साइकिल से घुमने निकला 8 वीं का छात्र रास्ता भटका, जब कई घंटों बाद भी नहीं लौटा तो रोते हुए थाने पहुंची मां, फिर....

टीआई भूषण एक्का ने बताया कि घटना 22 जुलाई की है। शाम 5.30 बजे सीमा कुशवाहा का पुत्र अनमोल कुशवाहा (12 वर्ष) साइकिल लेकर निकला। वह रात साढ़े दस बजे तक नहीं लौटा।

By: Dakshi Sahu

Published: 24 Jul 2021, 11:26 AM IST

भिलाई. बीएसपी टाउनशिप में सेक्टर-1, क्रास स्ट्रीट-1, क्वार्टर- 41 निवासी बीएसपी कर्मी सीमा कुशवाहा का 12 वर्षीय बेटा घर से बिना बताए साइकिल लेकर शाम को निकला, लेकिन वह लौटकर नहीं आया। सीमा ने बच्चे का पता लगया, पर कहीं पता नहीं चला। इससे वह घबरा गई। उसने पुलिस में शिकायत की। पुलिस ने उस बालक को घर से करीब 8 किलोमीटर दूर उसके स्कूल नेहरु नगर से बरामद किया। रात करीब 12.30 बजे बच्चे को सौंपा। बच्चे को सही सलामत पाकर सीमा खुश हुई पर आंखों से आंसू नहीं रूके। बच्चे को ढूंढ निकालने के लिए उन्होंने बार-बार पुलिस का शुक्रिया अदा किया।

बिना बताए घर से निकल गया
भ_ी टीआई भूषण एक्का ने बताया कि घटना 22 जुलाई की है। शाम 5.30 बजे सीमा कुशवाहा का पुत्र अनमोल कुशवाहा (12 वर्ष) साइकिल लेकर निकला। वह रात साढ़े दस बजे तक नहीं लौटा। इसके पहले वह इतनी रात तक कभी घर से बाहर नहीं रहा। रात 10.50 बजे बीएसपी कर्मी सीमा कुशवाहा ने पुलिस के पास पहुंची। उसने पुलिस को बताया कि उसके पति रेलवे विभाग कटनी में पदस्थ है। बेटा अनमोल शाम करीब 5.30 बजे घर से बिना बताए साइकिल लेकर चला गया, लेकिन वह अब तक घर नहीं लौटा है।

रोता हुआ मिला बच्चा
टीआई ने बताया कि उन्होंनें तत्काल टीम गठित कर पेट्रोलिंग स्टॉफ के साथ उसकी खोजबीन शुरू की। जिले के थानों ंमें कंट्रोल रूम के माध्यम सूचना दी गई। बालक के आने जाने वाले संभावित स्थानों पर जाकर तलाश किया। जब उसकी मां से स्कूल के बारे में पूछा तो बताया कि नेहरु नगर केपीएस स्कूल में 8 वीं कक्षा में पढ़ाई करता है। तब उसे खोजने के लिए नेहरू नगर की तरफ एक टीम को लेकर निकला। जहां वह रोता हुआ मिला।

पुलिस की वर्दी देख कहा कि अंकल रास्ता भूल गया
टीआई भूषण एक्का टीम के साथ नेहरु नगर की तरफ खोजने निकले। एक बालक साइकिल से जाते हुए केपीएस स्कूल के पास मिला। उसे रोककर पूछने लगे। बालक ने वर्दी देख रुआंसा होकर बताया कि अंकल रास्ता भटक गया हूं। नाम अनमोल है। तब टीआई ने कहा कि तुम्हें ही खोज रहा था। उसे लेकर थाना आए। रात में करीब 12.30 बजे उसे उसकी मां को सौप दिया। प्रधान आरक्षक प्रवीण सिंह, आरक्षक मुरली सोनी, राजेन्द्र बंसोड़ एवं शैलेष यादव की सराहनीय भूमिका रही।

स्कूल का रास्ता याद था
अनमोल ने बताया कि कोरोना में स्कूल बंद हो गया है। घर में बंद-बंद अच्छा नहीं लग रहा है। इसलिए साइकिल लेकर घुमने निकला कि थोड़ी दूर चलाकर लौट आऊंगा, लेकिन सेक्टर के रास्ते में भटक गया। केपीएस स्कूल का रास्ता याद था। इसलिए मैं उसी तरफ चला गया। तब तक पुलिस वाले अंकल आ गए। उन्होंने घर तक पहुंचाया। एसपी दुर्ग प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि 12 वर्षीय बालक की गुम होने की सूचना मिली। तत्काल भ_ी पुलिस को अलर्ट किया। वायरलेस कर सभी थाना में सूचना दी गई। रात में ही बच्चा सकुशल नेहरु नगर से बरामद किया गया। उसे परिजनों को सौपा गया। जनता से अपील है कि बच्चे बाहर निकले तो उन पर पूरी नजर रखें। किसी प्रकार की समस्या आने पर तत्काल नजदीकी थाना में संपर्क करें। जिससे पुलिस आपकी मदद कर सके।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned