भीलवाड़ा में सभापति के खिलाफ 43 पार्षदों ने उठा लिया बड़ा कदम, बढ़ गई मुश्किलें

patrika.com/rajsthan news


भीलवाड़ा. सवा दो महीने पहले कांग्रेस पार्टी में आई नगर परिषद की सभापति ललिता समदानी के खिलाफ परिषद के कुल 55 में से 43 पार्षदों ने सोमवार को अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया। विधायक वि_लशंकर अवस्थी के नेतृत्व में पेश किए अविश्वास प्रस्ताव के इस निर्णय से राजनीतिक हलके में फिर हलचल पैदा हो गई है। जिला कलक्टर राजेंद्र भट्ट के समक्ष प्रस्ताव पेश करते समय भाजपा के कुल ३७ में से ३६ पार्षद तथा नौ निर्दलीयों में से सात पार्षद मौजूद थे। कलक्ट्रेट सभागार में उप सभापति मुकेश शर्मा ने पार्षदों का हस्ताक्षरयुक्त प्रस्ताव जिला कलक्टर को सौंपा। इस पर एक-एक पार्षद से सत्यापन कराया गया। अब जिला कलक्टर की ओर से अगले सात दिन में अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान की तारीख दी जाएगी। इस मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मीनारायण डाड समेत अन्य पदाधिकारी भी मौजूद थे।परिषद में एेसे गुजरे दो सालपरिषद में पहले भाजपा का बोर्ड था। भाजपा ने पिछले साल ०२ अगस्त को समदानी को पार्टी से निष्कासित कर दिया था। इसके बाद ७ सितंबर को सभापति व तत्कालीन आयुक्त के खिलाफ पद के दुरुपयोग का मामला दर्ज किया गया। समदानी ९ अक्टूबर को सुबह एसीबी में बयान देने पहुंची थी। उसी दिन शाम को राज्य सरकार ने उन्हें सभापति पद सेनिलंबित कर दिया। हाईकोर्ट ने १३ दिसंबर २०१८ को समदानी के निलंबन पर रोक लगा दी थी। इस वर्ष ११ सितंबर को समदानी ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण कर ली थी। वर्तमान में कांग्रेस के सभापति समेत महज नौ पार्षद हैं। एेसे में उनकी मुश्किलें बढ़ गई हैं।

jasraj ojha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned