपा पार्षदों का नेतृत्व मैं कर रहा हूं। जिलाध्यक्ष ने मुझे कोई जानकारी नहीं दी। पार्टी के अन्य पार्षद मुझसे मुलाकात के संबंध में पूछ रहे हैं। मुझे जवाब देते नहीं बन रहा है। जिलाध्यक्ष भाजपा सांवलाराम डाहरे ने बताया कि वे संगठन के लोगों के साथ आयुक्त से मिलने गया था। मैंने कोई रैली थोड़ी निकाली थी जो सबको बुलाता। हां जिस दिन प्रदर्शन करूंगा उस दिन सबको बुलाऊंगा।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned