राहुल गांधी को चुनावी सभा में पीला लिफाफा थमाकर मंच पर रो पड़ी पूर्व विधायक, कांग्रेस नेताओं की उड़ी रहीं हवाईयां

खुर्सीपार में जिले के सभी छह कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन में राहुल गांधी की चुनावी सभा के दौरान मंच पर पार्टी की अंदरूनी राजनीति का लिफाफा खुल गया।

By: Dakshi Sahu

Published: 15 Nov 2018, 11:00 AM IST

भिलाई . खुर्सीपार में जिले के सभी छह कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन में राहुल गांधी की चुनावी सभा के दौरान मंच पर पार्टी की अंदरूनी राजनीति का लिफाफा खुल गया। मंच पर बैठी प्रतिमा चंद्राकर अचानक उठकर आईं और राहुल गांधी के हाथ में पीले रंग का लिफाफा पकड़ा दिया। बुधवार को राहुल के सामने अचानक हुए इस वाकए ने कांग्रेस के मंच पर ही सियासी हलचल मचा दी। राहुल और प्रतिमा के बीच दो मिनट चर्चा हुई।

इसके बाद राहुल लिफाफा खोलकर उसमें रखी चिट्ठी पढऩे लगे। इस बीच मंच पर मौजूद कांग्रेस नेताओं के चेहरे पर हवाइयां उडऩे लगीं। प्रतिमा अपनी जगह जाकर बैठ गईं, लेकिन सभी की नजर उन पर ही लगी रही। राहुल ने चिट्ठी पढऩे के बाद उसपर कुछ लिखा और प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया को दी। राहुल ने प्रतिमा को फिर बुलवाया। उनके सामने मोतीलाल वोरा, पुनिया और सांसद ताम्रध्वज साहू से बात की, फिर पुनिया से कुछ कहा।

मंच पर बैठी प्रतिमा के चेहरे पर थी उदासी
मंच पर प्रतिमा को पीछे की पंक्ति में बैठाया गया था। प्रत्याशी घोषित किए जाने के बाद पार्टी ने उनकी जगह सांसद ताम्रध्वज साहू को मैदान में उतार दिया था। माना जा रहा है वे इस बात से आहत हैं। हालांकि राहुल की सभा में उनको आमंत्रित किया गया था और वे राहुल के आने से आधा घंटा पहले ही पहुंच गई थीं। लेकिन उनके चेहरे पर उदासी साफ नजर आ रही थी। राहुल के मंच पर आते ही प्रतिमा ने भी उनका अभिवादन किया।

patrika

चुनावी खर्च न बढ़ जाए, इसलिए सभी कांग्रेस प्रत्याशी एक मंच पर
राजनीतिक दल और प्रत्याशी अब चुनाव खर्च की सीमा को लेकर परेशान नजर आ रहे हैं। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष की भिलाई में चुनावी सभा के दौरान एक ही मंच पर सभी छह प्रत्याशियों को लाया गया। माना जा रहा है कि इससे सभा का खर्च किसी एक प्रत्याशी के व्यय में नहीं जुड़ेगा।

नामांकन के बाद टिकट काटने से नाराज हैं प्रतिमा
प्रतिमा दुर्ग ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र से नामांकन जमा करने के बाद टिकट काटने से नाराज हैं। पार्टी ने अचानक उनके बदले सांसद ताम्रध्वज साहू को प्रत्याशी घोषित कर दिया। इन्हीं सब बातों का उल्लेख उन्होंने पत्र में किया है। उन्होंने अविभाजित दुर्ग जिले में कांग्र्रेस पार्टी को मजबूत करने में अपने पिता स्वर्गीय वासुदेव चंद्राकर के योगदानों का भी जिक्र पत्र में किया है। राहुल ने पुनिया से चुनाव के बाद प्रतिमा को दिल्ली लेकर आने कहा।

राहुल ने बुलवाया प्रतिमा को
प्रतिमा पीछे की दूसरी पंक्ति में कुर्सी पर बैठी थीं। मंच पर सामने पहली पंक्ति की कुर्सियों में राहुल के साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव मोतीलाल वोरा, प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल, चरणदास महंत, सांसद ताम्रध्वजू साहू बैठे थे। जिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष तुलसी साहू सभा शरू करने जा ही रही थी कि प्रतिमा अचानक उठीं और राहुल के पास जाकर हाथ में पीले रंग का लिफाफा थमा दिया। दो मिनट चर्चा के बाद वापस अपने स्थान पर बैठ गई। कुछ देर बाद राहुल ने प्रतिमा को बुलवाया।

कांग्रेस को खड़ा किया मेरे पिता ने
पूर्व विधायक प्रतिमा चंद्राकर ने कहा जिस परिवार से मैं हूं, उसके लिए टिकट कोई मायने नहीं रखता। मेरे पिताजी ने यहां कांग्रेस को खड़ा किया है। इन्हीं बातों को मैंने पत्र में लिखा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने चुनाव के बाद दिल्ली बुलाया है।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned