भिलाई: पत्नी को आत्महत्या के लिए DSP ने उकसाया अब 5 महीने बाद पति को तेज रफ्तार ट्रेलर ने कुचला

पारिवारिक मामले में महिला डीएसपी के द्वारा घुसकर थप्पड़ मारने के बाद खुदकुशी करने वाली सुखविंदर के पति को तेज रफ्तार ट्रेलर ने रौंद दिया।

By: Dakshi Sahu

Published: 01 Dec 2020, 01:16 PM IST

भिलाई. पारिवारिक मामले में महिला डीएसपी के द्वारा घुसकर थप्पड़ मारने के बाद खुदकुशी करने वाली सुखविंदर के पति को तेज रफ्तार ट्रेलर ने रौंद दिया। सुखविंदर केस में पांच महीने बाद पति की संदेहास्पद मौत से परिजन भड़क गए हैं। उन्होंने सुखविंदरआत्महत्या केस की फरार आरोपी महिला डीएसपी पर अपने बहू के बाद बेटे की भी हत्या करवाने का आरोप लगाकर थाने में प्रदर्शन किया। दरअसल चरोदा आदर्श नगर निवासी केवी अरूण कुमार को पीछे से एक ट्रेलर ने ठोकर मार दिया। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। घटना सोमवार को सुबह करीब पौने आठ बजे की है। वे ड्यूटी जाने के लिए निकले थे। घटना की जानकारी मिलते ही परिजन अरुण कुमार का शव लेकर थाना पहुंच गए। वे पुलिस की एक महिला अधिकारी पर हत्या करवाने का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे। पुलिस की दखल से मामला शांत हुआ। पोस्टमॉर्टम के लिए शव को लाल बहादुर शास्त्री शासकीय अस्पताल लाया गया, लेकिन परिजनों ने पीएम नहीं कराया और एक दिन का समय लिया। शव को मॉरच्यूरी में रखा गया है।

निजि कंपनी में सुपरवाइजर था
कुम्हारी टीआई आशीष यादव ने बताया कि आदर्श नगर वार्ड-23 निवासी केवी अरूण (45 वर्ष) कल्पतरू कंपनी में सुपरवाइजर था। सुबह बाइकर पर सवार होकर ड्यूटी के लिए घर से निकला। कृष्णा नर्सिंग होम के पास ट्रेलर सीजी-07 एडब्ल्यू 5325 ने निर्माणाधीन ब्रिज के पास ठोकर मार दिया। बाइक दूर फेंका गया और अरुण कुमार पहिए के नीचे आ गया। ट्रेलर उसे रौंदता हुआ निकल गया। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। परिजन घटना स्थल पर पहुंच गए। शव को मॉरच्यूरी ले जा रहे थे, लेकिन परिजन शव लेकर थाना पहुंच गए। समझाइश पर मान गए। शव को मॉरच्यूरी में रखवा दिया है। मंगलवार को पीएम करवाया जाएगा। मामले में मर्ग कायम कर ट्रेलर को रायपुर से बरामद कर लिया है। आगे की जांच की जा रही है।

भिलाई: पत्नी को आत्महत्या के लिए DSP ने उकसाया अब 5 महीने बाद पति को तेज रफ्तार ट्रेलर ने कुचला

मृतक ने पत्नी की आत्महत्या के लिए महिला डीएसपी को ठहराया था जिम्मेदार
केवी अरुण की पत्नी सुखविंदर (40 वर्ष) ने पांच माह पूर्व घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। तब केवी अरूण ने आरोप लगाया था कि अमलेश्वर बटालियन में पदस्थ एक महिला पुलिस अधिकरी अपनी सहेली के साथ उसके घर आई थी। सुखविंदर को परिजनों और बेटी के सामने अश्लील आरोप लगाते हुए एक थप्पड़ जड़ दिया था। जिससे क्षुब्ध होकर उसने खुदकुशी कर ली। पुलिस ने अपने विभाग की उस महिला अधिकारी पर आत्महत्या के लिए उकसाने का प्रकरण दर्ज किया। तब से महिला अधिकारी फरार है।

महिला अधिकारी समझौते के लिए अरुण पर बना रही थी दवाब
परिजनों का आरोप है कि महिला डीएसपी, केवी अरूण पर लगातार समझौता करने का दबाव बना रही थी, लेकिन अरूण ने इनकार कर दिया था। उनका आरोप है कि उसी महिला अधिकारी ने अरुण कुमार की हत्या करवाई है। परिजनों का कहना है कि पहले अपनी बहू को खोया और बेटा को भी खो दिया। एक बेटी है जिसके सिर से मां और पिता का साया उठ गया। घटना से परिवार में मातम है।

पांच माह बीत गए, महिला पुलिस अधिकारी की गिरफ्तारी नहीं हुई
अरुण कुमार के परिजनों ने पुलिस की कार्यप्रणाली सवाल उठाया। कहा कि पांच माह बाद भी पुलिस महिला अधिकारी को गिरफ्तार नहीं कर रही है। आरोपी महिला अधिकारी को हाईकोर्ट ने भी अग्रिम जमानत नहीं दी। तब वह अरुण पर दबाव बनाने लगी। केबी अरुण ने इसकी जानकारी पुलिस को दी लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उसे फरार बता रही है।

पुलिस की फोर्स तैनात
स्थिति को देखते हुए थाना में अतिरिक्त पुलिस बल बुला लिया गया। भिलाई तीन टीआई विनय सिंह दल बल के साथ कुम्हारी थाना पहुंचे थे। इधर सुपेला थाना पुलिस को लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल के मॉरच्यूरी में तैनात कर दिया गया था। लेकिन मामला शांत रहा। विश्वस चंद्राकर, सीएसपी छावनी ने बताया कि आरोपी डीएसपी के मामले में प्रार्थी केवी अरुण की सड़क हादसे में मौत हो गई। थाना पहुंचकर परिजन उस पर हत्या करवाने का आरोप लगा रहे थे। उन्हें समझाया गया। यह दुर्घटना है। सीसीटीवी कैमरे का फुटेज भी उन्होंने देख लिया है। परिजन मान गए है, मंगलवार को पोस्टमॉर्टम करवाया जाएगा।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned