बीएसपी में हड़ताल को सफल बनाने संयुक्त यूनियन ने मुख्य गेट पर बांटा पर्चा

वेतन समझौते में लगी अफोर्डेबिलिटी की शर्त को हटाने 8 को हड़ताल.

By: Abdul Salam

Updated: 03 Jan 2020, 09:23 PM IST

भिलाई. भिलाई इस्पात संयंत्र के गेट पर संयुक्त यूनियन ने शुक्रवार को पर्चा वितरण किया। वे हड़ताल में शामिल होने के लिए कर्मियों को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं। बीएसपी कर्मियों का वेतन समझौता जनवरी 2017 से अटका है। इसमें सबसे बड़ी बाधा कर्मचारी प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी उस दिशा- निर्देशों को मान रहे हैं, जिसमें अफोर्डेबिलिटी क्लॉज की शर्त है। वेतन समझौता से अफोर्डेबिलिटी क्लॉज हटाने की मांग को लेकर ही 8 जनवरी 2020 को संयुक्त यूनियन हड़ताल पर जा रही है। संयुक्त यूनियन में बीएसपी की प्रतिनिधि यूनियन इंटक, सीटू, एटक, एचएमएस, एक्टू, इस्पात श्रमिक मंच, लोकतांत्रिक इस्पात मजदूर यूनियन, बीएसपी (सेल) ठेका कर्मचारी (एचएमएस) शामिल हैं।

निजी कंपनियों को बचा रही सरकार
यूनियन के वक्ताओं ने कहा कि निजी कंपनियां जो डूबने की कगार पर है सरकार उन्हें बचाने के लिए उनकी कर्ज मॉफ कर रही है। भारत के उप राष्ट्रपति ने हाल ही में भी यह कहा कि निजी कारोबारियों को बचाने के लिए उनकी सहायता सरकार को करनी है। इस तरह जनता का पैसा निजी कारोबारियों के कर्ज मॉफ करने के लिए उपयोग होता है।

सार्वजनिक उपक्रमों को बेचने की तैयारी
दूसरी ओर सार्वजानिक क्षेत्रों की बिक्री कर उसकी पूंजी से सरकार खुद आय कम रही है। सरकार के संरक्षित यह पूंजीपति ही सार्वजनिक क्षेत्र की संपत्ति को खरीदने के लिए सामने आते हैं। सरकार के खेले जा रहे, इस खेल के पीछे महज सार्वजनिक संपत्तियों को बेचकर निजी कारोबारियों को फायदा पहुंचाना है।

तीनों गेटों पर किया पर्चा वितरण
संयुक्त यूनियन हड़ताल का पर्चा लेकर बीएसपी के तीनों गेट में पहुंचे। यहां उन्होंने ड्यूटी आने वा जाने वाले कर्मियों को इस पर्चे को थमाया। इसके साथ-साथ यह भी कर्मियों को बताया कि प्रधानमंत्री ने पहले ही कहा है सार्वजनिक उपक्रमों का जन्म मरने के लिए होता है। इसी से इस सरकार की मंशा जाहिर होती है कि दूसरी बार जीतकर आने पर इनका उद्देश्य सार्वजनिक उपक्रमों को ख़त्म कर देना है।

सार्वजनिक उपक्रम को खत्म करने ले रहे यह सहारा
सार्वजनिक उपक्रम को खत्म करने सरकार ठेकाकरण, आउट सोर्सिंग, टर्म एम्प्लॉयमेंट, ऐच्छिक सेवानिवृति और सेवानिवृत कर्मियों की नियुक्ति दे रही है। इसके खिलाफ में 8 जनवरी 2020 को राष्ट्रीय हड़ताल में देश के सभी मजदूर, किसान, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मध्यान्ह भोजन कर्मी हिस्सा ले रहे हैं।

Show More
Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned