गढिमलियान के तंग क्षेत्र में करंट दौड़ा तो इसी माह चेतक

विद्युतिकृत अजमेर-उदयपुर रेल मार्ग पर बिजली से दौडऩे वाली पहली इंजन रेल गाड़ी चेतक होगी। सब कुछ ठीक रहा तो ये ट्रेन इस माह के अंत तक पटरी पर दौडऩा शुरू कर देगी। फिलहाल अजमेर जिले के आदर्शनगर व मदार रेलवे स्टेशन क्षेत्र में ही विद्युतिकरण का आंशिक कार्य अभी अटका हुआ है। इसमें मुख्यत: अजमेर-आदर्शनगर के बीच स्थित बड़े रेलवे ब्रिज गढिमलियान से तंग क्षेत्र से विद्युत प्रवाहित कराना तथा मदार क्षेत्र में ओसी चार्ज कार्य शामिल है।

भीलवाड़ा। विद्युतिकृत अजमेर-उदयपुर रेल मार्ग पर बिजली से दौडऩे वाली पहली इंजन रेल गाड़ी चेतक होगी। सब कुछ ठीक रहा तो ये ट्रेन इस माह के अंत तक पटरी पर दौडऩा शुरू कर देगी। फिलहाल अजमेर जिले के आदर्शनगर व मदार रेलवे स्टेशन क्षेत्र में ही विद्युतिकरण का आंशिक कार्य अभी अटका हुआ है। इसमें मुख्यत: अजमेर-आदर्शनगर के बीच स्थित बड़े रेलवे ब्रिज गढिमलियान से तंग क्षेत्र से विद्युत प्रवाहित कराना तथा मदार क्षेत्र में ओसी चार्ज कार्य शामिल है।

माना जा रहा है कि रेलवे की तकनीकी व इलेक्ट्रिक ये सभी कार्य २५ दिसम्बर तक पूर्ण कर लेगी। रेलवे सूत्र बताते है कि ये सभी तमाम कार्य पूर्ण होने के बाद सीआएस व लोको पायलट ट्रायल का कार्य भी इसी माह में पूर्ण हो जाएंगे।

अटक गई काम की गति
अजमेर-उदयपुर वाया भीलवाड़ा रेल मार्ग का विद्युतीकृत रेल मार्ग का कार्य गत वर्ष ही पूर्ण हो गया था और अप्रेल २०१९ में अजमेर-जयपुर रेल मार्ग के भी पूर्णत: विद्युतिकृत होने की संभावना के चलते जून २०१९ में चेतक एक्सप्रेस (उदयपुर-दिल्ली सराय रोहिल्ला) के संचालन की तैयारी थी। इसका मार्ग वाया फुलेरा व रींंगस भी तय था। लेकिन लोकसभा चुनाव होने से विद्युतिकरण कार्य अजमेर के आदर्शनगर-मदार मार्ग तथा जयपुर मार्ग पर ठप हीे हो गया। एेसे में जयपुर-उदयपुर रेल मार्ग पर पहली विद्युतिकृत ट्रेन संचालन की उम्मीद समय रहते पूरी नहीं हो सकी।

तीन साल से दौड़ रहा करंट

आदर्शनगर (अजमेर)- डेट (उदयपुर) रेल मार्ग के विद्युतिकरण के बाद ट्रेन संचालन को लेकर उच्च क्षमता का करंट करीब तीन साल से रेल मार्ग की विद्युत लाइनों में करंट दौड़ रहा है। लेकिन यहां ट्रेन का संचालन अभी तक नहीं हो सका है।

प्रति माह पांच लाख का बिल

सूत्रों के अनुसार रेलवे अभी प्रति माह पांच लाख रुपए तक के बिजली बिल का भुगतान कर रही है। करंट छोड़े जाने के बाद रेलवे ने हाई अलर्ट जारी कर क्षेत्र के लोगों, वाहन चालकों व राहगीरों को भी सावचेत कर रखा है।छह सब स्टेशनविद्युृतिकरण के लिए रेलवे ने अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौडग़ढ़ व उदयपुर जिले में छह रेलवे स्टेशन पर विद्युत सब स्टेशन स्थापित किए है। प्रत्येक सब स्टेशन की क्षमता २५ किलोवाट है। भीलवाड़ा में सरेरी व हमीरगढ़ तथा चित्तौडग़ढ़ में चंदेरिया रेलवे स्टेशन के निकट ये सब स्टेशन बने है।

............................................................................

एक नजर

११.१.१८ अजमेर-उदयपुर रेल मार्ग विद्युतिकरण

२९ फरवरी २०१६: विद्युतिकरण के लिए ३२०.२८ करोड़ का बजट

रेल मार्ग: २९४.५०-३८१.४० (सिंगल )

०२ जुलाई २०१६: अजमेर के आदर्शनगर से विद्युतिकरण कार्य शुरू निर्माण

०६ जनवरी २०१७: उदयपुर-अजमेर रेल खंड पर विद्युतिकरण कार्य को लेकर हाई अलर्ट

१० जनवरी २०१७: रेल मार्ग के विद्युत लाइनों में २२०० वॉल्टेज का करंट प्रवाहित

९ अक्टूबर २०१७: भीलवाड़ा में हाइट गेट, भारी वाहन नहीं आ सकेंगे

२७ मार्च २०१८: मांडल-नसीराबाद के बीच पहला इंजन दौड़ा (सीआरएस की हरी झंडी )

१८ मार्च २०१९: उदयपुर-देबारी, डेट से चंदेरिया के बीच इंजन दौड़ा

२५ अप्रेल २०१९: चेतक एक्सप्रेस संचालन की बनी कार्ययोजना

...........................................

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned