अंधविश्वास का एक और नमूना: मृत व्यक्ति की आत्मा की मुक्ति के लिए अस्पताल में तंत्र साधना

अंधविश्वास का एक और नमूना: मृत व्यक्ति की आत्मा की मुक्ति के लिए अस्पताल में तंत्र साधना

Tej Narayan Sharma | Publish: Apr, 17 2018 08:03:55 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2018 09:05:30 PM (IST) Bhilwara, Rajasthan, India

लोग मृत व्यक्ति की आत्मा की मुक्ति के लिए ढोल ढमाकों के साथ तंत्र मंत्र के साथ तांत्रिक क्रिया करते हैं

करेड़ा।

जहां हम तकनीकी और कप्यूटर युग में जी रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ तंत्र मन्त्र, जादू टोना और आत्मा हमारे जेहन में बसे हुए हैं। इसी अधंविश्वास का नमूना यहां का चिकित्सालय है जहां लोग मृत व्यक्ति की आत्मा की मुक्ति के लिए ढोल ढमाकों के साथ तंत्र मंत्र के साथ तांत्रिक क्रिया करते हैं। ताकि उस मृत व्यक्ति की आत्मा को मुक्ति मिल जाए। जहां उस व्यक्ति की मृत्यु हुई थी।

 

READ: पटेलनगर टैंक हादसा: मृतकों के शव घर पहुंचे तो देखने वालों की आंखें हुई नम

 

मंगलवार को भी यहां खुलेआम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक मृत व्यक्ति की आत्मा के लिए कुछ लोगों ने तंत्र साधना की। बस स्टैंड पर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में एक ही परिवार के कुछ लोग करीब घंटे से ज्यादा समय तक परिवार के सदस्य की आत्मा की मुक्ति के नाम पर पूजा अर्चना और तंत्र साधना करते नजर आए। इन्हें देख चिकित्सालय में भर्ती मरीज सहम गए। यहां तक की इस तरह के अंधविश्वासी लोगों को कुछ कहने वाला तक नहीं था।

 

READ: हरिद्वार-उदयपुर एक्सप्रेस के आगे आत्‍महत्‍या के लिए आई पत्नी को बचाने मासूम को गोद में लेकर दौड़ता पति, लोको पायलट ने लगाए ब्रेक


चारों तरफ फैला धुंआ
तांत्रिक क्रिया के नाम पर दी गई धूप और अन्य पदार्थों को आग में डालने से इसकी धुंआ अस्तपाल में चारों तरफ फैल गई। कई मरीज इससे परेशान दिखे।

 

READ: टैंक की सफाई करने उतरे मकान मालिक बचाने उतरे दो पड़ौसियों समेत तीन की जहरीली गैस से मौत, मचा हाहाकार

 

अंधविश्वास के नाम पर बच्चों पर ढहाए जुल्म
गौरतलब है जिले में अंधविश्वास की पूर्व में भी कई घटनाएं हो चुकी है। बीमारियों से बचने के लिए लोगों ने मासूमों पर जुल्म ढहाए हैं। छोटे बच्चों को निमोनिया, सर्दी, खासीं व जुकाम से बचने के लिए इन मासूमों के पेट पर गर्म सलाखों से दाग कर डाम लगाया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned