होम आईसोलेशन की धज्जियां उड़ाकर खुलेआम घुम रहे थे विदेश से आए दो युवक, पुलिस ने किया अपराध दर्ज

भिलाई नगर निगम क्षेत्र में कोरोना पॉजीटिव (Coronavirus in Chhattisgarh)मरीज मिलने के बाद प्रशासन ने कड़ा रूख अख्तियार कर लिया है। विदेश यात्रा से लौटकर होम आईसोलेशन में नहीं रहने वाले दो युवकों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

भिलाई. भिलाई नगर निगम क्षेत्र में कोरोना पॉजीटिव मरीज मिलने के बाद प्रशासन ने कड़ा रूख अख्तियार कर लिया है। विदेश यात्रा से लौटकर होम आईसोलेशन में नहीं रहने वाले दो युवकों के खिलाफ केस दर्ज किया है। ये दोनों युवक नियमों का उल्लंघन करके खुलेआम घूम रहे थे। मिली जानकारी के अनुसार सउदी अरब दुबई से आए दो युवक के खिलाफ सुपेला पुलिस ने महामारी अधिनियम (Epidemic act in Chhattisgarh) के तहत अपराध दर्ज किया है। (Bhilai Police)

Read more: दुबई से आकर कोरोना पॉजीटिव युवक सैकड़ों लोगों से मिला, घर पर दी पार्टी, मस्जिद में पढ़ी नमाज, आईसोलेशन में 150 परिवार ...

अपराध दर्ज किया
पुलिस ने बताया कि एजाज अहमद के घर पर नोटिस चस्पा कर उसे घर में आइसोलेट किया गया था। उसने नोटिस की अवहेलना करते हुएफाड़ दिया और शहर में इधर- इधर घूम रहा था। वह सउदी अरब से आया है। युवक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

वहीं दुबई से 15 मार्च के लौटे सुपेला के इम्तियाज खान(28) के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है। सुपेला थाना टीआई गोपाल वैश्य ने बताया कि 13 मार्च को ताज बिल्डिंग के पास फ रीद नगर निवासी एजाज अहमद (35 वर्ष) सउदी अरब से लौटकर घूम कर रहा था। दोनों ने यह जानकारी छुपाई थी।

Read more: BIG Breaking: Coronavirus: प्रबंधन के फैसले से नाखुश BSP के नियमित कर्मी काम से लौट, रेल मिल सहित कई विभागों में काम ठप ...

श्रमिकों की सहायता के लिए जारी किया हेल्प लाइन नंबर
लॉक डाउन के कारण संकट में फंसे श्रमिकों की सहायता के लिए कलेक्टर अंकित आनंद ने समिति का गठन कर हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। समिति में जिला पंचायत के सीईओ, श्रम विभाग के नोडल अधिकारी अपर कलक्टर व सहायक श्रमायुक्त शामिल किए गए हैं। आपात स्थिति में नंबर 9893694350 पर संपर्क किया जा सकेगा। यह नंबर 24 घंटे चालू रहेगा।

हालात से निबटने हर डॉक्टर और स्टाफ कटिबद्ध
जिला अस्पताल के सिविल सर्जन जैसे जिम्मेदार पद पर रह चुके कोरोना उपचार के लिए विशेष प्रशिक्षण लेकर आए डॉ. केके जैन का कहना है कि अगर संक्रमण से हम ही डर गए तो मरीजों की उम्मीद का क्या होगा जो उनको हमसे है। हमारे अंदर लाख भय हो लेकिन हम साहस के साथ और पूरी ईमानदारी से कार्य क रते हैं। इस बात का ध्यान अवश्य देना चाहिए कि आपात स्थित में कार्य करने वाले प्रत्येक कर्मचारी और अधिकारी की ड्यूटी रोटेशन में हो।

हालत से प्रत्येक डॉक्टर को निपटने आना चाहिए। किसी एक पर अत्यधिक दबाव न हो। डॉ.जैन का कहना है कि नाम्र्स सबके लिए बराबर है। वहीं एहतियात वे भी बरत रहे है जो एक सामान्य वर्ग का नागरिक को बरतना होता है। कोरोना से बचना है तो सावधानी ही दवा है। इस सावधानी नामक दवा को लेना है कि नहीं यह आपके
ऊपर है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned