250 रुपए तोला मिलता था सोना

सोने-चांदी के भावों ने बिगाड़ा शादी का बजट
अमरीका-ईरान विवाद ने चढ़ाई कीमत

भीलवाड़ा।
gold Silver अमरीका-ईरान विवाद ने सोना-चांदी के भाव बढ़ा दिए। व्यापारियों का कहना है कि मौजूदा हालात को देखते भाव और चढ़ेंगे। नया रिकार्ड बन सकता है। इससे सावों में लोगों का बजट प्रभावित हुआ। हालांकि मलमास में सोने-चांदी की बिक्री कम हुई थी लेकिन अब फिर बाजार में तेजी नजर आने लगी है। पिछले १५ साल में सोना जहां सात गुना महंगा हो गया। चांदी के भाव में पांच गुना बढ़ गए। जबकि १९७६ में सोना २५० से २६० रुपए तोला मिलता था।

gold Silver उल्लेखनीय है कि सोने-चांदी के आभूषण की बिक्री में राजस्थान अन्य राज्यों से समृद्ध माना जाता है। प्रदेश में जयपुर के बाद भीलवाड़ा का सर्राफा बाजार बड़ा है। इधर, व्यापारियों की माने तो ईरान व अमरीका के बीच बढ़ता तनाव सोने के भाव चढ़ाने के लिए जिम्मेदार है। शेयर बाजार में तेज गिरावट तथा शेयर गिरने से सोना-चांदी के वायदा कारोबार में लगातार निवेश बढ़ रहा है।

साल दर साल यूं बढ़े दाम
वर्ष सोना चांदी
2005 6130 9800
2006 7780 12400
2007 9000 18300
2008 11000 19450
2009 13500 18200
2010 17100 27950
2011 20520 44700
2012 27985 51300
2013 31080 57700
2014 29800 45000
2015 27450 37300
2016 26250 33750
2017 २८६०० 40000
2018 30520 39600
2019 32570 38850
2020 4२००० 50750
(भाव सर्राफा व्यापारी के अनुसार)

पुराना सोना देकर नया खरीद रहे
शादियों का सीजन शुरू हो गया लेकिन ग्राहकी कमजोर है। अधिकांश ग्राहक पुराना सोना देकर नए जेवर खरीद रहे हैं। ग्राहकों की क्रय शक्ति 35 से 40 प्रतिशत तक रह गई है। ग्राहकों को तीन प्रतिशत जीएसटी भी अलग से देनी पड़ रही है।
नवरतन मल संचेती, अध्यक्ष ज्वैलर्स एसोसिएशन

सरकार दे सकती है राहत
सोने के भाव में तेजी से व्यवसाय प्रभावित हो रहा है। सावों का समय है। सोने के भाव ऊंचे होने से ग्राहक भाव सुन खिसक रहे हैं। सरकार को चाहिए कि कस्टम ड्यूटी एवं जीएसटी दर कम करें ताकि मध्यवर्गीय परिवारों को राहत मिल सके।
मनीष बहेडिय़ा, ज्वैलर्स व्यवसायी

Suresh Jain Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned