scriptRemoved from danger mark, newborn got new life | Bhilai खतरे के निशान से निकाला बाहर, नवजात को मिला नवजीवन, | Patrika News

Bhilai खतरे के निशान से निकाला बाहर, नवजात को मिला नवजीवन,

शास्त्री अस्पताल में पहली बार इस्तेमाल किए फोटोथेरेपी,

भिलाई

Published: February 24, 2022 09:07:01 pm

भिलाई. लाल बहादुर शास्त्री शासकीय अस्पताल, सुपेला में डिलिवरी के बाद एक नवजात की तबीयत बिगड़ती चली गई। वह खतरे के निशान के करीब पहुंच गई। नवजात को सीरम बिलिरुबिन (जो खून का अपव्यय तत्व है) की मात्रा बढ़ गई थी। जिसको सघन ट्रिपल सरफेस फोटोथेरेपी से इलाज किए। जिसमें करीब पांच दिनों बाद ब्रिच होकर खतरे के निशान से काफी नीचे चला गया। शास्त्री अस्पताल में फोटोथेरेपी का पहली बार इस्तेमाल किया गया और नवजात उसकी मां के साथ स्वस्थ्य होकर घर लौटी। ऐसे वक्त में नवजात के जतन में लगी टीम खुशी से फूले नहीं समा रही थी।

Bhilai खतरे के निशान से निकाला बाहर, नवजात को मिला नवजीवन,
Bhilai खतरे के निशान से निकाला बाहर, नवजात को मिला नवजीवन,

फोटोथेरेपी से उपचार
प्रकाश से उपचार कराने की विधि बहुत पुरानी है। पहले के समय में सूर्य किरण से उपचार किया जाता था, लेकिन अब ट्यूबलाइट से एलइडी से, ग्रीन लाइट से पीलिया का उपचार किया जाता है। जिसमें 30 माइक्रोवार के बॉडी सरफेस के हिसाब से लाइट एमिशन थेरेपी की जाती है। इसे सिंगल सरफेस ( एक तरफ प्रकाश ), डबल सरफेस ( उपर और नीचे दोनों तरफ प्रकाश ) और ट्रिपल सरफेस ( दाएं और बांए प्रकाश ) दिया जाता है। यह नवजात को पीलिया के उपचार में कारगर साबित हो रहा है। यह उपचार शास्त्री अस्पताल में भी उपलब्ध है जो नवजात के लिए वरदान साबित हो रहा है।

बच्चे ने पी लिया था गंदा पानी
16 फरवरी 2022 को शास्त्री अस्पताल में बेला और अजय चंद्रवंशी के घर पहले संतान का जन्म रात करीब 11.26 बजे हुआ। नार्मल डिलिवरी की गई। नवजात के जन्म के बाद माता को 12 घंटे लिकिंग होता रहा। बच्चे ने गंदा पानी पी लिया था जिससे मिकोनियम स्टेंड भीगा हुआ था। जिसको प्रॉपर रिसक्सिटेशन से रिवाइव करके स्पेशल न्यूबोर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) में जो चार बेड का बना हुआ है, उसमें रखकर गहन उपचार किया गया।

अगले दिन नजर आया पीलिया
एसएनसीयू में मौजूद नवजात के पूरे शरीर में अगले दिन शाम तक पीलिया नजर आने लगा। जिसकी जांच सीबीसी, सीआरपी, ब्लड ग्रुप व अन्य जांच कराया गया। बच्चे का ब्लड ग्रुप ए प्लस वीई आया। मां का ब्लड ग्रुप डी प्लस वीई है। जिसे मेडिकल लैंग्वेज में एबीओ अक्षमता कहा जाता है। जिसमें पीलिया दूसरे और तीसरे दिन सामान्यत: हो जाता है।

नवजात का सीआरपी था 11.6
नवजात का सीआरपी 11.6 था और ब्लड काउंट बढ़ा हुआ था। मां को लींकिग था, जिसकी वजह से अर्ली सेप्टिवनिया दिया गया। जिसकी वजह से पीलिया बढ़ा था, इसमें पीडियाट्रिक के चिकित्सक का उपचार व केयर में सहयोग रहा।

इस टीम को मिली सराहना और दुआ
शास्त्री अस्पताल से खुशी-खुशी घर लौटते वक्त नवजात के माता-पिता ने अस्पताल की टीम को दुआ दिया। वहीं इस बेहतर काम के लिए वरिष्ठ अफसरों ने सराहा भी। टीम में डॉक्टर मोहित सोनी, वरिष्ठ शिशुरोग विशेषज्ञ), डॉक्टर वाई किरण, एक्टिव शिशु रोग विशेषज्ञ के प्रयास से नवजात को नवजीवन मिला। इसमें आईसीयू की टीम जिन्होंने 24 घंटे नवजात पर नजर रखी और अपनी जिम्मेदारी को निभाया उसमें सिस्टर अनिरंजना मेश्राम, एस अब्राहम, अल्का रानी, रोमेश्वरी, रागिनी गजभिये, वर्षा सिंह प्रमुख है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.