पहले पीडीएस का चावल और अब चोरी का आटा खरीदते पकड़ा गया शहर का यह नामी दुकानदार

पीडीएस का चावल खरीदने के आरोप में जेल जा चुके किशन खंडेलवाल को पुलिस ने एक बार फिर चोरी का आटा खरीदते हुए गिरफ्तार किया है।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 07 Jun 2018, 08:13 PM IST

दुर्ग. पीडीएस का चावल खरीदने के आरोप में जेल जा चुके स्टेशन रोड निवासी किशन खंडेलवाल (६५) को पुलिस ने एक बार फिर चोरी का आटा खरीदते हुए गिरफ्तार किया है। आरोपी के पास से ६६०० मूल्य का विद्या गोल्ड आटा पैकेट जब्त किया है। आरोपी को शुक्रवार को न्यायालय में प्रस्तुत किया जाएगा।

पूछताछ में दुकान संचालक ने पुलिस को पहले गुमराह किया
सिटी कोतवाली पुलिस ने गुरुवार को स्टेशन रोड स्थित रामधीन खण्डेलवाल अनाज दुकान में दबिश दी थी। जांच के दौरान दुकान से १२ बोरी में रखे विद्या गोल्ड आटा जब्त किया गया। पूछताछ में दुकान संचालक ने पुलिस को पहले गुमराह किया। बाद में चोरी का आटा पैकेट बेचने वाले युवकों को पुलिस ने जब सामने लाया तो व्यापारी शांत हो गया। पुलिस ने चोरी का माल खरीदने व बेचने की धारा के तहत अलग से प्रकरण तैयार किया है।

पैकेट चुराने वाले पर चोरी की धारा
ट्रक से आटा पैकेट चोरी करने के आरोप में पुलिस ने बांधा तालाब निवासी गौतम सिन्हा और शाहरुख खान को गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपी ने अपराध करना स्वीकार किया है। साथ ही आटा को बेचने का खुलासा कर अनाज व्यापारी को भी गिरफ्तार कराया। युवकों ने आटा चोरी कर समीप ही खंडहरनुमा मकान में छिपा दिया था। बाद में उसे खंडेलवाल दुकान तक पहुंचाया।

6 जून को किया था एफआईआर
ट्रक से आटा चोरी की शिकायत ग्रीन सिटी निवासी महेश गवलानी (३७) ने की थी। उसने पुलिस को जानकारी दी थी कि ५ जून को रसमड़ा से विद्या गोल्ड आटा लोड कर ट्रक को गंजपारा स्थित ऑफिस बाम्बे गुड्स ट्रांसपोर्ट के सामने खड़ा किया था। रात लगभग १२ से २ बजे के मध्य ट्रक में बंधे रस्सी को काट कर अज्ञात ने १२ बोरी आटा की चोरी कर ली। ट्रांसपोर्टर ने जांच के दौरान पुलिस को सीसी टीवी फुटेज उपलब्ध कराया था। फुटेज की मदद से पुलिस पहले आटा चोरी करने वाले युवकों तक पहुंची। बाद में अनाज व्यापारी को गिरफ्तार किया।

मार्च में जा चुका है जेल
किराना व्यापारी इसके पहले भी ३ बार पीडीएस चावल खरीदने के आरोप में गिरफ्तार हो चुका है।मार्च में दुर्ग सीएसपी भोजराम पटेल(आईपीएस) ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को जेल भेज दिया था। एक सप्ताह जेल में रहने के बाद वह जमानत पर रिहा हुआ है। वर्तमान में प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है।

Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned