बैल पर एेसा क्या लिख दिया की गांव रह गया सन्न

बैल पर एेसा क्या लिख दिया की गांव रह गया सन्न

Narendra Kumar Verma | Publish: Nov, 09 2018 10:34:07 PM (IST) | Updated: Nov, 09 2018 10:34:08 PM (IST) Bhilwara, Bhilwara, Rajasthan, India

आसींद पंचायत समिति के भारलियास में गुरुवार को एक किसान का अनूठा विरोध प्रदर्शन देखने को मिला

बैल पर लिखकर जताया नोटबंदी व गो अनुदान पर गुस्सा

भीलवाड़ा. आसींद पंचायत समिति के भारलियास में गुरुवार को एक किसान का अनूठा विरोध प्रदर्शन देखने को मिला, किसान ने सरकार से गायों के लिए अनुदान और नोटबंदी के स्‍लोगन बैल पर लिखकर और उसकी पूजा की और पूरे गांव में घुमाया। बैल पर खिले स्लोगन में किसान ने 8 नवंबर को काला दिवस बताया। दरअसल, गोवर्धन पूजा के दिन गांव में चारभुजा मंदिर के पास बैलों की पूजा की जाती है। दो वर्ष पूर्व हुई नोटबंदी को याद करते हुए किसान रामकिशन ने पूजा के समय एक बैल पर वर्तमान दौर में गायों पर अनुदान की मांग को लेकर बैल पर शब्द लिखे साथ ही 8 नवंबर यानी नोटबंदी किए जाने वाले दिन को काला दिवस बताते हुए स्लोगन लिखा। रामकिशन ने बताया कि किसानों को आज के दौर में 100 रुपये प्रतिदिन का खर्चा आता है, जबकि गाय से प्रतिदिन 50 रुपए की आमदनी होती है। सरकार फैक्ट्रियों पर तो अनुदान देती है, लेकिन गाय पर नहीं सरकार गाय पर अनुदान नहीं देती। गाय पर अनुदान दिया गया गोवर्धन पूजा होगी। ओमप्रकाश पुरोहित ने बताया कि राजनीतिक पार्टियां गाय के नाम पर सिर्फ वोट लेती हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned