दस किसानों को बुलाया आए दो

समर्थन मूल्य में किसानों ने नहीं दिखाई रुचि

By: Suresh Jain

Published: 10 Apr 2019, 07:58 PM IST

भीलवाड़ा।

समर्थन मूल्य पर सरकारी खरीद शुरू हुए आठ दिन हो गए लेकिन सभी 13 खरीद केंद्रों पर नियमित खरीद नहीं हो पा रही है। कई जगह खरीद की व्यवस्था तक नहीं हुई तो कुछ सेंटर पर सरसों को गीला बता लौटा रहे हैं। व्यवस्थापक बकायदा किसानों से सरसों को घर पर सुखाकर लाने की हिदायत दे रहे हैं। किसानों में संशय है कि समर्थन मूल्य पर 25 क्विंटल खरीद होगी या नहीं। इसे लेकर किसानों में आक्रोश है।

भीलवाड़ा कृषि मण्डी में मंगलवार को सरसों की सरकारी खरीद शुरू हुई। केंद्र पर किसानों के रजिस्ट्रेशन हो रहे हंै। इसमें से 10 किसानों को सोमवार को खरीद टोकन दिए लेकिन सरसों तुलाई के लिए एक ही किसान आया। मंगलवार को १० भी १० टोकन जारी किए लेकिन दो दिन में मात्र तीन किसान आए। इनमें दो किसानों ने चने तथा एक ने सरसों का तोल कराया। सरसों की सरकारी खरीद राजफैड से सोमवार को आठवें दिन शुरू हो पाई।

क्रय विक्रय सहकारी समिति के मैनेजर रामेश्वर तेली ने बताया, चने व सरसों की खरीद के लिए भीलवाड़ा तहसील के किसान नहीं आ रहा है। मण्डी में सरसों व चने की बम्पर आवक है। मण्डी में समर्थन मूल्य से भाव कम होने के बाद भी किसान खुले में बेचना ज्यादा पसंद कर रहा है। समिति तय मापदंडों के अनुसार खरीद करेगी। सोमवार को पहले दिन ३५ क्विंटल चना तथा मंगलवार को ८ क्विंटल सरसों तुली है। सरसों का सरकारी मूल्य 42०० रुपए है जबकि मण्डी में 3300 से 3600 तक के भाव मिल रहे हैं। इसी प्रकार चने के भाव मण्डी में ४१०० से ४२०० रुपए बोले जा रहे है। समर्थन मूल्य ४६२० रुपए है। यहीं हालात जिले के सभी सेन्टरों के है। गेहंू की खरीद भी अभी तक शुरू नहीं हो पाई है।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned