UP की तर्ज पर किसानों ने छत्तीसगढ़ सरकार से मांगा 50 लाख मुआवजा, बोले सर जब वहां संभव तो प्रदेश में क्यों नहीं ?

Farmer Protest: छत्तीसगढ़ में आत्महत्या, हत्या या दुर्घटना किसी भी कारण से जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को भी 50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता आपदा कोष की राशि के अतिरिक्त देने की मांग की गई है।

By: Dakshi Sahu

Published: 13 Oct 2021, 04:11 PM IST

दुर्ग. संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर मंगलवार को छत्तीसगढ़ प्रगतिशील किसान संगठन ने पटेल चौक में किसान शहीद दिवस मनाया। इस दौरान लखीमपुर के विरोध में सभा का आयोजन कर किसानों ने केंद्र व राज्य दोनों सरकार पर निशाना साधा। लखीमपुर की घटना के लिए केंद्रीय गृह राज्यमंत्री को बर्खास्त करने और प्रदेश में भी मृत किसानों के परिजनों को 50 लाख मुआवजा देने की मांग उठाई। संगठन के राजकुमार गुप्त और झबेंद्र भूषण वैष्णव ने कहा कि एक साल के आंदोलन के दौरान अब तक लगभग 700 किसान शहीद हो गए हैं। कुछ महीने पहले मप्र के मंदसौर में सरकार ने गोली मारकर 6 किसानों की हत्या कर दी थी। पिछले दिनों यूपी के लखीमपुर खीरी में शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने वाले किसानों को गाड़ी से कुचल दिया गया। जिसमें 4 किसान शहीद हो गए। हरियाणा के करनाल में प्रशासन ने लाठियों से पीटकर और बस्तर में 3 आदिवासी किसानों को पुलिस ने गोलियों से भूनकर मार डाला। किसानों ने इस दौरान प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन भी सौंपा। जिसमें लखीमपुर किसान हत्याकांड के लिए जिम्मेदार केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को तत्काल पद से बर्खास्त करने की मांग की गई है।

मुख्यमंत्री के नाम भी सौंपा ज्ञापन
किसान संगठन की ओर मे प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम भी ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें उनके द्वारा यूपी के लखीमपुर में मृतक किसानों के परिवारों को 50 लाख की आर्थिक सहायता देने के तर्ज पर छत्तीसगढ़ में आत्महत्या, हत्या या दुर्घटना किसी भी कारण से जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को भी 50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता आपदा कोष की राशि के अतिरिक्त देने की मांग की गई है।

बने न्यूनतम मूल्य गारंटी कानून
प्रदर्शन के दौरान किसान संगठन ने कृषि उपजों के लिए न्यूनतम मूल्य गारंटी कानून लागू करने की मांग भी किया। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन प्रशासन के प्रतिनिधि के रूप में नायब तहसीलदार दुर्गा साहू को सौंपा गया। प्रदर्शन में परमानंद यादव, बाबूलाल साहू, कल्याण सिंह ठाकुर, ढालेश साहू, ज्ञानेश्वर यादव, राजेंद्र साहू, रामनारायण, मणिराम, शंकरराव, गीतेश्वर, अतीश कुमार, भूपेंद्र चौबे, दीपक यादव मौजूद थे।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned