एशिया के सबसे बड़े स्टील प्लांट BSP में टूल डाउन से हड़बड़ाया SAIL प्रबंधन, वेतन समझौते पर बुलाई बैठक

Wage revision in Bhilai steel plant: नेशनल ज्वाइंट कमेटी फॉर स्टील (एनजेसीएस) की सदस्य यूनियनों के प्रतिनिधियों से चर्चा करने 23 अप्रैल को बैठक का बुलावा भेजा है।

By: Dakshi Sahu

Published: 13 Apr 2021, 11:50 AM IST

भिलाई. लंबित वेतन समझौते को लेकर स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL) के रवैए से Bhilai Steel Plant सहित सेल की सभी इकाइयों में कर्मचारी खासे नाराज हैं। सभी संयंत्रों में टूल डाउन कर कर्मी नाराजगी जता रहे हैं। यूनियनों की साझा आंदोलन की तैयारी भी चल रही है। चेतावनी से हड़बड़ाए सेल प्रबंधन ने अब गतिरोध दूर करने खुद पहल की है। भिलाई स्टील मजदूर सभा (एटक) के महासचिव विनोद कुमार सोनी ने बताया है कि नेशनल ज्वाइंट कमेटी फॉर स्टील (एनजेसीएस) की सदस्य यूनियनों के प्रतिनिधियों से चर्चा करने 23 अप्रैल को बैठक का बुलावा भेजा है। यह एनजेसीएस की बैठक नहीं है। प्रतिनिधियों को रायशुमारी के लिए बुलाया गया है। फिलहाल बैठक का समय और स्वरूप कि आमने-सामने चर्चा होगी या वर्चुअल, अभी तय नहीं हुआ है।

Read more: वेतन समझौता में देरी, नाराज BSP कर्मियों ने किया अचानक टूल डाउन, यूनिवर्सल रेल मिल में उत्पादन ठप ...

सभी संयंत्रों में है SAIL प्रबंधन के खिलाफ गुस्सा
BSP के 16500 सहित पूरे सेल के करीब 56 हजार कर्मियों का वेतन समझौता 1 जनवरी 2017 से लंबित है। एनजेसीएस की पिछली दो वार्ता में सेल प्रबंधन ने जिस तरह से वेतन समझौते का प्रस्ताव रखा, उससे यूनियनें और कर्मी भड़क गए हैं। पिछली बैठक में तो यूनियन नेता बैठक बीच में ही छोड़कर चल गए। इसके साथ ही सभी संयंत्रों के कर्मियों में सेल प्रबंधन के खिलाफ बेहद गुस्सा है। सभी संयंत्रों में टूल डाउन जैसे हड़ताल से प्रबंधन को चेतावनी भी दे रहे हैं। यहां भिलाई इस्पात संयंत्र में भी युवा कर्मियों ने बिना यूनियन और किसी का झंडा, बैनर थामे यूनिवर्सल रेल मिल और बार एंड राड मिल में 11 घंटे उत्पादन ठप कर दिया था।

एचएमएस की हड़ताल की चेतावनी का असर
एचएमएस से संबंद्ध भिलाई श्रमिक सभा ने तो 13 अप्रैल को एक दिनी हड़ताल का नोटिस भी दे दिया था। हालांकि सेंट्रल लेबर कमिश्रर की समझाइश और कोविड-19 की मौजूदा विपरीत परिस्थितियों को देखते हुए फिलहाल हड़ताल टाल दी गई है, लेकिन प्रबंधन को सख्त हिदायत दी गई थी कि वेतन समझौता वार्ता टूटना नहीं चाहिए। इसके लिए जल्द तारीख तय करने की हिदायत सीएलसी ने बीएसपी प्रबंधन को दी थी। इसके बाद ही सेल प्रबंधन ने एनजेसीएस नेताओं से रायशुमारी करने का निर्णय लिया है। कोरेाना के दूसरी लहर के बीच बीएसपी कर्मियों की संक्रमण से लगातार मौत को देखते हुए भी कर्मी काफी गुस्से में है। उन्होंने प्रबंधन पर कर्मियों की जान को जोखिम में डालने का आरोप लगाया है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned