भिलाई. जब टीम बेहतर कार्य करती है और टीम के लीडर उनका हौसला बढ़ाने खुद उनके पास चले आते हैं तो टीम मेंबर्स की खुशियां और उत्साह दोगुना हो जाता है।ऐसा ही कुछ आईटीबीपी और जिला पुलिस के जवानों के साथ हुआ। बुधवार को राजनांदगांव जिले में किए गए एंटी नक्सल ऑपरेशन में आईटीबीपी के 44 बटालियन की कोहका कंपनी और जिला पुलिस की टीम ने महिला नक्सली जरीना पोटाई को मारकर बड़ी सफलता हासिल की। सर्चिग के बाद लौटे इन जवानों का जब आईटीबीपी के डीआईजी अशोक कुमार नेगी सहित अन्य अधिकारियों ने हौसला बढ़ाया तो सभी जवानों के चेहरे खुशी से चमक उठे। धूर नक्सली क्षेत्र में अपने आला अधिकारियों के बीच जवानों ने ऑपरेशन से जुड़ी बातों को शेयर किया। इस मौके पर डीआईजी नेगी ने पुरस्कार देकर टीम को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कंपनी कमांडर असिस्टेंट कमाडेंट रविन्द्र पुनिया एवं इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह सहित 44 बटालियन के जीएन चोई, व द्वितीय कमान पारस थापा को भी बधाई दी। जवानों का हौसला अफजाई करने आईटीबीपी के द्वितीय कमान अधिकारी जावेद अली जिला पुलिस के एएसबी वाईपी सिंह सहित अन्य अधिकारी भी पहुंचे थे।
यह थी घटना
सेकंड इन कमान सैय्यद जावेद अली ने बताया कि यह ऑपरेशन आईटीबीपी सेक्टर हेडक्वार्टर राजनांदगांव एवं नक्सल सेल राजनांदगांव की ओर से प्लान किया गया था। ज्वाइंट टीम एरिया डोमिनेशन एवं सर्च ऑपरेशन पर निकली थी इसी दौरान सुबह कोण्डल पहाडिय़ों पर नक्सलियों के होने की खबर मिली पार्टी ने इलाके की तलाशी ली। तब नक्सलियों ने गोलीबारी कर दी, टीम ने भी इसका जवाब दिया। फायरिंग बंद होने के बाद जब तलाशी ली गई तो महिला नक्सली का शव मिला। साथ ही एक 12बोर बंदूक, पिट्ठु व दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद हुई। महिला नक्सली की शिनाख्त जरीना पोटाई, निवासी बीजापुर के रूप में हुई। इस पर 16आपराधिक मामले दर्ज थे और पांच लााख का इनाम भी घोषित था।

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned