... बीएसपी ने आखिर कोरोना को लेकर क्या अहम फैसला लिया

हॉट रीजर्व में रखा जाएगा बीएसपी के क्रिटिकल उत्पादन इकाईयों को, चरणबद्ध तरीके से किया जाएगा उत्पादन बंद.

By: Abdul Salam

Updated: 27 Mar 2020, 09:18 PM IST

भिलाई. भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन ने अहम फैसला लिया है। प्रबंधन ने अपने कर्मचारियों और प्लांट के अंदर विभिन्न गतिविधियों में लगे कर्मियों व संविदा कर्मचारियों के स्वास्थ्य के हित में निर्णय लिया है कि कुछ उत्पादन इकाइयों को बंद किया जाएगा व कुछ महत्वपूर्ण इकाइयों को गर्म रिजर्व में रखा जाएगा। इस तरह से प्रबंधन ने उत्पादन से उपर कर्मियों की सुरक्षा को रखा है।

50 फीसद कर्मियों का उपयोग
त्वरित कार्रवाई करते हुए, बीएसपी प्रबंधन ने कोविड- 19 वायरस के प्रसार से पहले ही अपने कर्मचारियों के रूप में सभी सहायता सेवा कार्यों में 50 फीसद मानव शक्ति का उपयोग और स्टील बनाने के संचालन को जारी रखने के प्रयासों के तहत तर्कसंगत रूप से उपस्थिति दर्ज कराई। करीब 5000 कर्मचारियों को जो कुल श्रमशक्ति का 24.5 फीसद है ने अपने कार्यस्थल में प्रवेश करने से प्रतिबंधित कर दिया गया था।

कर्मियों की संख्या होगी कम
उच्च प्रबंधन ने तय किया है कि संयंत्र का संचालन न्यूनतम तैनाती के साथ किया जाए। ब्लास्ट फर्नेस नंबर-6 को 26 मार्च 2020 को केपिटल रिपेयर के लिए गया। ब्लास्ट फर्नेस नंबर-7 को हॉट रिजर्व में रखने की प्रक्रिया शुक्रवार से शुरू कर दी गई है। संयंत्र वर्तमान में केवल दो ब्लास्ट फर्नेस 1 व 8 के साथ न्यूनतम आवश्यक हॉट मेटल उत्पादन को बनाए रखेगा।

यहां भी कम किया जाएगा उत्पादन
कोक ओवन क्षेत्र में 5 कोक ओवन बैटरी संचालन में रहेगी। शेष बैटरी को हॉट स्थिति में रखा जाएगा। प्लांट के अन्य न्यूनतम बुनियादी महत्वपूर्ण संचालन को बनाए रखने के लिए, आपातकालीन संयंत्र मैनिंग के साथ दो स्टील मेल्टिंग शॉप् एसएमएस 2 और एसएमएस 3 और दो सिंटर उत्पादक इकाइयां, एसपी-2 व एसपी-3 ऑपरेशन में होगी। रेल और स्ट्रक्चरल मिल और यूनिवर्सल रेल मिल, ए एंड बी शिफ्ट में काम करेंगे, जबकि बार और रॉड मिल केवल जनरल शिफ्ट में काम करेंगे। चालू हालत के शॉप 50 फीसद अपनी जनशक्ति के साथ संचालित होंगी। अन्य सहायक इकाईयों को जरूरत के अनुसार 25 फीसद जनशक्ति के साथ संचालित किया जाएगा।

इनको किया जाएगा बंद
ब्लूमिंग एंड बिलेट मिल, एसएमएस 1, मर्चेंट मिल, वायर रॉड मिल और प्लेट मिल को भी चरणबद्ध तरीके से बंद किया जाएगा। कैंटीन अब बंद हो गए हैं, इसलिए प्रबंधन ने ए शिफ्ट के लिए सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक की शिफ्ट की टाइमिंग को बदलने का भी फैसला लिया है। जनरल शिफ्ट के कार्मिकों को ए व बी शिफ्ट में जंहा तक संभव जो बाट दिया जायेगा। बी शिफ्ट के लिए दोपहर 3 से 11 बजे और सी शिफ्ट के लिए 11 बजे से 7 बजे तक रखा जाएगा। ताकि कर्मचारियों को अपने स्वयं के संसाधनों के माध्यम से भोजन लाने कि सुविधा हो। आवश्यक सेवाओं में काम करने वालों को छोड़कर महिला कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए कहा गया है।

यहां भी किया बदलाव
गैर-अधिकारियों के लिए छुट्टी के आवेदन की सुविधा के लिए, प्रबंधन ने छुट्टी के समय कार्यालय मॉड्यूल में प्रवेश के बारे में ईमेल संचार के लिए एक प्रारूप जारी किया है। प्रबंधन ने दावा किया है कि 1200 लीटर सेनिटाइजर, और 6000 की संख्या में मास्क कर्मचारियों के बीच वितरित किए गए हैं। 2000 गमछे और 2000 नग साबुन संविदा कर्मियों के बीच वितरण के लिए विभिन्न शॉप को दिए गए हैं।

14 दिन रहना होगा घर पर
सेल-बीएसपी प्रबंधन जिसने पहले से ही सभी कर्मचारियों को व्यक्तिगत कर्मचारी या व्यक्तिगत कर्मचारी के परिवार के किसी भी सदस्य द्वारा विदेश यात्रा के विवरण भरने के लिए एक स्व-घोषणा पत्र जारी किया था, ने एक ताजा परिपत्र जारी कर कर्मचारियों को यह भी घोषित करने के लिए कहा है कि क्या कर्मचारी परिवार के सदस्य ने 24 मार्च 20२० को या उसके बाद अंतर-राज्य यात्रा की है। ऐसे व्यक्तियों को छत्तीसगढ़ आने की तारीख से शुरू होने वाले 14 दिनों के लिए घर में ही रहना हैं।

Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned