रावघाट रेललाइन: अंतागढ़ तक ट्रेक बनकर तैयार, 21 मार्च को कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की मौजूदगी में दौड़ेगा इंजन

  • 21 मार्च को कोलकाता से रेलवे सेफ्टी कमिश्नर अपनी टीम के साथ यहां पहुंचेंगे और ट्रेक की बारीकी से जांच करेंगे।
  • इसके लिए रेलवे और एसएसबी ने अपनी तैयारी कर ली है। (rowghat rail project CG)

By: Dakshi Sahu

Published: 19 Mar 2020, 04:55 PM IST

भिलाई. दल्ली राजहरा से गुदुम, भानुप्रपातपुर और अब केंवटी के बाद अंतागढ़ की ओर रेलवे लाइन अपने कदम बढ़ा चुका है। बीएसपी (Bhilai steel plant) की लाइफ लाइन रावघाट रेलवे लाइन में अंतागढ़ तक का काम पूरा हो चुका है। बस अब इंतजार है इन पटरियों पर इंजन दौड़ेने की। केंवटी से अंतागढ़ तक 18 किलोमीटर तक का ट्रेक बनकर तैयार है। एसएसबी (SSB in Chhattisgarh) की सुरक्षा के बीच आरवीएनएल ने अपना काम लगभग समय पर कर दिया है। इधर अब रेलवे ने भी इस ट्रेक पर ट्रायल के लिए हरी झंडी दिखा दी है। आरवीएनएल के अधिकारियों की मानें तो 21 मार्च को कोलकाता से रेलवे सेफ्टी कमिश्नर अपनी टीम के साथ यहां पहुंचेंगे और ट्रेक की बारीकी से जांच करेंगे। इसके लिए रेलवे और एसएसबी ने अपनी तैयारी कर ली है।

टीम के सामने इंजन ट्रायल
रेलवे अधिकारियों के अनुसार कमिश्नर रेलवे सेफ्टी और उनकी टीम के बारीकी से जांच के बाद उसी दिन इंजन का भी ट्रायल होगा। इंजन ट्रायल होने के बाद सेफ्टी की टीम अपनी रिपोर्ट तैयार करेगी और जब वह क्लीन चिट देगी उसके बाद ही स्पेशल ट्रेन का ट्रायल कर स्पीड टेस्ट किया जाएगा। रेलवे की मानें तो आने वाले दो महीने के अंदर केंवटी से अंतागढ़ तक ट्रेन शुरू हो सकती है। इधर अंतागढ़ में स्टेशन बनकर तैयार है और वहां प्लेटफार्म से लेकर बुकिंग काउंटर तक का कार्य पूरा हो चुका है।

18 किलोमीटर में 31 पुल-पुलिया
केंवटी से अंतागढ़ के 18 किलोमीटर वाले एरिया में करीब 31 छोटे पुलिया और 4 बड़े पुल है। इन चार बड़े पुल में सबसे बड़ा लंबा करीब 70 मीटर का पुल मासबरस सीओबी से करीब 4 किलोमीटर दूर पुल नंबर 276 है जो बलराम नाला के ऊपर बना है।

अब तक 60 किमी का काम पूरा
केन्द्र सरकार की महत्वपूर्ण रेल परियोजना के तहत दल्ली राजहरा से रावघाट तक रेल लाइन बिछाने का काम 2014 से चल रहा है। 2018 तक दल्लीराजहरा से गुदुम और फिर गुदुम, भानुप्रतापपुर और केंवटी तक 42 किलोमीटर की रेललाइन पिछले साल तक तैयार हो चुकी थी। केंवटी तक ट्रेन शुरू होने के बाद एक साल के अंदर ही अंतागढ़ तक 18 किलोमीटर तक का काम पूरा किया कर लिया गया है। यानी रावघाट की ओर रेलवे ने 60 किलोमीटर तक का काम पूरा कर लिया है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned