चोरों ने बैंक की तिजोरी काटने का आइडिया यू-ट्यूब से लिया था

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक भिलाई तीन शाखा में चोरी के आरोपियों ने खुलासा किया कि बैंक की तिजोरी तोडऩे का आइडिया इटंरनेट से लिया था।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 10 Nov 2017, 02:48 PM IST

भिलाई. जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित भिलाई तीन शाखा में चोरी के आरोपियों ने पुलिस के सामने खुलासा किया कि बैंक की तिजोरी तोडऩे का आइडिया इटंरनेट से लिया था। हॉलाकि चोर तिजोरी को तोडऩे में सफल नहीं हो सके थे और उसे खाली हाथ लौटना पड़ा था।
शुक्रवार को पुलिस कंट्रोल रूम सेक्टर-छह में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में क्राइम ब्रांच के डीएसपी एसआर पोर्ते ने गैस कटर के माध्यम से बैंकों में चोरी करने वाले गिरोह का खुलासा किया। पुलिस ने इसके अलावा पैसों की लेन-देन को लेकर मछली मार्केट में हुई हत्या तथा नकबजनी गिरोह के बारे में भी जानकारी दी।

कैश हाथ नहीं आया तो कम्प्यूटर और प्रिंटर ले भागे थे

पुलिस ने बताया कि दीपावली त्योहार के पहले किसानों को बांटने के लिए जिला सहकारी बैंक भिलाई-तीन में पौने दो करोड़ कैश आया था। इसकी जानकारी गैस कटर गिरोह को हो चुकी थी। प्लानिंग के तहत चार आरोपी सिरसा कला भिलाई-तीन निवासी राजू यादव, टिकेश्वर चंद्राकर और उसके साथी सोमनी निवासी सूरज वर्मा व राजन भोई 14 नवंबर की सुबह साढ़े चार बजे बैंक पहुंचे। मुंह पर कपड़ा ढंके चोरों ने सबसे पहले बैंक में लगे सीसीटीवी कैमरे पर टेप चिपका दिया। इसके बाद बैंक के साइड गेट का ताला तोड़कर भीतर घुसे थे। वे अपने साथ गैस कटर भी ले गए थे। वे मोटे धातु से बने लॉकर की तीन में से एक परत काट चुके थे। दूसरी परत काट रहे थे इतने में सुबह हो गई। इसके पहले पांच दरवाजे के 9 ताले तोड़ दिए थे। कैश हाथ नहीं आया तो चोरों ने बैंक के चार कम्प्यूटर और प्रिंटर ही उठा ले भागे थे।

लाकर काटने का आइडिया इंटरनेट से लिया
जानकारी के मुताबिक आरोपी राजेंद्र भोई पिता चंद्रभान 25 साल निवासी महासमुंद के समीप ग्राम बसना से पीजीडीसीए का कोर्स करने आया था। इस दौरान उसकी मुलाकात टिकेश्वर चंद्राकर पिता सेवाराम 32 साल निवासी सिरसा कला से हो गई। टिकेश्वर को जमीन की खरीदी-बिक्री में घाटा हो गया था। इसलिए उसने दो अन्य साथी सोमनी भिलाई-तीन निवासी राजू यादव पिता स्व. कार्तिक 30 साल और सूरज वर्मा पिता शैलेष 26 साल के साथ बैंक में चोरी की प्लानिंग बनाई। बसना निवासी राजेंद्र ने इंटरनेट पर बैंक के लाकर को कैसे काटते है इसका आइडिया लिया। प्लानिंग के मुताबिक गैस सिलेंडर, और कटर खरीदकर वारदात को अंजाम दिया था।

यूको बैंक और एसबीआई एटीएम को तोडऩे की असफल कोशिश
पुलिस ने बताया कि गिरोह में एक ऑटो चालक भी शामिल है जो गैस सिलेंडर और कटर लेकर चोरों के साथ वारदात को अंजाम देता था और चोरी के सामानों को लेकर ऑटो से फरार हो जाते थे। इस गिरोह ने 26 सितंबर को रसमड़ा यूको बैंक एटीएम और दूसरी बार भिलाई-तीन एसबीआई के एटीएम को तोडऩे की असफल कोशिश की थी। इसके बाद भिलाई-तीन सहकारी बैंक में डाका डालने की साजिश रची थी। आरोपियों के खिलाफ भिलाई -तीन थाना में धारा 547,511 380, और 461 के तहत अपराध कायम किया गया है।

Show More
Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned