scriptReligious harmony in Bhilai | कौमी एकता की अनोखी मिसाल, हर साल उर्स का नेतृत्व करता है यहां हिंदू भाई | Patrika News

कौमी एकता की अनोखी मिसाल, हर साल उर्स का नेतृत्व करता है यहां हिंदू भाई

एक हिंदू भाई दुर्ग में बाबा अब्दुल शाह रहमान काबुली रहमतल्ला अलैह का शाही उर्स पूरी शान-ओ-शौकत के साथ मनाता है।

भिलाई

Published: December 06, 2017 01:32:24 pm

भिलाई. अयोध्या में विवादित ढांचा गिराने के मसले को 25 साल पूरे हो गए हैं। देश में भले ही आज भी इसको लेकर विवाद की स्थिति है, लेकिन यदि आप इस तनाव को दरकिनार कर कौमी एकता की मिसाल देखना चाहते हैं हो तो कहीं न जाए। अपना दुर्ग शहर ही आपको भाईचारे का सही मतलब समझा देगा।
patrika
आप यह जानकर खुशी से भर जाएंगे कि कैसे एक हिंदू भाई दुर्ग में बाबा अब्दुल शाह रहमान काबुली रहमतल्ला अलैह का शाही उर्स पूरी शान-ओ-शौकत के साथ मनाता है। मुस्लिम समुदाय के उर्स का नेतृत्व एक हिंदूभाई करता है। भाईचारे की यह मिसाल दुर्ग के व्यावसायी प्रकाश देशलहरा पिछले ३५ साल से पेश करते आ रहे हैं।
२० साल से वे ही उर्स पाक समिति के अध्यक्ष हैं। मुस्लिम भाईयों ने ही उन्हें हर बार निर्विरोध यह पद सौंपा है। बाबा का उर्स कराने की जिम्मेदारी लेने वालों में जितने मुस्लमान है, उतने ही हिंदू भी। कौमी एकता की ऐसी मिसाल देने वालों ने ही अपने शहरों को सामुदायिक विवादों की परछाई से भी महफूज रखा है। इस उर्स का नाम ही कौमी एकता उत्सव।
 

patrikaदरगाह का मुख्य गेट आपसी भाईचारे का सबसे बड़ा प्रमाण पेश करता है। गेट पर लिखी चंद लाइनें 'मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर करनाÓ सब कुछ बयां कर देती हैं। २००४ में गेट के निर्माण के समय यह लाइनें लिखवाई गई थी, जो आज भी मिट नहीं पाई हैं।
यह गेट लंबे समय से आपसी भाईचारे का गवाह है। हिंदू भाईयों ने इस गेट की तामीर के वक्त ही इसे एकता द्वार का नाम दे दिया था। मुस्लिम भाई भी इस पहल में शामिल हुए थे। गेट तो अब पुराना हो चला है, लेकिन सम्प्रादायिक सद्भाव का यह सिलसिला अब भी जारी है।
बाबा के नाम पर रखा गया चिटनविस मार्ग
कौमी एकता का वह मंजर भी हमारे लिए यादगार है जब हमने दुर्ग के चिटनविस मार्ग का नाम बदलने में कोई विवाद नहीं किया। पटेल चौक से इंदिरा मार्केट जाने वाले रोड को बाबा अब्दुल रहमान शाह मार्ग घोषित किया। नाम बदलने की बात पर मजहब आड़े नहीं आया। एक उंगली भी नहीं उठी।
हिंदू भाई मुस्लिम समुदाय के उर्स में हर साल लंगर कराता है। पिछले 35 साल में सबकुछ बदला, लेकिन लंगर की रीत अब भी वैसे ही पूरे शबाब पर होती है। ईद-मिलादुन्नबी पर हिंदू भाई स्वागत करते हैं तो दीवाली पर मुस्लिम मिठाइयां बांटते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

भारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पाजिटिविटी रेटअरुणाचल प्रदेश में भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर 4.9 मापी गई तीव्रताभारत में निवेश का बेहतरीन समय, अगले 25 साल का प्लान बना सकते हैं- दावोस सम्मेलन में बोले पीएम मोदीPunjab Election 2022: अरविंद केजरीवाल आज करेंगे 'आप' के सीएम उम्मीदवार का ऐलानCorona Vaccination: 12 से 14 साल तक के बच्चों को मार्च से लगेंगे टीकेIPL 2022: हार्दिक पांड्या, राशिद खान और शुभमन गिल की चमकी किस्मत, इतने करोड़ देगी अहमदाबाद की टीमछत्तीसगढ़ के युवा वैज्ञानिक ने खोजी न्यूनतम कीमत में हृदयगति मापन की ऐसी विधि, शोध देखकर दुनिया रह गई है हैरानसर्वार्थसिद्धि योग में नववर्ष—2022 का पहला पुष्यनक्षत्र आज
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.