हाईवे पर बैठे मवेशी बन रहे सड़क हादसों की बड़ी वजह

सुरक्षा दीवार या रैलिंग लगवाएं

By: Suresh Jain

Published: 08 Oct 2021, 07:23 PM IST

भीलवाड़ा
शहर के तीन तरह गुजर रहे राष्ट्रीय राजमार्ग पर मवेशियों के झुंड वाहनों चालकों के लिए परेशानी की बड़ी वजह बन गए हैं। बात चाहे अजमेर हाइवे की हो या चित्तौड़ या फिर कोटा हाइवे की, जगह-जगह झुंड के रूप में बैठे पशु वाहन हादसों की वजह बने हुए हैं। मवेशियों के बीच सड़क पर बैठने से राहगीरों व गाडिय़ों को निकलने में परेशानी होती है। आए दिन बीच सड़क पर बैठे पशुओं से हादसे हो रहे हैं।
इतना ही नहीं ये पशु हाइवे पर झुंड के झुंड दौड़ लगाते है। डिवाइडर पर अचानक कूदकर दूसरी तरफ निकल जाते हैंं। इससे सामने से आ रहे वाहन चालक को दिखाई नहीं देते और वाहन अनियंत्रित होकर हादसाग्रस्त हो जाते हैं। इस दौरान कई मवेशियों की जान चली जाती है तो कई जख्मी हो जाते हैं। कई वाहन चालक घायल हो जाते हैं।
यह हो सकता है बचाव
लावारिश पशुओं को गोशालाओं में रखा जाए या लोगों के सुपुर्द किया जो इनकी देखभाल कर सके।
हाइवे पर आबादी के समीप स्पीड ब्रेकर बनाए जाएं।
आबादी में सड़क के दोनों तरफ सुरक्षा दीवार या रैलिंग लगवाएं ताकि मवेशी सड़क पर नहीं आएं।
केस-01
27 सितंबर को मंगरोप थाना क्षेत्र में बाइक पर ससुराल जा रहे युवक की बीच सड़क पर मवेशी की टक्कर से मौत हो गई। रीछड़ा निवासी राजेन्द्रसिंह चौहान(27) बाइक पर ससुराल जा रहा था। रतनपुरा के निकट अचानक बैल के सामने आने से टक्कर हो गई। इससे सिर में गंभीर चोट लगने से मौत हो गई।
केस-02
सात सितंबर को लक्ष्मीपुरा में दो बैल भिड़ रहे थे, जिससे महिला घायल हो गई। लक्ष्मीपुरा की छोटी देवी गाडरी तड़के 4 बजे हरि बोल प्रभात फेरी में गई थी। हरिबोल कीर्तन के दौरान बीच रास्ते बैठे दो बैल अचानक भड़क उठे। इससे छोटी देवी गाडरी घायल हो गई थी। महिला के हाथों में चोटे आई थी।
केस-03
तीन सितंबर 2021 को जिले के जहाजपुर थाना क्षेत्र के नाडिया कस्बे में नेशनल हाइवे 148डी पर 20 से अधिक पशुओं की मौत के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने जाम लगा दिया था। इससे यातायात बाधित हुआ। पुलिस-प्रशासन ने समझाइश की तब ग्रामीणों ने जाम खोला। टोल प्लाजा वैन कर्मचारियों ने इन पशुओं को हटवाया।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned