संतान की चाह में आरती को मंदिर से किया अगुवा, जयपुर से छुड़ाया

शम्भूगढ़ थाना क्षेत्र स्थित बंक्यारानी माता मंदिर परिसर से एक पखवाड़ा पूर्व अपह्त की गई तीन साल की बालिका को विशेष टीम ने शुक्रवार देर रात जयपुर में दबिश देकर एक मकान से मुक्त करा लिया। आरोपित दम्पती ने संतान नहीं होने से दुखी हो कर बालिका के अपहरण की वारदात को अंजाम देना कबूल किया। प्रकरण में पुलिस ने दंपती के एक करीबी को भी गिरफ्तार किया।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 18 Oct 2020, 12:06 PM IST

संतान की चाह में आरती को मंदिर से किया अगुवा, जयपुर से छुड़ाया

भीलवाड़ा। शम्भूगढ़ थाना क्षेत्र स्थित बंक्यारानी माता मंदिर परिसर से एक पखवाड़ा पूर्व अपह्त की गई तीन साल की बालिका को विशेष टीम ने शुक्रवार देर रात जयपुर में दबिश देकर एक मकान से मुक्त करा लिया। आरोपित दम्पती ने संतान नहीं होने से दुखी हो कर बालिका के अपहरण की वारदात को अंजाम देना कबूल किया। प्रकरण में पुलिस ने दंपती के एक करीबी को भी गिरफ्तार किया।

पुलिस अधीक्षक प्रीति चन्द्रा ने बताया कि शंभूगढ़ थाने में 4 अक्टूबर को आसीन्द के बागमाली हाल भीलवाड़ा के बीलिया निवासी अर्जुन नाथ ने रिपोर्ट दी। इसमें बताया वो परिवार समेत बंक्यारानी माता मंदिर में दर्शन करने तीन अक्टूबर की रात आठ बजे गया था। इस दौरान मंदिर परिसर से महा आरती के दौरान उनकी तीन वर्षीय पुत्री आरती लापता हो गई। मंदिर परिसर के साथ ही समूचे गांव में आरती की तलाश की गई लेकिन वो नहीं मिली।

सीसी ने पहुंचाया अपराधी तक
उन्होंने बताया कि रिपोर्ट के आधार पर मंदिर परिसर के सीसी के फुटेज खंगाले गए तो उसमें दो अज्ञात नकाबपोश बालिका को ले जाते हुए नजर आ गए। मानव तस्करी की संलिप्ता की आशंका में एएसपी विमल सिंह की अगुवाई में मंदिर परिसर में पुलिस टीम का अस्थाई केंप स्थापित किया गया। भीलवाड़ाए चित्तौडगढ़़एराजसमंद व एमपी में जरायमपेश जाति के लोगों के सौ से अधिक डेरों को खंगाला गया। मंदिर परिसर समेत विभिन्न स्थानों पर सीसी कैमरों से पांच सौ से अधिक फुटेज लिए गए। साइबर सेल की मदद से डेढ़ हजार मोबाइल धारकों का सत्यापन किया गया।

रात को घर में दी दबिश
चन्द्रा ने बताया कि सीसी कैमरे में आरोपितों की बाइक के नम्बर नजर आने पर जयपुर टीम भेज कर आरटीओ की मदद ली गई। यहां आरोपित के नाम पते ट्रेस होने के बाद विशेष टीम में शामिल गंगापुर थाना प्रभारी राजकुमार नायकएशंभूगढ़ थाना प्रभारी रामस्वरूपए हैड कांस्टेबल ओमप्रकाश चौधरी व प्रेमराज चौधरी आदि ने घेराबंदी कर शुक्रवार रात को जयपुर में कच्ची बस्ती बाइस गोदाम स्थित राकेश कुमार उर्फ राहुल (२५) पुत्र मांगीलाल गुर्जर के मकान पर दबिश दी। यहां अपह्त बालिका राकेश की पत्नी सुमन (२६) के पास मिली। बालिका को मुक्त करा कर दंपती को गिरफ्तार कर लिया। राकेश ने पूछताछ में अपने साथी राजू की मदद से बालिका का अपहरण करने की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने रात को ही बस्सी के बांस खोरी में दबिश देकर राजू उर्फ राजेश (२०) पुत्र रामफल बैरवा को गिरफ्तार कर लिया। तीनों आरोपितों को बाद में शनिवार तड़के शंभूगढ़ थाने लाया गया।

सुमन भी माता रानी की भक्त
पूछताछ में आरोपित राकेश गुर्जर ने बताया कि वो पति.पत्नी माता बंक्यिारानी के भक्त हैए शादी हुए लम्बा समय बीत गयाए लेकिन संतान नहीं होने से वो परेशान थे। सुमन की बच्चे की चाह बढऩे पर उसने अपने दोस्त राजू के साथ मिल कर माता के मंदिर से ही कोई बालक चुरा कर लाने की योजना बनाई। इस लिए वो तीनों मोटरसाइकिल से जयपुर से रवाना हो कर बंक्यिारानी मंदिर आ गए। यहां तीन अक्टूबर की रात को आरती के दौरान एक बालिका के अकेली नजर आने पर उसे उठा लाए और लेकर तुरन्त जयपुर आ गए। आरोपित सुमन ने बताया कि वो माता की परम भक्त हैए जब भी मौका मिलता माता के दर्शन करने बंक्यारानी आती थी। बालिका के लिए भी वो ढेर सारे कपड़े व खिलौने ले आए थे।

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned