छत्तीसगढ़ पुलिस के डायल 112 सेवा में नौकरी लगाने के नाम पर दो बेरोजगारों से ठगी, 17 हजार सैलरी का दिया था झांसा

लॉकडाउन के बीच जिन युवाओं का काम छूट गया उन बेरोजगारों को डायल 112 में नौकरी दिलाने का झांसा देकर ठगी करने वाले एक युवक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

By: Dakshi Sahu

Published: 16 Sep 2020, 01:03 PM IST

भिलाई. लॉकडाउन के बीच जिन युवाओं का काम छूट गया उन बेरोजगारों को डायल 112 में नौकरी दिलाने का झांसा देकर ठगी करने वाले एक युवक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। ठग के झांसे में 30 हजार गवा चुके दो युवकों ने सुपेला थाना में शिकायत की थी। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 420 के तहत प्रकरण दर्ज किया। न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया।

17 हजार सैलरी का किया था झांसा
सुपेला टीआई गोपाल वैश्य ने बताया कि शंकरपारा सुपेला निवासी राबिन (28 वर्ष) अविनाश बिल्डर्स रायपुर में प्रबंधक सूचना सिस्टम का काम करता था। लॉकडाउन के कारण नौकरी छिन गई। बेरोजगार हो गया। इस बीच ठग धनराज उर्फ चन्द्रशेखर मारकंडे से मुलाकात हो गई। उसने बताया कि रायपुर सिविल लाइन के हेड ऑफि स डायल 112 में सुपरवाइजर का पद खाली है। 17 हजार रुपए सैलेरी मिलेगी।

15 हजार रुपए नौकरी लगवाने के एवज में देना होगा। रॉबिन आरोपी धनराज की बातों में आकर नेट बैकिंग के माध्यम से उसके एकाउंट में 15 हजार रुपए ट्रांसफ र कर दिया। इसी बीच रॉबिन का दोस्त कुनाल गुप्ता को भी धनराज ने झांसा दिया। उसकी बातों में वह भी आ गया और 15 हजार रुपए दे दिए।

डेढ़ माह तक घुमाता रहा, नहीं मिली नौकरी तो की शिकायत
पुलिस ने बताया कि 12 वीं पास दोनों बेरोजगार डेढ़ माह से धनराज के पीछे घुमते रहे। फिर शिकायत की। आरोपी ग्राम सेंदरी निवासी धनराज उर्फ चन्द्रशेखर की खोजबीन शुरू की। शंकरपारा सुपेला में घूमता हुआ मिला। आरोपी को पकड़कर पूछताछ किया गया तो उसने अपना जुर्म स्वीकार किया। 30 हजार रुपए में 26 हजार खर्च कर दिया। 4 हजार रुपए जब्त किया है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned