CG की 2.50 करोड़ आबादी को सांसें देना वाला जिला बना दुर्ग, BSP ने बढ़ाया उत्पादन अब 11 निजी टैंकर्स से हो रही ऑक्सीजन सप्लाई

परिवहन विभाग ने सभी निजी टैंकरों को रायपुर और दुर्ग से अधिग्रहित किया। उन टैकरों से ऑक्सीजन विभिन्न जिलों में पहुंचाया गया।

By: Dakshi Sahu

Updated: 02 May 2021, 05:26 PM IST

बीरेंद्र शर्मा @भिलाई. कोरोना संकट में छत्तीसगढ़ की 2.50 करोड़ आबादी की सांसें बनकर आज दुर्ग जिला लोगों को ऑक्सीजन के जरिए नई जिंदगी दे रहा है। एक ओर भिलाई स्टील प्लांट ने ऑक्सीजन का उत्पादन बढ़ाया तो दूसरी ओर निजी कंपनियों ने मदद का हाथ बढ़ाकर ऑक्सीजन टैंकर के जरिए इस प्राणवायु की सप्लाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की एकाएक बढ़ी मांग देखकर नीचे से उपर तक अधिकारी हड़बड़ा गए। कारण यह था कि ऑक्सीजन तो था लेकिन प्रदेश भर में पहुंचाने की चुनौती थी। सरकारी ऑक्सीजन टैंकर प्रदेश में कहीं नहीं हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश के निजी कंपनी के ऑक्सीजन टैंकरों का सहारा लिया। तब जाकर इस संकट में 11 निजी ऑक्सीजन टैंकरों के भरोसे पूरे प्रदेश में भिलाई स्टील प्लांट से प्राणवायु की सप्लाई की गई। इन टैंकरों के माध्यम से ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी गई। भिलाई स्टील प्लांट में ऑक्सीजन का उत्पादन तो बहुत हो रहा है, लेकिन सप्लाई करने की दिक्कत आ रही थी ऐसे में परिवहन विभाग ने सभी निजी टैंकरों को रायपुर और दुर्ग से अधिग्रहित किया। उन टैकरों से ऑक्सीजन विभिन्न जिलों में पहुंचाया गया।

भिलाई स्टील प्लांट के अंदर प्राक्सएअर कंपनी के पास 6 ऑक्सीजन टैंकर है। छत्तीसगढ़ सरकार के निर्देश पर दुर्ग परिवहन विभाग ने इन ऑक्सीजन टैंकरों को तत्काल अधिग्रहित किया। प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी महसूस हुई तब कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने भिलाई स्टील प्लांट से संपर्क किया। इसके बाद प्राक्सएअर कंपनी से बातचीत की। प्राक्सएअर लिमिटेड कंपनी से 2 ऑक्सीजन टैंकर (क्रायोजेनिक टैंकर) की सप्लाई केंद्र में की जा रही है। वहीं 6 ऑक्सीजन टैंकरों के माध्यम से प्रदेश में सप्लाई करने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा आरटीओ ने जिंदल कंपनी के 2-आक्सीजन टैंकर, रायपुर राम गैसेस का 1 और पंकज ऑक्सीजन कंपनी की 2 टैंकर को अधिग्रहण किया। इस तरह से पूरे प्रदेश में प्राणवायु की सप्लाई की गई।

ऐसे किया गया वितरण
छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य और जिला स्तर की दो टीम का गठन किया। दुर्ग कलेक्टर के निर्देशन में जिले की टीम में एडीएम, आरटीओ, खाद्य एवं औषधि प्रशासन और मुख्य चिकित्सा अधिकारी शामिल थे। जिलेवार मांग के आधार पर ऑक्सीजन की सप्लाई की गई। दुर्ग में अतुल गैंस, रायपुर पंकज ऑक्सीजन, रामा गैसेज व ल्यूपीन, बिलासपुर बालाजी, सदगुरु गैस, रायगढ़ बालाजी गैंस एजेंसियों के माध्यम से अस्पतालों तक सप्लाई की गई।

दुर्ग जिले को मुफ्त में दिया जा रहा प्राणवायु
भिलाई स्टील प्लांट कोरोना संकट के दौर में दुर्ग जिले को मुफ्त में ऑक्सीजन उपलब्ध करा रहा है। कलेक्टर के निर्देश पर जिले के विभिन्न अस्पतालों को 1 से 25 अप्रेल तक 1249 सिलेंडर नि:शुल्क दिए जा चुके हैं। इसी तरह अन्य राज्य में 1 से 25 अप्रेल तक 5930 टन ऑक्सीजन भेजे जा चुके है।

एक सप्ताह में देश और प्रदेश में प्राणवायु की सप्लाई (टन में)
महीना - छत्तीगढ़- अन्य राज्य
30- अप्रेल- 130 - 420
29- अप्रेल -115 - 367
28- अप्रेल-150 - 490
27- अप्रेल- 155 - 415
26- अप्रेल- 169 - 410
25- अप्रेल- 185 - 413

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned