भीलवाड़ा की दमकलें लगी हांफने, जाने कैसे बुझेगी आग

नगर परिषद की दमकलों के हांफने से शहर एवं जिले में आग की घटनाओं पर काबू पाने के लिए ग्रामीणों को मशक्कत करनी पड़ रही है। समय पर दमकल की मदद नहीं मिलने से आसपास के गांवों में ग्रामीणों को लाखों की फसल से हाथ धोना पड़ रहा है।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 05 May 2021, 12:40 PM IST


भीलवाड़ा। नगर परिषद की दमकलों के हांफने से शहर एवं जिले में आग की घटनाओं पर काबू पाने के लिए ग्रामीणों को मशक्कत करनी पड़ रही है। समय पर दमकल की मदद नहीं मिलने से आसपास के गांवों में ग्रामीणों को लाखों की फसल से हाथ धोना पड़ रहा है। मंगलवार को निकटवर्ती कजलोदिया गांव में आधा दर्जन खेतों में लगी भीषण आग को बुझाने के लिए ग्रामीण दमकल का इंतजार ही करते रह गए।


बनेड़ा चमनपुरा पंचायत में कजलोदिया ग्राम में मंगलवार दोपहर एक खेत में आग लग गई। कुछ ही देर में आसपास के खेत भी चपेटे में आ गए। आग के विकराल होने पर ग्रामीणों ने भीलवाड़ा में पार्षद जगदीश गुर्जर को सूचना दी। गुर्जर ने नगर परिषद में सूचना दी, लेकिन सूचना देने के बावजूद दमकल मौके पर नहीं पहुंची। गुर्जर ने बताया कि औद्योगिक इकाईयों की दमकलों के जरिए काबू पाया जा सका। इस दौरान आग बुझाने में देरी होने से काफी नुकसान हुआ।


आठ दमकल, अधिकांश नकारा
नगर परिषद की दमकल शाखा में कुल आठ दमकलें है। इनमें छह नगर परिषद परिसर स्थित फायर स्टेशन पर है, जबकि पटेलनगर फायर स्टेशन पर दो दमकलें है। हालात यह है कि पटेलनगर की दोनों दमकलें खराब है। नगर परिषद स्टेशन में छह में से तीन बीमार है। तीन दमकलों के भी हालात ठीक नहीं है, फिर भी दौड़ाया जा रहा है। दमकल कर्मियों ने बताया कि आठ में से सिर्फ तीन दमकलें सही हालत में है। यह तीनों मंगलवार दोपहर को मंगरोप व आसपास के गांव में आग बुझाने गई हुई थी। जबकि छह दमकलों की मरम्मत हो रही है।

पन्द्रह साल से नहीं मिली नई दमकल

दमकल कर्मियों की पीड़ा है कि गत पन्द्रह वर्ष में दमकल शाखा को नई दमकलें नहीं मिली है, मौजूदा दमकलों में से भी दो की हालत बुरी है। शेष दमकलें भी पुरानी होने से आए दिन खराब होती रहती है। पटेलनगर फायर स्टेशन की दोनों दमकलें खराब है और संबधित अधिकारियों को बता भी रखा है।

दमकल शाखा को होना चाहिए मुस्तैद
नगर परिषद की दमकल शाखा को चुस्त एवं दुरस्त रहना चाहिए, एक साथ तीन से अधिक दमकलें खराब है तो, इसकी सूचना तुरंत देनी चाहिए थी, ताकि तत्काल व्यवस्था की जा सके। दमकल बेडे में और वाहनों की संख्या बढ़ाने के लिए नए प्रस्ताव लिए जाएंगे।
राकेश पाठक, सभापति नगर परिषद

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned