पावर में बदला नजरिया तो छीजत भी होने लगी कम

पावर में बदला नजरिया तो छीजत भी होने लगी कम
Changes in power also reduced the appearance

Narendra Kumar Verma | Updated: 11 Oct 2019, 10:46:35 PM (IST) Bhilwara, Bhilwara, Rajasthan, India

अजमेर डिस्कॉम में शुमार प्रदेश के ११ जिलों में छीजत कम करने के मामले में भीलवाड़ा जिले ने श्रेष्ठता साबित की है। भीलवाड़ा जिले ने एक साल में गत वर्ष की तुलना में करीब एक फीसदी छीजत कम की है। जो कि रिकार्ड है, वही प्रतापगढ़ जिला छीजत को माइनस में कर अव्वल रहा है।

भीलवाड़ा। अजमेर डिस्कॉम में शुमार प्रदेश के ११ जिलों में छीजत कम करने के मामले में भीलवाड़ा जिले ने श्रेष्ठता साबित की है। भीलवाड़ा जिले ने एक साल में गत वर्ष की तुलना में करीब एक फीसदी छीजत कम की है। जो कि रिकार्ड है, वही प्रतापगढ़ जिला छीजत को माइनस में कर अव्वल रहा है।

अजमेर डिस्कॉम राजस्व वसूली को बढ़ाने एवं छीजत को कम करने के अभियान में जुटा हुआ है। इसके लिए अजमेर विद्युत वितरण निगम के प्रबन्ध निदेशक वी. एस. भाटी डिस्कॉम क्षेत्र के जिलों में लगातार दौर पर रहने के साथ अभियंताओं व तकनीकी टीम को क्षेत्र में दौड़ाए हुए है। भीलवाड़ा शहर में भी अजमेर डिस्कॉम के साथ ही सेवा प्रदाता एजेंसी सिक्योर मीटर्स की टीम भी मीटर एवं केबलें बदल कर छीजत को कम करने में जुटी है है।

अधीक्षण अभियंता एसके उपाध्याय ने बताया कि टीम वर्क के प्रयास से जिले में छीजत में कमी आई है। वर्ष २०१८-१९ में छीजत दर ८.६७ फीसदी थी जो इस वर्ष ७.९२ फीसदी रह गई। उन्होंने बताया कि प्रबंध निदेशक के मार्ग निर्देशन में सिक्योर मीटर्स के जरिए मुख्य कार्य उपभोक्ताओं को उच्च गुणवत्ता की सेवा देना है। राजस्व हानि और छीजत कम करने के साथ ही हमें आधुनिक सुरक्षा उपायों पर भी ध्यान दे रहे है। दीपावली और अन्य त्यौहारों की तैयारी के लिए कम से कम शटडाउन एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति हमारी प्राथमिकता है।

यूं रहा छीजत
छीजत में १.६७ फीसदी की कमीप्रबंध निदेशक वीएस भाटी ने बताया कि अजमेर डिस्कॉम क्षेत्र में उदयपुर, भीलवाड़ा, ब्यावर, राजसमंद, सीकर एवं झुंझुनूं और किशनगढ़ आदि शहरों में 10 प्रतिशत से कम छीजत है। अजमेर डिस्कॉम की छीजत अब तक के सबसे निचले स्तर पर १५.७४ प्रतिशत पर आ गई है। पिछले साल सितम्बर में छीजत १७.४१ प्रतिशत थी। इसमें १.६७ प्रतिशत की कमी आई है। प्रतापगढ़ में छीजत माइनस में चल रही है। भीलवाड़ा, चित्तौड़, डूंगरपुर में तो छीजत १० प्रतिशत से भी कम है। निगम के १२ में ८ जिलों में छीजत दहाई में है।

प्रतापगढ़ में सबसे कम
चार जिलों में अजमेर सिटी से भी कम छीजत प्रतापगढ़ में माइनस २.१७ प्रतिशत, डूंगरपुर में ५.३३ प्रतिशत, चित्तौडग़ढ़ में ७.८० प्रतिशत, भीलवाड़ा में ७.९२ प्रतिशत है। अजमेर सिटी सर्किल में ८.३२ प्रतिशत छीजत है। राजसमन्द में १०.२९ प्रतिशत, अजमेर जिले में छीजत ११.९१ प्रतिशत है। नागौर में ३५.१९ प्रतिशत, उदयपुर में १२.७९ प्रतिशत, बांसवाड़ा में १८.५७ प्रतिशत, झुंझुनूं में १७.२२ प्रतिशत तथा सीकर में छीजत १५.८७ प्रतिशत है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned