सुआ नृत्य और बाल दिवस के कारण स्टेडियम से छिन गई बीसीसीआई क्रिकेट मैच की मेजबानी

Satya Narayan Shukla

Publish: Nov, 14 2017 11:13:30 (IST)

Bhilai, Chhattisgarh, India
सुआ नृत्य और बाल दिवस के कारण स्टेडियम से छिन गई बीसीसीआई क्रिकेट मैच की मेजबानी

दो-दो बार खुदाई के कारण स्टेडियम का बुरा हाल है। हालात यह है कि इसके चलते बीसीसीआई के क्रिकेट मैच की मेजबानी हाथ से छीन गया।

दुर्ग. सीएम डॉ. रमनसिंह ने रविशंकर स्टेडियम को संवारने की घोषणा की है। इस पर अभी अमल भी शुरू नहीं हो पाया है और अब उन्हीं के लिए स्टेडियम खोदकर दोबारा पंडाल तान दिया गया। पखवाड़ेभर में दो-दो बार आयोजन व खुदाई के कारण स्टेडियम का बुरा हाल है। हालात यह है कि इसके चलते बीसीसीआई के क्रिकेट मैच की मेजबानी हाथ से छीन गया।

अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानक के अनुरूप संवारने की घोषणा

स्टेडियम में इससे पहले 29 अक्टूबर को सुआ महोत्सव का आयोजन किया गया। इस दौरान भी स्टेडियम के भीतर विशाल पंडाल बनाया गया था। इसके अलावा स्टेडियम के चारों ओर बांस-बल्लियां गड़ाई गई थी। इस कार्यक्रम में भी मुख्यमंत्री शामिल हुए।इस दौरान भाजपा की राष्ट्रीय महासचिव सरोज पांडेय ने स्टेडियम की दुर्दशा पर उनका ध्यान आकृष्ट कराया था। इस पर उन्होंने स्टेडियम को अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानक के अनुरूप संवारने की घोषणा की थी।

बीसीसीआई के आब्जर्वर ने किया खारिज
बीसीसीआई ने अंडर 19 के दिल्ली और छत्तीसगढ़ के बीच मैच की स्वीकृति रविशंकर स्टेडियम को दी थी। इस पर सुआ महोत्सव के बाद बीसीसीआई के आब्जर्वर जीएस मूर्ति ने स्टेडियम का मुआयना करने पहुंचे, लेकन उन्होंने स्टेडियम की हालत देखने के सुधार की शर्तपर भी मैच कराने से इंकार कर दिया। यह मैच फिलहाल भिलाईबीएसपी मैदान में खेला जा रहा है।

इन मैचों की मेजबानी पर भी खतरा
बीसीसीआई ने छत्तीसगढ़ क्रिकेट एसोसिएशन के माध्यम से अंडर 19 के स्टेट की टीम तैयार करने मैचों को भी मंजूरी दी है। इसमें बिलासपुर व दुर्ग, राजनांदगांव व रायपुर और दंतेवाड़ा व रायगढ़ के बीच इंटर डिस्टिक मैच के लिएभी मंजूरी दी है।यह मैच महीनेभर में कराएजाएंगे। जिला क्रिकेट एसोसिएशन के पदाधिकारियों की मानें तो मैदान के खराब हालत के चलते इस मैच पर भी खतरा है।
स्टेडियम की यह उपलब्धि फिर भी अनदेखी

स्टेडियम के नाम दर्ज यह उपलब्धियां
0 वर्ष 1979-8 0 में स्टेडियम में पहला क्रिकेट मैच खेला गया, इस मैच में कपिल देव , अशोक मल्होत्रा व मदनलाल भी उतरे।यह मैच स्थानीय स्तर पर खिलाडिय़ों के प्रोत्साहन के लिए खेला गया था।
0 सुनील गावस्कर , कपिल देव, सचिन तेंडुलकर, अशोक मल्होत्रा, मदन लाल, विरेन्द्र सहवाग, गौतम गंभीर , मनोज प्रभाकर, जवागल श्रीनाथ, गौतम गंभीर, वेंकटपति राजू सहित करीब दो दर्जन अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी यहां खेल चुके हैं।
0 वर्ष 1993 में खेला गया रेलवे व मध्यप्रदेशके बीच पहला रणजी मैच।
0 वर्ष 1999 में मध्यप्रदेश व उत्तरप्रदेश के बीच हुआ रणजी का मुकाबला, इसमें स्थानीय अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी राजेश चौहान में मध्यप्रदेश की कप्तानी की थी।
0 स्टेडियम में अब तक सात ऑल इंडिया टूर्नामेंट खेला जा चुका है। जिसमें ओएनजीसी, सेट्रल रेलवे, नार्दन रेलवे, इंडियन एयर लाइंस, इंडियन आइल, राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन, ओडिसा क्रिकेट एसोसिएशन, नागपुर रेलवे, बिहार क्रिकेट एसोसिएसन आदि की टीमें भाग ले चुकी हैं।

आब्जर्वर का मैच कराने से इंकार
जिला क्रिकेट एसोसिएशन दुर्ग के उपाध्यक्ष नवाब सिद्दीकी ने बताया किस्टेडियम में दिल्ली और छत्तीसगढ़ के बीच अंडर 19 का मैच कराया जाना था। बीसीसीआई की सहमति भी मिल गईथी, लेकिन पिच और आउट फील्ड बार-बार खोदे जाने के कारण खराब होने से आब्जर्वर ने मैच कराने से इंकार कर दिया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned