एक तरफ कोरोना तो दूसरी और बादलो का खौफ

भीलवाड़ा में कोरोना का कहर

भीलवाड़ा।
Corona on one side and fear of the other in bhilwara इन दिनों शहर हो या गांव हर जगह खौफ का आलम नजर आ रहा है। भीलवाड़ा में कोरोना का कहर जारी होने तथा प्रदेश में लॉकडाउन होने के कारण सबसे ज्यादा परेशानी शहरी लोगों को हो रही है।
Corona on one side and fear of the other in bhilwara दूसरी तरफ ग्रामीण क्षेत्र के लोग अभी भी कोरोना को नहीं समझ रहे हैंए लेकिन उनके सिर पर दूसरा खौफ सवार है। इस समय किसानों की फसल पक कर कटने के लिए तैयार खड़ी है। किसान युद्ध स्तर पर पक चुकी फसल को काटने में जुट गए हैंए लेकिन जैसे ही आसमान में काली घटाओं के साथ तेज ठंडी हवा चलती हैए किसानों की जान हलक में आ जाती है। पिछले दो दिन से सुबह अचानक तेज ठंडी हवा चलने लगी। आसमान पूरी तरह बादलों से घिर गया। हवा से इस बात का अहसास हो रहा था कि कहीं न कहीं बरसात हुई है। बस इतना था कि ग्रामीण क्षेत्र में पांच माह से फसल को बच्चों की तरह पाल रहे किसानों की जान हलक में आ गई। मौसम क्या खराब हुआ कि किसानों को देवी देवता याद आ गए। जिन किसानों की फसल कट कर खेत में सूखने के लिए पड़ी है या पगरी लग चुकी हैं। उनको हवा का खौफ सताने लगा।
पिछले कुछ सालों से इन दिनों तेज हवा के साथ आंधी चलने से किसानों के खेतों में सूखने के लिए रखी फसलों को नुकसान हो रहा है। ऐसे में इस बार किसान किसी भी प्राकृतिक आपदा को झेलने की स्थिति में नहीं हैं। कुछ दिन पहले होली के समय जिले में ओले गिरने से किसानों को मामूली नुकसान हुआ थाए लेकिन दिनों आसमान में बादल छाए रहने से उनके सामने चिन्ताए सताने लगी है। कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना है कि मौसम में लगातार परिर्वतन हो रहा है। अभी भी घरों में पूरी तरह से पंखे नहीं चले है। खेतों में खड़ी फसल भी पूरी तरह से तैयार नहीं हुई है। कुछ ही खेतों में फसल कटने लगी है।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned