Video:वो सीमा पर भूूने गए, उन्‍हें भुना कोई ओर रहा...

हंसी का तराना, ठहाकों के पटाखे व व्यंग्य की फुलझडिय़ां। सब कुछ एक साथ, लेकिन अलग-अलग तेवर में। जब हंसी के फव्वारे छूटे तो उसकी बारिश से कोई भी अछूता नहीं रहा। क्या हुक्मरान, क्या मुलाजिम और क्या पुलिस। कोई कवियों के व्यंग्य बाणों के वार से बच नहीं पाया।

Bhilwara, Rajasthan, India

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned