तप और मौन साधना के बाद सुकनमुनि ने दिया मंगलपाठ

मौन खुलवाया

By: Suresh Jain

Updated: 17 Nov 2020, 03:29 PM IST

भीलवाड़ा।
तपस्या व मौन साधना के बाद सुकनमुनि ने श्रद्धालुओं को निरोग और स्वस्थ रहने का आर्शीवाद दिया। शास्त्रीनगर स्थित अहिंसा भवन अध्यक्ष अशोक पोखरणा ने बताया कि सुकनमुनि के साथ मुकेश मुनि व हरीश मुनि के विगत तीन दिनों से तपस्या मौन साधना के सम्पूर्ण होने पर सोमवार को सुकनमुनि का महामंगली पाठ का कार्यक्रम हुआ। इसमें उपप्रवर्तक अमृतमुनि, महेश मुनि, हितेश मुनि, सचिन मुनि तथा वरूण मुनि ने कहा कि दीपावली पर की गई तपस्या और साधना से मानव का जीवन शुद्ध व पवित्र बनता है। महिला जैन कॉन्फेस की प्रांतअध्यक्ष पुष्पा गोखरू ने तप त्याग और दान का सकल्प लेते हुये सुकनमुनि की मौन खुलवाते हुए आर्शीवाद प्राप्त किया। मीडिया प्रभारी सुनिल चपलोत ने बताया प्रार्थना के बाद संरक्षक हेमन्त आचंलिया, मंत्री रिखबचन्द्र पीपाड़ा, कंवरलाल सूरिया, मीठ्ठा लाल सिंघवी, नवरतनमल बम्ब, हेमन्त बाबेल, मुकेश डांगी, अशोक गुगलिया, लक्ष्मण बाबेल, पूर्व सभापति मंजू पोखरणा, प्रांतिया महिला जैन कॉन्फ्रेंस से संजुलता बाबेल, लाड़ मेहता, कमला चौधरी, मधु बिराणी, शांतिभवन के मीडिया प्रभारी मनीष बम्ब आदि ने महामंगल पाठ लिया।
....................................................................
मांडणे व सेल्फी प्रतियोगिता
भीलवाड़ा . तेरापंथ महिला मंडल के तत्वावधान में तेरापंथ कन्यामंडल की ओर से तेरापंथ भवन में कार्यशाला आयोजित की गई। साध्वी चांद कुमारी ने बताया कि दीपावली पर्व भगवान महावीर के निर्माण और गौतम गणधर के केवल ज्ञान की प्राप्ति के उपलक्ष पर मनाया जाता है। जिस तरह भगवान महावीर स्वामी का जीवन सादगी पूर्ण था उसी तरह कन्याओं का जीवन भी सादगी से भरा रहे। तीन दिन तक अध्यात्मिक जप योग करने का संकल्प दिलाया। कन्याओं ने पारंपरिक मांडणा व सेल्फी प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। इसका परिणाम अंजलि हिम्मतरामका ने घोषित किया। इसमें प्रथम प्रिंजल लोढा, द्वितीय सानिया नेनावटी व तृतीय प्रेक्षा नौलखा रही। कन्यामंडल की ओर से स्वीट मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कुसुम श्रीश्रीमाल व विजया सुराणा ने परिणाण घोषित किया। इसमें प्रथम प्रिंजल लोढा, द्वितीय प्रेक्षा नौलखा व तृतीय सेजल दुग्गड ने प्राप्त किया।
----------------
धूमधाम से मनाया गोवर्धन अन्नकूट
पुर. उपनगर पुर में गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया गया। महिलाओं ने घर के बाहर गोबर से गोवर्धन बनाएं। दही मथ कर उनकी पूजा की। शाम को किसानों ने बैलों को सजाकर भड़काया तथा मंदिरों में अन्नकूट का भोग लगाकर प्रसाद का वितरण किया।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned