बीएसपी क्वॉर्टर में ऐसा क्या हुआ कि कलक्टर को दरवाजा खटखटाना पड़ा

बीएसपी क्वॉर्टर में ऐसा क्या हुआ कि कलक्टर को दरवाजा खटखटाना पड़ा
बीएसपी क्वॉर्टर में ऐसा क्या हुआ कि कलक्टर को दरवाजा खटखटाना पड़ा

Satyanarayan Shukla | Updated: 12 Sep 2019, 12:19:04 AM (IST) Bhilai, Durg, Chhattisgarh, India

बीएसपी टाउनशिप में डेंगू के मरीज सामने आने के बावजूद रोकथाम अभियान के दावों की हकीकत जानने कलक्टर अंकित आनंद को खुद निकलना पड़ा। जब टाउनशिप के आवासों में कलक्टर पहुंचे तो अफसरों के झूठ की कलई खुल गई। सेक्टर-2 और सेक्टर-4 के हर चौथे घर में डेंगू का लार्वा मिला।

भिलाई@Patrika. बीएसपी टाउनशिप में डेंगू के मरीज सामने आने के बावजूद रोकथाम अभियान के दावों की हकीकत जानने कलक्टर अंकित आनंद को खुद निकलना पड़ा। जब टाउनशिप के आवासों में कलक्टर पहुंचे तो अफसरों के झूठ की कलई खुल गई। सेक्टर-2 और सेक्टर-4 के हर चौथे घर में डेंगू का लार्वा मिला। इस दौरान कलक्टर ने बीएसपी के नगर सेवाएं विभाग के अफसरों को मॉनिटरिंग में लापरवाही बतरने के लिए फटकार भी लगाई। साथ ही निर्देश दिए कि जिस घर में दोबारा डेंगू का लार्वा मिले उससे जुर्माना वसूला जाए।

टंकी, कूलर और गमले तक में लार्वा तैरता नजर आया

पानी की टंकी, कूलर और गमले तक में लार्वा तैरता नजर आया। जिसे देख कलक्टर ने नाराजगी जताई। सीएमएचओ डॉ.गंभीर सिंह ठाकुर और प्रभारी स्वच्छता अधिकारी धर्मेन्द्र मिश्रा को कर्मचारियों की टीम के साथ 15 आवास में डोर टू डोर सर्वे किया। कूलर और पानी की टंकी जांच कर सफाई करवाया। नगर सेवाएं विभाग के एजीएम केके यादव को आवासों में दवाई का छिड़काव कराने के निर्देश दिए।

जब बीएसपी एजीएम की बोलती हो गई बंद
बीएसपी के एजीएम केके यादव की बोलती उस समय बंद हो गई जब कलक्टर आनंद, एडीएम संजय अग्रवाल, सीएमएचओ डॉ ठाकुर, जिला मलेरिया अधिकारी डॉ एसके मंडल और निगम के अधिकारी ने स्वयं सेक्टर-2 के रहवासियों से लार्वा नष्ट करने के लिए बांटी गई दवाई को लेकर पूछताछ की। एवेन्यू-वी स्ट्रीट 16 के आवास का कलक्टर ने स्वयं दरवाजा खटखटाया। घर के बाहर कूलर की सफाई को लेकर सवाल किए। महिला ने कहा कि उन्हें किसी भी प्रकार की दवाई की बोतल नहीं मिली है। फिर वह अपने घर के कूलर और गमले की 3-4 दिन के अंतराल में सफाई करती है। महिला के इतना बोलते ही कलक्टर के बाजू में खड़े एजीएम यादव चुपचाप पीछे हट गए। इससे पहले तक वह यह दावा करते रहे कि बीएसपी की टीम ने घरों में जाकर दवाई का घोल देकर इस्तेमाल का तरीका बताया है

दवा का छिड़काव नहीं करने वाले लोगों को दी चेतावनी
कलक्टर ने निरीक्षण के दौरान ये लोगों ये सवाल पूछा कि क्या निगम या बीएसपी की टीम आपके घर आए थे। आए थे तो क्या उसने कूलर की सफाई के लिए कोई दवाई दी थी। हां में जवाब मिलने पर दवाई की बोतल को दिखाने कहा। दवाई का इस्तेमाल नहीं किए जाने कलक्टर ने नाराजगी जताई। साथ ही यह समझाइश भी दिया कि अपने घर की सफाई में इस तरह की लापरवाही न करें।

पानी की टंकी में पनप रहे थे लार्वा
-सेक्टर-1, 2 और 4 सड़क नंबर-8,9, 26 और स्थित आवासों के लॉन एरिया में पानी की टंकी में लार्वा तैरता मिला।
- सेक्टर-3 के आवास के बाहर लटका रखे कूलर व गमले में लार्वा मिला। बारिश का पानी कूलर की टंकी में भरा था।
- 6 सितंबर को सेक्टर-2 और सेक्टर-3 में डेंगू के मरीज मिले थे। यहां के सभी घरों में दवा वितरण नहीं किया गया।

20 दिन में मिले 15 मरीज

पिछले 20 दिनों में सेक्टर-1, 2, 3, 4, सेक्टर 6 और सेक्टर-7 के आवासों में रहने वाले 15 से अधिक लोगों को अपना शिकार बना चुके हैं। पिछले साल भी नगर सेवाएं विभाग की लापरवाही की वजह से डेंगू ने शहर को अपनी चपेट में ले लिया था। लापरवाही की वजह से स्थिति कंट्रोल से बाहर हो गई थी। 37 लोगों की जान तक चली गई।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned