रिसाली निगम वार्ड आरक्षण: कांग्रेस के दावेदारों की लॉटरी, भाजपाई खेमे में मायूसी, 13 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित

13 वार्ड महिलाओं, 10 ओबीसी (3 महिला), 7 एससी (2 महिला) और 3 एसटी के लिए के लिए सुरक्षित है जिसमें एक सीट महिला उम्मीदवार के लिए रिजर्व रहेगी।

 

By: Dakshi Sahu

Published: 24 Jan 2021, 12:17 PM IST

भिलाई. भिलाई नगर निगम से विभाजित होकर स्वतंत्र अस्तित्व में आए रिसाली नगर निगम के पहले चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई है। शनिवार को कलेक्टोरेट में कलेक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे और राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में वार्डो के आरक्षण के लिए लॉटरी निकाली गई। 40 वार्डों के इस निगम में 13 वार्ड अनारक्षित हैं जहां किसी भी वर्ग के दावेदार अपनी किस्मत अजमा सकेंगे। यानि यह तय है कि इन वार्डों में जोरदार चुनावी घमासान होगा। 13 वार्ड महिलाओं, 10 ओबीसी (3 महिला), 7 एससी (2 महिला) और 3 एसटी के लिए के लिए सुरक्षित है जिसमें एक सीट महिला उम्मीदवार के लिए रिजर्व रहेगी। इस दौरान रिसाली निगम आयुक्त प्रकाश सार्वे, सहायक कलेक्टर जितेंद्र यादव, डिप्टी कलेक्टर अरुण वर्मा, डिप्टी कलेक्टर दिव्या वैष्णव मौजूद थे।

नए वार्डों में तलाशनी होगी जमीन
लॉटरी से जहां कांग्रेस के ज्यादातर दावेदारों की किस्मत खुल गई है वहीं भाजपा के पूर्व पार्षदों की उम्मीदवारी को तगड़ा झटका लगा है। उन्हें अब नए वार्ड में जमीन तलाशनी होगी। कुछ को तो वह भी नसीब नहीं होगा। अगल-बगल के सभी वार्ड आरक्षित हो गए हैं। वार्ड-5 एचएससीएल कॉलोनी ओबीसी महिला के लिए आरक्षित होने से अविभाजित भिलाई निगम में पूरे क्षेत्र से एकमात्र भाजपा पार्षद रंग बहादुर के लिए मुश्किलें खड़ी हो गई है। वार्ड-4 रुआबांधा पूर्व ओबीसी महिला और वार्ड-6 रुआबांधा सेक्टर भी अनारक्षित महिला के खाते में चले गए हैं। वार्ड 38 स्टोर पारा पुरैना एससी महिला के लिए आरक्षित हुआ है। अब यहां से धन्नू नाग चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। पुरैना की बाकी दो सीटें भी रिजर्व कोटे में चली गई है। वार्ड-27 मैत्री नगर रिसाली ओबीसी हो जाने से अब भाजयुमो रिसाली मंडल के पूर्व महामंत्री महेंद्र पाल को भी अब बगल के वार्ड 28 शक्ति विहार रिसाली की अनारक्षित सीट पर किस्मत अजमाना होगा।

इनके लिए तो पड़ोस के वार्ड में भी जगह नहीं
वर्तमान मंडल अध्यक्ष राजीव पांडेय के निवास क्षेत्र के तीनों वार्ड 7, 8 और 9 आरक्षित हो गए हैं। वार्ड 7 रिसाली सेक्टर पूर्व और वार्ड-8 रिसाली सेक्टर पश्चिम दोनों एसटी और वार्ड-9 डीपीएस रिसाली सेक्टर अनारक्षित महिला हो गया है। राजीव की उम्मीदों पर तो पूरा पानी फिर गया है। पूर्व पार्षद सुनील साहू के वार्ड 6 रुआबांधा सेक्टर अनारक्षित महिला सहित नजदीक के सभी वार्ड महिलाओं के खाते में चले गए हैं। कांग्रेस के चंद्रभान सिंह ठाकुर को भी हताशा हाथ लगी है। उनके क्षेत्र के दोनों वार्ड वार्ड 9 डीपीएस रिसाली सेक्टर अनारक्षित महिला और वार्ड 10 दशहरा मैदान रिसाली सेक्टर एसटी महिला हो गए हैं।

माया और मोंगरा सुरक्षित
भाजपा से मोंगरा देशमुख और माया यादव अपने-अपने क्षेत्र क्रमश: वार्ड 31 रिसाली बस्ती अनारक्षित और वार्ड 5 एचएससीएल कॉलोनी ओबीसी महिला से दावेदारी कर सकेंगी।

कांग्रेस के दिग्गजों कीकिस्मत खुल गई
भिलाई निगम में दो बार एमआईसी मेंबर रहे केशव बंछोर सुरक्षित हैं। उनके निवास क्षेत्र के दोनों वार्ड वार्ड-11 मरोदा सेक्टर पूर्व अनारक्षित व वार्ड-12 मरौदा सेक्टर पश्चिम ओबीसी हैं। पूर्व पार्षद राजकुमार देशमुख का वार्ड-14 मरौदा कैंप अनारक्षित महिला है। ऐसे में उन्हें बगल के वार्ड 13 टंकी मरौदा जो अनारक्षित है वहां अवसर तलाशना होगा। राजेंद्र रजक का वार्ड 2 रुआबांधा उत्तर अनारक्षित है।

पुरैना और नेवई के सामान्य व ओबीसी दावेदार ताकते रहे गए
भिलाई नगर निगम में पुरैना और नेवई दोनों वार्ड आरक्षित रहते आए हैं। इस बार तीन-तीन वार्डों में विभक्त होने पर यहां रहने वाले सामान्य व ओबीसी वर्ग के दावेदारों को उम्मीद थी कि एक-दो वार्ड में उन्हें मौका मिल सकता है। मगर दोनों क्षेत्र के तीनों के तीनों वार्ड एससी के लिए फिर आरक्षित हो गए हैं।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned