मकान मालिकों में कोरोना का खौफ

किराएदारों को दे रहे अल्टीमेट
शहर व जिले में सैकड़ों की संख्या में रहते है नर्सिग स्टॉफ व डाक्टर

भीलवाड़ा.

Corona virus देश व विदेश में महामारी का रूप ले चुका कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के इलाज में जुटे डॉक्टर्स, नर्सों और पैरामेडिकल स्टाफ से अब मकान मालिक घबराने लगे हैं। राजस्थान में सबसे अधिक २० रोगी कोरोना पॉजिटिव आने के बाद से अब मकान मालिक अपने नर्सिग स्टाफ से किराए पर ले रखे मकान को खाली करने का अल्टीमेटम दे दिया है। इससे नर्सिग स्टाफ के सामने एक नया सकंट खड़ा हो गया है। Corona virus माना जा रहा है कि शहर व जिले में दो हजार से अधिक नर्सिग स्टाफ किराए के मकान में रहते है। हालांकि एक नर्सिंग स्टाफ को मकान मालिक के अल्टीमेटम देने पर बाद में उसे समझा दिय गया।
सूत्रों का कहना है कि भीलवाड़ा के महात्मा गांधी अस्पताल हो या बृजेश बांगड़ मेमोरियल हॉस्पिटल फिर और कोई इन अस्पतालों में काम करने वाले नर्सिग स्टाफ, पैरा मेडिकल स्टाफ, डाक्ॅटरों व मकान मालिकों के बीच किराए को लेकर अनबन शुरू हो गई है। इसे लेकर अब नर्सिग स्टाफ को डर सताने लगा है कि ऐसी स्थिति में वे मकान को खाली करके कहां जाए। यह समस्या किसी एक नर्सिग स्टाफ या डाक्टर के साथ नहीं हो रही बल्कि हर कर्मचारी के साथ हो रहा है। मुख्य रूप से नर्सिग स्टाफ प्रतिदिन कोरोना बायरस के बीच रहकर रोगियों का उपचार कर रहे है। ऐसे में मकान मालिकों के दिल में एक डर बैठ गया है कि कोरोना वायरस उन तक आ गया तो क्या होगा।
-----------
कोई खतरा नहीं है
शहर के अस्पतालों खासकर महात्मा गांधी चिकित्सालय में डॉक्टरों व नर्सिंग स्टाफ से मकान मालिकों की ओर से गलत व्यवहार की शिकायत मिली है। यह दुखद है। इलाज में लगे डॉक्टरों और स्टाफ की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जाता है। उनसे वायरस फैलने की कोई गुंजाइश नहीं है। पूरा राजस्थान व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत स्वयं उनकी निस्वार्थ सेवा की सराहना कर रहे हैं।
डॉ. अरूण गौड़ अधीक्षक एमजीएच
-------
सेनेटाइज होकर निकलते है स्टॉफ
कोरोना वायरस रोगियों के देखरेख में लगे है सभी कर्मचारी पूरे उपकरण के साथ काम कर रहे है। वहां से निकलने से पहले अपने आप को सेनेटाइज करके बाहर निकलते है। घर जाकर भी वे सेनेटाइज हो रहे है। वे खतरों के बीच रह कर काम कर रहे है। उनका हौसला बढ़ाना चाहिए न की मानसिक प्रताडऩा देने चाहिए।
डा. महेश गर्ग, सचिव आइएमए
-----
शिकायत मिलती है तो होगी कार्रवाई
कोरोना वायरस से पीडि़त मरीजो की सेवा करने के लिए डाक्टर व नर्सिंग स्टाफ लगा है। उनसे मकान खाली कराने की अभी कोई शिकायत तो नहीं मिलीए लेकिन कोई ऐसा करता है तो मकान मालिक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। क्योंकि डाक्टरों व नर्सिग स्टाफ की पूरी सुरक्षा की जा रही है। वे सभी हर शहरवासी को बचाने के लिए दिन रात लगे है। उनकी जितनी सराहना की जाए वह भी कम है। फिलहाल किसी की शिकायत नहीं मिली है।
एनके जैनए एडीएम सिटी भीलवाड़ा
--------
कोई भी नर्सिंग स्टाफ से लेकर डॉक्टर तक जोकि कोरोना वायरस के मरीज की सेवा में है वह पूरी तरह से अपने पर्सनल प्रोटक्शन इक्विपमेंट के साथ सेवा में उपलब्ध रहता है तथा उसके सैनिटाइजेशन का पूरा ध्यान रखा जाता है। वह डॉक्टर एवं स्टाफ भी अपने सैनिटाइजेशन का पूरा ध्यान रखता है क्योंकि उसको भी कोरोना से संक्रमण का खतरा रहता है। ऐसे समय में हमें उनके कार्य को नमन करना चाहिए तथा उनका पूर्ण सहयोग करना चाहिए।
डॉक्टर दुष्यंत शर्मा अध्यक्ष, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन भीलवाड़ा

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned