scriptPoor farmer earned 54 thousand by selling cow dung | गरीब किसान ने गोबर बेचकर कमाए 54 हजार, घर का भोजन पकता है बायोगैस से, पढ़िए खुशहाली की कहानी | Patrika News

गरीब किसान ने गोबर बेचकर कमाए 54 हजार, घर का भोजन पकता है बायोगैस से, पढ़िए खुशहाली की कहानी

जिला पंचायत सीईओ अश्विनी देवांगन ने बताया कि जिले में नवीनीकरण ऊर्जा की दिशा में बड़ा काम हो रहा है। इसके साथ ही किसानों में नवाचार प्रवृत्ति बढ़ रही है।

भिलाई

Published: January 15, 2022 09:12:16 am

दुर्ग. गोधन न्याय योजना किसानों के लिए बेहद उपयोगी साबित हुई है। अपने नवाचारों से किसान इस योजना का सुगमता से लाभ उठा पा रहे हैं। ऐसा ही नवाचार पाहंदा के किसान राजेंद्र साहू ने किया है। वे गोबर बेचते हैं और पिछले साल उन्होंने 54 हजार रुपए गोबर बेचकर एकत्रित किए। इसके अलावा पशुओं के लिए चारा लाना होता है और कई अन्य प्रकार के कार्य भी होते हैं। यह सब सहज हो सकें, इसके लिए किसान राजेंद्र ने बाइक के पीछे स्ट्रक्चर बनवा लिया है। चाहे गोबर बेचने गौठान तक जाना हो अथवा पशुओं के लिए चारा लाना हो, यह स्ट्रक्चर काफी उपयोगी है।
गरीब किसान ने गोबर बेचकर कमाए 54 हजार, घर का भोजन पकता है बायोगैस से, पढ़िए खुशहाली की कहानी
गरीब किसान ने गोबर बेचकर कमाए 54 हजार, घर का भोजन पकता है बायोगैस से, पढ़िए खुशहाली की कहानी
35 पशुओं को बेचते हैं गोबर
राजेंद्र ने बताया कि उनके पास 35 पशु है इनके लिए चारा लाना होता था। बाइक में एक बार में चारा लाने में दिक्कत होती थी। फिर गोधन न्याय योजना भी आ गई। मुझे लगा कि बाइक के पीछे ऐसा स्टक्चर लगवा लूंगा, जिससे सामान रखने में दिक्कत न हो तो आसानी से इस योजना का लाभ उठा सकूंगा। पशुधन का बेहतर उपयोग कैसे हो, इसके लिए उसने क्रेडा की मदद के घर में गोबर गैस प्लांट भी लगवा लिया। घर का खाना इसी गोबर गैस प्लांट से बनता है।
किसानों ने बताया बढ़ रही नवाचार की प्रवृत्ति
राजेंद्र ने बताया कि गोधन न्याय योजना बहुत अच्छी योजना है, इससे अतिरिक्त आय के अवसर किसानों को मिले हैं। राजेंद्र ने बताया कि गोधन न्याय योजना के आने से मवेशी किसानों के लिए काफी लाभप्रद हो गए हैं। हर तरह से इनके माध्यम से लाभ अर्जित किया जा सकता है। इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला पंचायत सीईओ अश्विनी देवांगन ने बताया कि जिले में नवीनीकरण ऊर्जा की दिशा में बड़ा काम हो रहा है। इसके साथ ही किसानों में नवाचार प्रवृत्ति बढ़ रही है।
नजदीकी बाजार कराया जा रहा है उपलब्ध
शासन द्वारा जब नई योजनाएं लाई जाती हैं और ग्रामीण विकास की दिशा में ठोस पहल होती है तो इसका जमीनी असर भी अच्छा होता है। सीईओ ने बताया कि गोधन न्याय योजना के माध्यम से स्वावलंबी गौठान बनाने की दिशा में ठोस कार्य हो रहा है। हमने अमले को निर्देशित किया है कि हर गांव की जरूरत के मुताबिक एवं नजदीकी बाजार की उपलब्धता को देखते हुए आजीविका केंद्र में सामग्री तैयार की जाए ताकि स्वसहायता समूहों की आय को बढ़ाया जा सके।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.