9000 कोरोना संक्रमित, प्लाज्मा डोनेट सिर्फ 17 का

कोरोना नेगेटिव होने के बाद भी नहीं आ रहे लोग प्लाज्मा देने

By: Suresh Jain

Published: 20 Nov 2020, 10:59 PM IST

भीलवाड़ा।
भीलवाड़ा जिले में १९ मार्च से आज तक करीब ९ हजार से अधिक लोग कोरोना संक्रमित हो चुके है। इसमें से लगभग ८ हजार से अधिक लोग ठीक हो चुके है। लेकिन प्लाज्मा देने वाले अब तक महात्मा गांधी ब्लड बैंक में मात्र १७ जने ही पहुंचें है। जो ०.००२१ प्रतिशत भी नहीं है। जागरूकता के अभाव और व्यवस्थाओं की खामी के चलते कोरोना से नेगेटिव हो चुके लोग प्लाज्मा करने नहीं आ रहे है। जिन १७ लोगों ने प्लाज्मा दान किया है, ऐसे कोरोना वारियर्स का कहना है कि प्लाज्मा दान करने से किसी को जिंदगी मिलती है, इसलिए हमें काफी खुशी हुई है।
जागरूकता का अभाव व भय के कारण नहीं आ रहे आगे
रक्तवीर विक्रम दाधीच बताते है कि प्लाज्मा दान को लेकर जिले में अभी तक कोई जागरूकता के कार्यक्रम नहीं हुए हैं। न तो चिकित्सा विभाग ने इसके लिए लोगों को प्रोत्साहित किया है और न ही निजी संगठनों ने। ऐसे में कोरोना को मात देकर ठीक होने वाले लोग अपने काम काज में लग गए। वही लोगों में अभी कोरोना को लेकर भय बना हुआ है कि कहीं उन्हें दुबारा कोरोना न हो जाए। इसके कारण भी लोग प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे नहीं आ रहे है। यही कारण है कि अब तक भीलवाड़ा में मात्र १७ प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए हैं।
खूना का पीला तरल हिस्सा होता है प्लाज्मा
प्लाज्मा हमारे खून का पीला तरल हिस्सा होता है। जिसके माध्यम से सेल्स और प्रोटीन शरीर की विभिन्न कोशिकाओं तक पहुंचते हैं। शरीर में जो खून मौजूद होता है उसका 55 प्रतिशत से अधिक हिस्सा प्लाज्मा का ही होता है। कोरोना से ठीक हुए व्यक्तियों से लिया गया प्लाज्मा गम्भीर कोविड रोगियों को चढ़ाने से फायदा होता हैं। उनकी रोग से रिकवरी जल्दी होती हैं। प्लाज्मा डोनेट करने वाले को किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होता है।
प्लाज्मा दान करके खुशी मिली
मैंने, कोरोना नेगेटिव होने के करीब ३ माह बाद जयपुर जाकर प्लाज्मा डोनेट किया था। जयपुर से फोन आया था कि ओ पॉजिटिव प्लाज्मा की जरुरत है और मिल नहीं रहा। इस पर मैं, विक्रम दाधीच के साथ जयपुर गया और पहला प्लाज्मा महात्मा गांधी अस्पताल में तथा दूसरी बार सोनी मणिपाल अस्पताल जयपुर में दान किया। प्लाज्मा दान करने में मुझे किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई। जैसे रक्तदान होता है बस वैसे ही प्लाज्मा दान होता है।
वृद्धि शंकर तिवाड़ी, नर्सिंगकर्मी, कोदूकोटा, प्लाज्मा दानदाता

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned