रमजान के हर रोजे के दिन 60 हजार गुनाहगारों को दोजक से निकालकर जन्नत में डालेगा खुदा... रोजदार को मिलेगी ये नेमतें

Mohammed Javed | Publish: May, 17 2018 09:26:54 PM (IST) Bhilai, Chhattisgarh, India

मौलाना इकबाल हैदर ने फरमाया कि हर मुसलमान पर रोजा फर्ज हैं। इससे भागा नहीं जा सकता। कयामत की दिन बख्शिश के दौर में रोजे की फजीलत भी काम आएगी।

भिलाई . रमजान का पहला रोजा आप सभी को मुबारक हो। अल्लाह फरमाता है कि इस पाक महीने में वो अपने बंदे के सारे गुनाह माफ कर देगा। अल्लाह की शान में रखा गया रोजा बंदे के चेहरे पर गजब का नूर देने के साथ-साथ कई बीमारियों से भी शिफा देगा। रमजान की फजीलत का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि रोजाना इफ्तार के बाद अल्लाह ६० हजार हजन्नमियों को आजाद कर जन्नत में जगह देगा। यही नहीं रमजान की आखिरी रात लाखों गुनहगार दोजक ने निकलाकर जन्नतियों में शामिल किए जाएंगे। ये बातें पत्रिका से खास बातचीत में जामा मस्जिद सेक्टर-६ के ईमाम मोहम्मद इकबाल हैदर अशरफी ने कहीं। उन्होंने पाक रमजान की फजीलत बताने के साथ ही साथ रोज के दौरान मालूम होने वाली कई ऐसी बातें भी बताईं जो रोजदार के रोजे को मुकम्मल करेगी।

जरूर रखें आंखों और कानों का रोजा
मौलाना इकबाल हैदर ने फरमाया कि हर मुसलमान पर रोजा फर्ज हैं। इससे भागा नहीं जा सकता। कयामत की दिन बख्शिश के दौर में रोजे की फजीलत भी काम आएगी। इसलिए इस रमजान हर मुसलमान अपने वजूद का रोजा रखें। पाक किताबों से इल्म होता है कि रोजे का मकसद अपने बंदे में परहेजगारी पैदा करना है। रोजा इंसान की ख्वाहिश को मारता है। अपनी नब्ज पर काबू रखने का सबसे बेहतरीन तरीका है रोजा। सिर्फ भूखा रहना रोजा नहीं, बल्कि अल्लाह को कुबूल है बंदे की वजूद का रोजा।

आप कैसे रखेंगे अपने वजूद का रोजा
आंख - इंसान इससे किसी बुरी चीज को न देखें।
कान - इंसान इससे किसी की बुराई न सुने।
जबान - किसी की बुराई न करें, चुगली न करें।
हाथ - इंसान अपने हाथों से किसी को तकलीफ न पहुंचाए।
रिसवत खोरी, सूदखोरी न करें।
पैर - बंदे के पैर उसे किसी गलत जगह न ले जाएं।

क्या करने से टूट जाएगा आपका रोजा
- उल्टी होने पर रोजा नहीं टूटेगा, जब तक की आप जानबूझकर इसकी कोशिश करे।
- इंजेक्शन लगाने पर रोजा नहीं टूटेगा।
- मजबूरी में ग्लूकोज चढ़ाने की नौबत पर रोजा नहीं टूटेगा।
- बालों में तेल लगाने पर रोजा नहीं टूटेगा।
- आंख या कान में दवाई डाली जाए तो इससे रोजा टूट जाएगा।
- आंखों में सुरमा लगाने पर रोजा नहीं टूटता।
- वजू के दौरान हलक में पानी जाने पर रोजा टूट जाएगा।

आखिर क्या सिखाता है रोजा
एक अमीर इंसान को इस बात का अहसास हो कि भूख कितनी बड़ी चीज है। ये अहसास हो कि मुझे रब ने इतनी दौलत दी, लेकिन बहुत से लोग फाकाकश है, जिनके पास खाने को कुछ नहीं वे किस अंदाज में गुजराते होंगे जिंदगी। एक अहसास की हम अपने आस पड़ोस और रिहाइश का इंतजाम करें। फाकाकश को खाने का जरिया दें।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned